दैनिक भास्कर हिंदी: निराशा: वीरधवल खाडे ने कहा, अगर स्वीमिंग पूल बंद रहेंगे, तो संन्यास के बारे में सोचना होगा

June 15th, 2020

हाईलाइट

  • अगर पूल बंद रहेंगे तो संन्यास के बारे में सोचना होगा : खडे

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। एशियाई खेलों में कांस्य पदक जीतने वाले तैराक वीरधवल खाडे ने कहा कि, अगर देश में तैराकी संबंधी सुविधाएं बंद रहती हैं, तो वे संन्यास के बारे में सोच सकते हैं। देश में कई खेल सुविधाएं खुल चुकी हैं लेकिन स्वीमिंग पूल अभी तक बंद हैं और इनके खुलने के अभी कोई संकेत नहीं हैं।

खाडे ने दो ट्वीट करते हुए स्वीमिंग पूलों को लेकर स्थिति साफ करने को कहा है। अपने ट्वीट में उन्होंने खेल मंत्री किरण रिजिजू को भी टैग किया। उन्होंने लिखा, तैराकी से संन्यास के बारे में सोचना होगा। तैराकी दोबारा शुरू होने को लेकर कई खबर नहीं, किसी तरह का संपर्क नहीं। उम्मीद है कि तैराकी को भी बाकी खेलों की तरह ही समझा जाएगा।

उन्होंने लिखा, तीन महीने हो गए है भारतीय तैराक पूल में नहीं गए हैं। अगर अन्य खिलाड़ी ट्रेनिंग के दौरान सोशल डिस्टेंसिंग का पालन कर सकते हैं तो तैराक भी कर सकते हैं। मैं आशा कर रहा हूं कि ओलम्पिक के संभावित तैराक इस स्थिति को लेकर संन्यास के बारे में नहीं सोच रहे होंगे। थाईलैंड, आस्ट्रेलिया के कई हिस्सों, इंग्लैंड सहित कई अन्य देशों में स्वीमिंग पूल खोल दिए गए हैं।

भारत में भी गृह मंत्रालय ने कई राहत देते हुए बाजार, शॉपिंग मॉल्स आदि खोल दिए हैं लेकिन स्वीमिंग पूल बंद हैं। भारतीय खेल प्राधिकरण (साई) ने स्वीमिंग संबंधी सुविधाएं खोलने के लिए मानक संचालन प्रक्रिया (एसओपी) बनाने के लिए समिति बनाई है। बाकी अन्य खेलों के लिए एसओपी जल्दी आ गई लेकिन तैराकी को लेकर अभी तक कोई एसओपी नहीं आई है।

 

खबरें और भी हैं...