comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

कचरा बीनने वाले शख्स का बेटा बनेगा डॉक्टर, जोधपुर एम्स में हुआ एडमिशन

July 20th, 2018 13:44 IST

डिजिटल डेस्क, देवास। मध्य प्रदेश  के देवास से एक कचरा बीनने वाले शख्स के बेटे, आशाराम चौधरी का सिलेक्शन एमबीबीएस के लिए हुआ है। आशाराम चौधरी की सफलता से उनके घर में खुशी का माहौल है। आशाराम ने डॉक्टर बनने के सपने को साकार करने के लिए जोधपुर के मेडिकल कॉलेज में एमबीबीएस में एडमिशन ले लिया है। 23 जुलाई से उनकी एमबीबीएस की क्लासेस शरू हो जाएगी। इसके अलावा आशाराम किशोर वैज्ञानिक प्रोत्साहन योजना में रिसर्च साइंटिस्ट भी चुने जा चुके हैं। जर्मनी के सिल्वर जोन फाउंडेशन संस्थान में भी उनका चयन हो चुका है, यहां उन्होंने 332वीं इंटरनेशनल रैंक हासिल की।

आशाराम का खुशी जाहिर करते हुए कहा, एम्स से एमबीबीएस करने का मेरा सपना पूरा होने जा रहा है। मेरे माता-पिता मजदूरों के रूप में काम करते थे और उन्होंने मेरे पढ़ाई के लिए  बहुत संघर्ष किया। 'मैं अपने माता-पिता और नवोदय विद्यालय जहां से वित्तीय सहायता प्राप्त हुई। दक्षिणी नींव का भी शुक्रिया अदा करना चाहता हूं। मेरे गांव में एक डॉक्टर ने मुझे इस पेशे को चुनने के लिए प्रेरित किया। अब जब मुझे एमबीबीएस मिल गया है, तो मैं डॉक्टक बनकर लोगों की मदद करना चाहता हूं क्योंकि यहां डिग्री के साथ कोई डॉक्टर नहीं है। "

Image result for Ragpicker’s son gets selected at Jodhpur AIIMS for MBBS, says want to work for his village

आशाराम चौधरी के पिता रणजीत चौधरी यह बताकर दुखी हैं कि परिवार आर्थिक रूप से कमजोर है। उन्होंने कहा, "उन्हें एम्स में प्रवेश मिला है, लेकिन हमारे पास उनके समर्थन के लिए पैसा नहीं है। चलो देखते हैं कि हम क्या कर सकते हैं। अब तक एक डॉक्टर और कलेक्टर ने हमारी मदद की"।

इन्हें दिया सफलता का श्रेय 

माता-पिता के अलावाआशाराम ने अपनी सफलता का श्रेय शिक्षकों और देवास के तत्कालीन एडीएम डॉ. कैलाश बुंदेला को दिया हैं। डॉ. बुंदेला ने उनकी मदद की है। जब एम्स में एडमिशन हुआ तो एडीएम सर ने भी शुभकामनाएं दी।

आशाराम की स्कूल लाइफ 

आशाराम की प्रारंभिक पढ़ाई गांव के पास ही सरकारी स्कूल में हुई। चौथी कक्षा में दत्तोतर के मॉडल स्कूल में प्रवेश लिया। जिसके बाद आशाराम ने कड़ी मेहनत की और छठी में जवाहर नवोदय विद्यालय चंद्रकेशर में पहुंच गए। यहां दसवीं तक पढ़ाई की। जिसके बाद उन्होंने दक्षिणा फाउंडेशन पुणे में अच्छे अंकों के साथ पास 11वीं-12वीं की परीक्षा पास की। इसके साथ में लगातार उन्होंने मेडिकल प्रवेश की तैयारी भी करते रहे और इसी साल मई में एम्स में प्रवेश के लिए आशाराम ने परीक्षा दी।  जिसमें उनकी मेहनत रंग लाई। 

Image result for Ragpicker’s son gets selected at Jodhpur AIIMS for MBBS, says want to work for his village

पारिवारिक परिचय 

मध्य प्रदेश  के देवास से लगभग 40 किमी दूर विजयागंज मंडी में आशाराम चौधरी का परिवार रहता है। आशाराम चौधरी के पिता रणजीत चौधरी पन्नियां बीनकर और खाली बोतलें जमाकर घर का खर्च चलाते हैं, तो कभी खेतों में काम करते हैं। आशाराम की मां ममता बाई एक गृहिणी है। एक छोटी बहन है जो नवोदय विद्यालय में 12 की पढ़ाई कर रही है।

कमेंट करें
IwDYy
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।