दैनिक भास्कर हिंदी: M-Yoga App: विश्व योग दिवस पर पीएम मोदी ने लॉन्च किया ऐप, जानें इसकी खासियत

June 21st, 2021

हाईलाइट

  • ऐप में योग प्रशिक्षण से जुड़े कई वीडियो मिलेंगे
  • ऐप में डेटा प्राइवेसी का भी ख्याल रखा गया है
  • विश्व स्वास्थ्य संगठन के सहयोग से तैयार हुआ है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दुनियाभर में आज (21 जून, सोमवार) सातवां अंतरराष्ट्रीय योग दिवस (International Yoga Day) मनाया जा रहा है। इस मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नरेंद्र मोदी (Narendra Modi) ने दुनिया को भारत की ओर से एक और सौगात देते हुए M-Yoga ऐप लॉन्च करने की घोषणा की है। खासियत यह कि इस यह योगा ऐप दुनिया की कई अलग-अलग भाषाओं में उपलब्ध होगा। इस ऐप में योग प्रशिक्षण से जुड़े कई वीडियो मिलेंगे।  

पीएम मोदी ने ऐप को लेकर कहा कि, ‘ये आधुनिक तकनीक और प्राचीन विज्ञान के फ्यूजन का एक शानदार उदाहरण है और यह पूरी दुनिया के लिए बेहद ही उपयोगी साबित होगा। इस ऐप के माध्यम से हमारा ‘One World, One Health’ का उद्देश्य पूरा होगा। उन्होंने कहा कि, अब विश्व को M-Yoga एप की शक्ति मिलने जा रही है। इस ऐप में क्या खास होगा और इस ऐप को लेकर पीएम मोदी ने क्या कहा आइए जानते हैं... 

Vivo V21e 5G सुपर नाइट सेल्फी कैमरा के साथ इस दिन होगा लॉन्च, सपोर्ट पेज लाइव हुआ

M-Yoga ऐप की खूबियां
इस ऐप में कॉमन योग प्रोटोकॉल के आधार पर योग प्रशिक्षण के कई वीडियोज देखने को मिलेंगे। जिससे कि किसी भी व्यक्ति को योगा समझने सी सीखने में परेशानी ना हो और अलग-अलग देशों में योग का प्रसार हो सके। इससे खुद को फिट रखने में मदद मिलेगी। 

डेटा प्राइवेसी
यह ऐप पूरी तरह सुरक्षित है और यूजर से कोई डेटा एकत्र नहीं करता है। इसे 12-65 वर्ष की उम्र के लोग डेली योग साथी के रूप में उपयोग कर सकते हैं।

ऐप किन भाषाओंं में उपलब्ध है?
M-Yoga ऐप वर्तमान में हिंदी, अंग्रेजी और फ्रेंच में उपलब्ध है। यह आने वाले महीनों में संयुक्त राष्ट्र की अन्य भाषाओं में उपलब्ध होगा।

ऐप को किसने डेवलप किया?
WHO की वेबसाइट के अनुसार, M-Yoga ऐप को “वैज्ञानिक साहित्य की समीक्षा और व्यापक अंतरराष्ट्रीय विशेषज्ञ परामर्श प्रक्रियाओं के माध्यम से विकसित किया गया था।

Samsung Galaxy Tab S7 FE और Galaxy Tab A7 Lite: सिम कार्ड सपोर्ट के साथ मिलती हैं ये खूबियां

ऐप में किसका सहयोग
M-Yoga ऐप को विश्व स्वास्थ्य संगठन (WHO) और आयुर्वेद, योग और प्राकृतिक चिकित्सा मंत्रालय, यूनानी, सिद्ध और होम्योपैथी (आयुष मंत्रालय), भारत सरकार के बीच सहयोग से बनाया गया है।