comScore

मप्र की सियासी जंग में सोशल मीडिया बना हथियार

June 08th, 2020 12:16 IST
 मप्र की सियासी जंग में सोशल मीडिया बना हथियार

हाईलाइट

  • मप्र की सियासी जंग में सोशल मीडिया बना हथियार

भोपाल, 7 जून (आईएएनएस)। मध्यप्रदेश में कोरोना वायरस के संक्रमण को रोकने के लिए उठाए गए एहतियाती कदमों के चलते सियासी जंग का अंदाज ही बदल गया है और यहां तमाम नेता एक-दूसरे पर हमला करने के लिए सोशल मीडिया को बतौर हथियार इस्तेमाल कर रहे हैं। ऐसा इसलिए क्योंकि उन्हें सभाएं और बैठकें करने का मौका जो नहीं मिल रहा है।

राज्य में बीते लगभग ढाई माह से सियासी गतिविधियां पूरी तरह थमी हुई है, इस अवधि में राज्य में सत्ता परिवर्तन भी हुआ है और सत्ता की कमान कांग्रेस के हाथ से खिसक कर भाजपा के हाथ में आ गई है और वर्तमान में शिवराज सिंह चौहान मुख्यमंत्री रहते हुए सरकार का संचालन कर रहे हैं।

सत्ता में हुए बदलाव के बाद कोरोना संक्रमण बढ़ा, किसानों की गेहूं खरीदी हो रही है, बिजली उपभोक्ताओं को लेकर दी जाने वाली राहत में बड़ा बदलाव हुआ है और उसके बाद बारिश के कारण गेहूं भीग गया है। इन मुद्दों को लेकर भाजपा और कांग्रेस के नेताओं में सियासी जंग तेज है और दोनों ही दलों के नेता एक-दूसरे पर सोशल मीडिया को हथियार बनाकर हमले बोल रहे हैं क्योंकि उन्हें वर्तमान में सभाएं और बड़ी बैठकें करने की अनुमति जो नहीं है।

राज्य में पिछले दिनों हुई आपराधिक मामलों का जिक्र करते हुए पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान और भाजपा की सरकार पर हमला बोलते हुए कहा, शिवराज सरकार में लॉकडाउन में भी दुष्कर्म , गैंगरेप , हत्या , चोरी , लूट की घटनाएं रुक नहीं रही है। मासूम बच्चियां भी सुरक्षित नहीं? जो लोग विपक्ष में इस तरह की घटनाओं पर मासूम बच्चियों को लेकर धरना देते थे, आज सत्ता में आते ही ऐसी घटनाओं पर मौन क्यों है?

पूर्व मुख्यमंत्री कमल नाथ ने किसानों की समस्याओं का जिक्र करते हुए ट्वीट कर कहा, शिवराज जी, आप समर्थन मूल्य पर गेहूं खरीदी के भले बड़े-बड़े दावे करे , खूब आंकड़े जारी करे लेकिन सच्चाई इसके विपरीत है। किसान भाइयों को अपनी उपज बेचने के लिये काफी परेशानियो का सामना करना पड़ रहा है। कई- कई दिन तक भीषण गर्मी व लू में अपनी उपज बेचने के लिये भूखा-प्यासा किसान कई किलोमीटर तक लंबी लाइन में लगा हुआ है, उनकी कोई सुध लेने वाला नहीं है।

वहीं मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने गेहूं खरीदी के मामले में रिकार्ड बनाए जाने पर किसानों को बधाई देते हुए कहा, यही है हमारे किसान बन्धुओं की पहचान! इन्हीं से है मध्यप्रदेश की आन, बान और शान!

कांग्रेस की ओर से सोशल मीडिया का उपयोग कर किए जा रहे हमलों का मुख्यमंत्री चौहान ने ट्विटर पर अपने ही अंदाज में जवाब दिया है। उन्होंने लिखा है कि, मेरा कांग्रेसी मित्रों से ये आग्रह है कि वो अपने ट्वीट की संख्या बढ़ाए और उचित समय का भी ध्यान रखे। आजकल ये हो रहा है कि वो किसी भी वस्तु को मुद्दा कहते हुए ट्वीट-ट्वीट खेलते रहते है, और मैं पहले ही जनता की हर एक समस्या का संज्ञान ले कर उसके निवारण हेतु काम शुरू कर देता हूं।

चौहान ने कमल नाथ की पूर्ववर्ती सरकार पर हमला करते हुए कहा, जब उनकी सरकार थी तब भ्रष्टाचार छोड़ अगर उन्होंने जनता के सोशल इशूज का संज्ञान लिया होता तो आज सोशल मीडिया का सहारा नहीं लेना पड़ता! चलिए कोई बात नहीं, वो राजनीति करते रहे और हम काम। जनता तो सब जानती ही है।

सियासी दलों के नेताओं में चल रहे सोशल मीडिया वार पर राजनीतिक विश्लेषकों का मानना है कि नेता खाली बैठ नहीं सकते, वर्तमान में कोरोना के कारण उन्हें सभाएं करने, कार्यकर्ताओं की बड़ी बैठकें करने का मौका मिल नही रहा है, तो वे मीडिया तक अपनी बात पहुंचाने के लिए वीडियो कांफ्रेंसिंग कर रहे तो दूसरी ओर ट्विटर पर ज्यादा ही सक्रिय है। यह ट्विटर का वार राजनीतिक दल और नेता को सियासी तैार पर ज्यादा फायदा पहुंचा पाएगा, इसमें शक है। फिर भी नेताओं को अपनी बात कहने के लिए कोई न कोई प्लेटफार्म तो चाहिए और यही कारण है कि वर्तमान हालात में वे सोशल मीडिया का बेतहर उपयोग करने की कोशिश में लगे हैं।

कमेंट करें
WvpIT