दैनिक भास्कर हिंदी: Tokyo Olympics: भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु ने ब्रॉन्ज मेडल जीता, चीन की बिंग जियाओ को हराया

August 2nd, 2021

हाईलाइट

  • टोक्यो ओलिंपिक में पीवी सिंधु का ब्रॉन्ज मेड मैच

डिजिटल डेस्क, टोक्यो। टोक्यो ओलिंपिक में रविवार को भारतीय बैडमिंटन खिलाड़ी पीवी सिंधु और चीन की ही बिंग जियाओ के बीच ब्रॉन्ज मेडल मैच खेला गया। सिंधु ने इस मैच में जियाओ बिंग हो को 21-13, 21-15 से हराया। टोक्यो ओलिंपिक में भारत का यहा तीसरा मेडल है। 

53 मिनट तक चले इस मैच को जीतने के बाद सिंधु दुनिया की चौथी बैडमिंटन खिलाड़ी बन गई हैं, जिन्होंने दो अलग-अलग ओलिंपिक में मेडल जीता है। साथ ही वे दो ओलिंपिक मेडल जीतने वाली दूसरी भारतीय खिलाड़ी और पहली भारतीय महिला खिलाड़ी भी बन गई हैं।

2016 रियो ओलिंपिक में सिंधु ने सिल्वर मेडल जीता था। इंडिविजुअल इवेंट में भारत के लिए इससे पहले सिर्फ पहलवान सुशील कुमार दो ओलिंपिक मेडल जीत पाए हैं। उन्होंने बीजिंग (2008) ओलिंपिक में ब्रॉन्ज और लंदन ओलिंपिक (2012) में सिल्वर मेडल जीता था।

टोक्यो ओलिंपिक में भारत के तीन मेडल हो गए हैं। वेटलिफ्टर मीराबाई चानू ने सिल्वर जीता है। वहीं, मुक्केबाज लवलिना बोरगोहेन ने महिलाओं की 69 किलोग्राम वेट कैटेगरी में कम से कम ब्रॉन्ज पक्का कर लिया है।

सिंधु की इस जीत पर अभिनव बिंद्रा ने एक चिट्ठी लिखी। उन्होंने सिंधु को इस जीत की बधाई दी।

Image

बता दें कि पीवी सिंधु को सेमीफाइनल मुकाबले में विश्व की नंबर-1 चीनी ताइपे की ताई जू यिंग के हाथों 0-2 से हार का सामना करना पड़ा था। रियो ओलंपिक की रजत पदक विजेता सिंधु भारत की सबसे बड़ी पदक उम्मीद थी और जिस तरह उन्होंने टोक्यो में अबतक प्रदर्शन किया था उससे लग रहा था कि वह इस बार स्वर्ण पदक ला सकती हैं। लेकिन इस हार के साथ उनका यह सपना टूट गया।

छठी सीड सिंधु को दूसरी सीड जू यिंग के हाथों 40 मिनट तक चले मुकाबले में 18-21, 12-21 से हार का सामना करना पड़ा। सिंधु ने पहले गेम में बेहतर किया और शुरूआत में बढ़त भी ली लेकिन जू यिंग ने वापसी करते हुए पहला गेम अपने नाम किया। इसके बाद दूसरे गेम में सिंधु कोई चुनौती पेश नहीं कर सकीं और यह गेम भी हार गईं।

सिंधु भले ही स्वर्ण पदक की रेस से बाहर हो गई हैं लेकिन उनके पास अभी कांस्य हासिल करने का मौका है। सिंधु का कांस्य पदक मुकाबले में सामना चीन की ही बिंग जिआओ से रविवार को होगा। बिंग जिआओ को एक अन्य सेमीफाइनल में हमवतन चेन यू फेई से 1-2 से हार का सामना करना पड़ा।

सिंधु ने पांच साल पहले रियो ओलंपिक में रजत पदक जीता था। उन्हें फाइनल में स्पेन की कैरोलिना मारिन के हाथों हार झेलनी पड़ी थी। इस बार सिंधु से रियो के प्रदर्शन से बेहतर करने की उम्मीद थी। लेकिन ऐसा नहीं हो सका।

टोक्यो ओलंपिक में पीवी सिंधु का सफर:

  • पहले मैच में इजराइल की सेनिया पोलिकरपोवा को 21-7, 21-10 से हराया
  • दूसरे मैच में हांगकांग की गन यी चियुंग को 21-9, 21-16 से हराया
  • प्री-क्वार्टर फाइनल में डेनमार्क की मिया ब्लिचफेल्ट को 21-15, 21-13 से हराया
  • क्वार्टर फाइनल में जापान की अकाने यामागूची को 21-13, 22-20 से हराया
  • सेमीफाइनल में चीनी ताइपे की ताइजु यिंग ने सिंधु को 21-18, 21-12 से हराया
  • ब्रॉन्ज मेडल मैच में चीन की जियाओ बिंग को 21-13, 21-15 से हराया

खबरें और भी हैं...