comScore

अब जीयो यूजर्स को दूसरे नेटवर्क पर कॉल करने के देने होंगे 6 पैसे प्रति मिनट

अब जीयो यूजर्स को दूसरे नेटवर्क पर कॉल करने के देने होंगे 6 पैसे प्रति मिनट

हाईलाइट

  • 10 अक्टूबर से लागू होगा शुल्क, इसके बदले कंपनी देगी फ्री डेटा
  • दूसरे नेटवर्क पर कॉल के लिए जियो ग्राहकों को कराना होगा टॉप-अप वाउचर
  • इंटरनेट कॉल और इनकमिंग कॉल पहले की तरह फ्री रहेंगे

डिजिटल डेस्क, मुंबई। रिलायंस जियो को अब दूसरे नेटवर्क पर कॉल करने के लिए 6 पैसे प्रति मिनट की दर से चार्ज देना पड़ेगा। इसके लिए यूजर्स को इंटरकनेक्ट यूजेज चार्ज (आईयूसी) टॉप-अप करवाना पड़ेगा।हालांकि कंपनी कस्टमर्स के इस नुकसान की भरपाई डेटा के जरिए करेगी। कंपनी ने बुधवार को जारी एक बयान में कहा कि दूसरे नेटवर्क पर कॉल करने के लिए यूजर्स को 6 पैसा प्रति मिनट देना होगा, कंपनी इसके बदले यूजर्स को इतनी ही कीमत का डेटा उपलब्ध कराएगी।

वहीं जियो से जियो पर कॉल करने पर कोई चार्ज नहीं लगेगा। इसके अलावा इंटरनेट कॉल और इनकमिंग कॉल पहले की तरह फ्री रहेंगे। जियो ने यह एलान टेलीकॉम रेगुलेटर ट्राइ के फैसले के बाद लिया है। जियो 10 अक्टूबर से यह शुल्क लागू करेगा। 29.08 प्रतिशत मार्केट पर जियो का कब्जा है, लिहाजा इस बदलाव के कारण जियो के करीब 35 करोड़ ग्राहक प्रभावित होंगे। दूसरे नेटवर्क पर कॉल के लिए जियो ग्राहकों को अब टॉप-अप वाउचर कराना होगा। 

ज्ञात हो कि 2017 में इंटरकनेक्ट यूसेज चार्ज के ​लिए रिलांयस जीयो ने टेलीकॉम रेग्युलेटरी अथॉरिटी ऑफ इंडिया (ट्राई) को 6 पैसे प्रति मिनट तक घटा दिया था। इसके पहले 14 पैसे आईयूसी चार्ज देना पड़ता था। इस चार्ज को एक जनवरी 2020 से इसे पूरी तरह खत्म करने का प्रस्ताव था, लेकिन  ट्राइ ने कंसल्टेशन पेपर मंगवाया है कि क्या इस टाइमलाइन को बढ़ाने की जरूरत है। इसलिए, ये शुल्क आगे भी जारी रह सकता है।

जियो ने तीन साल में 13,500 करोड़ रुपए चुकाया IUC चार्ज
जियो के अनुसार पिछले 3 सालों में वह आईयूसी चार्ज के तौर पर 13,500 करोड़ रुपए का भुगतान दूसरे ऑपरेटरों को कर चुकी है। अब तक इसका बोझ ग्राहकों पर नहीं डाल रहे थे। लेकिन, ये शुल्क 31 दिसंबर के बाद भी जारी रहने की आशंका को देखते हुए मजबूरन फैसला लेना पड़ा। जियो के नेटवर्क पर रोज 25-30 करोड़ मिस कॉल आते हैं। यानी हम अपने ग्राहकों के साथ ही दूसरे ऑपरेटरों के ग्राहकों को भी सुविधा दे रहे थे।

क्या है इंटरकनेक्ट यूसेज चार्ज (IUC)?
इंटरकनेक्ट यूसेज चार्ज या IUC एक मोबाइल टेलिकॉम ऑपरेटर द्वारा दूसरे को भुगतान की जाने वाली रकम है। दो अलग-अलग नेटवर्क के बीच ये कॉल मोबाइल ऑफ-नेट कॉल के रूप में जानी जाती हैं। भारतीय दूरसंचार नियामक प्राधिकरण (TRAI) द्वारा IUC शुल्क निर्धारित किए जाते हैं और वर्तमान में यह 6 पैसे प्रति मिनट हैं। जैसे जीयो  कस्टमर को आईडिया कस्टमर पर कॉल करना है तो जीयो को आईडिया IUC चार्ज पेय करेगा।

29.08 प्रतिशत मार्केट पर जियो का कब्जा
रिलायंस जियो की टेलिकॉम मार्केट में इंट्री के बाद से ही यूजर्स तेजी से जियो की ओर शिफ्ट हुए। मौजूदा स्थिति पर गौर करें तो वोडाफोन-आइडिया का मार्केट शेयर 32.53 प्रतिशत, जियो का मार्केट शेयर 29.08 प्रतिशत और एयरटेल का शेयर 28.12 प्रतिशत है। जियो का मार्केट शेयर बढ़ने के साथ ही उसके नेटवर्क से बाकियों पर जाने वाली आउटगोइंग कॉल्स की संख्या बढ़ी है। इसके लिए जियो कस्टमर्स से अब तक अलग से कोई चार्ज नहीं ले रहा था, लेकिन उसे कंपनियों को आईयूसी का भुगतान करना पड़ता था। 

कमेंट करें
1cMYC