comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

एसयवूी: Toyota Fortuner BS6 की कीमत में हुआ इजाफा, जानें नई कीमत

एसयवूी: Toyota Fortuner BS6 की कीमत में हुआ इजाफा, जानें नई कीमत

हाईलाइट

  • BS6 Fortuner के सभी वेरिएंट की कीमत बढ़ी
  • एसयूवी पेट्रोल और डीजल दोनों इंजन में उपलब्ध है
  • कीमत 28.66 लाख से 34.43 लाख रुपए हुई

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। जापानी कंपनी Toyota (टोयोटा) ने अपनी पॉप्युलर एसयूवी Fortuner (फॉर्च्यूनर) को फरवरी माह में BS6 इंजन के साथ लॉन्च किया था। वहीं अब कंपनी ने इसकी कीमत में इजाफा किया है। BS6 Toyota Fortuner के सभी वेरिएंट की कीमत बढ़ाई गई है। इसकी कीमत में 48 हजार रुपए तक की बढ़ोतरी की गई है। इसके साथ ही अब इस एसयूवी की कीमत 28.66 लाख से 34.43 लाख रुपए हो गई है। 

यहां बता दें कि BS6 Toyota Fortuner पेट्रोल और डीजल दोनों इंजन के साथ उपलब्ध है। इनमें से पेट्रोल इंजन में दो वेरियंट और डीजल इंजन चार वेरियंट हैं। बता दें कि इस दमदार और स्टाइलिश एसयूवी के BS6 मॉडल में इंजन के अलावा कोई बदलाव नहीं किया गया है। आइए जानते हैं इसकी कीमत और खासियत...

नए अवतार में आएगी Mahindra Scorpio, टेस्टिंग के दौरान हुई स्पॉट

BS6 Toyota Fortuner के सभी वेरिएंट की नई कीमत...

पेट्रोल वेरिएंट

कीमत

डीजल वेरिएंट

कीमत

4x2 MT

28.66 लाख रुपए

4x2 MT

30.67 लाख रुपए

4x2 AT

30.25 लाख रुपए

4x2 AT

32.53 लाख रुपए

  

4x4 MT

32.64 लाख रुपए

  

4x4 AT

34.43 लाख रुपए

इंजन और पावर
Fortuner BS6 में 2.7 लीटर का पेट्रोल और 2.8 लीटर का डीजल इंजन दिया गया है। पेट्रोल इंजन 166PS की पावर और 245Nm का टॉर्क जनरेट करता है। वहीं, इसका डीजल इंजन 177PS की पावर और 420Nm का टॉर्क जनरेट करता है। वहीं, अतिरिक्त 30Nm टॉर्क इसका ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन जनरेट करता है। 

दोनों ही इंजन 6-स्पीड ऑटोमैटिक ट्रांसमिशन के साथ आते हैं। वहीं, पेट्रोल इंजन 5-स्पीड मैनुअल ट्रांसमिशन के साथ आता है और डीजल 6-स्पीड मैनुअल ट्रांसमिशन के साथ आता है। डीजल पावरट्रेन में 4x4 ड्राइवट्रेन भी दिया जा रहा है।

2020 AMG GT R Coupe और AMG C 63 Coupe भारत में लॉन्च

फीचर्स
Toyota Fortuner BS6 7 सीटों की क्षमता के साथ आती है। इस एसयूवी में आगे की तरफ परफोर्टेड लैदर सीटें और हीट रिजेक्शन ग्लास दिया गया है। इस में नई बेज कलर की सीट अपहोल्स्ट्री भी दी गई है, जो इसे प्रीमियम है। हीट रिजेक्शन ग्लास दस एसयूवी के सभी वेरिएंट में स्टैंडर्ड रखा गया है, वहीं लैदर सीट और बेज कलर अपहोल्स्ट्री डीजल वेरिएंट में मिलती है।

कमेंट करें
dEriQ
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।