मुनाफा : एप्पल को हर सेकंड हो रहा लगभग 1.5 लाख रुपये का मुनाफा, दूसरे नंबर पर रहा माइक्रोसॉफ्ट

November 24th, 2022

हाईलाइट

  • 1,277 डॉलर प्रति सेकंड के साथ अल्फाबेट चौथे स्थान पर है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। क्या आप जानते हैं कि एप्पल हर सेकंड कितना मुनाफा कमाता है? यह हैरान कर देने वाला है। कंपनी का मुनाफा 1,820 डॉलर (1.48 लाख रुपये से अधिक) से अधिक है, जिससे आईफोन निर्माता दुनिया की सबसे अधिक लाभ कमाने वाली कंपनी बन गई है। एप्पल एक दिन में लगभग 157 मिलियन डॉलर (1,282 करोड़ रुपये से अधिक) कमा रहा है।

अकाउटिंग सॉफ्टवेयर फाइनेंशियल टेक्नोलॉजी बिजनेस टिपल्टी के नए रिसर्च के अनुसार, फेलो टेक दिग्गज माइक्रोसॉफ्ट और अल्फाबेट (गूगल की मूल कंपनी), साथ ही वॉरेन बफे के बर्कशायर हैथवे भी हर सेकंड में एक हजार डॉलर से अधिक की कमाई करते हैं, जो एक दिन में 100 मिलियन डॉलर से अधिक है।

दूसरे स्थान पर 1,404 डॉलर (1.14 लाख रुपये) प्रति सेकंड के साथ माइक्रोसॉफ्ट और तीसरे स्थान पर 1,348 डॉलर (लगभग 1.10 लाख रुपये) प्रति सेकंड के साथ बर्कशायर हैथवे है।

रिसर्च के अनुसार, यूएस में औसत कर्मचारी के अपने पूरे जीवन में 1.7 मिलियन डॉलर कमाने का अनुमान है। अमेरिका में औसत वार्षिक वेतन 74,738 डॉलर या 1,433.33 डॉलर प्रति सप्ताह है। जिसका अर्थ है कि एप्पल एक पूरे सप्ताह में औसत अमेरिकी कर्मचारी की तुलना में 387 डॉलर (27.01 प्रतिशत) प्रति सेकंड अधिक कमाता है।

जबकि 1,277 डॉलर प्रति सेकंड के साथ अल्फाबेट चौथे स्थान पर है। मेटा प्लेटफॉर्म को प्रति सेकंड 924 डॉलर का मुनाफा होता है।

उबर टेक्नोलॉजी को 2021 में 6.8 बिलियन डॉलर का भारी नुकसान हुआ, जो प्रति सेकंड 215 डॉलर के बराबर है। दुनिया का सबसे बड़ा राइड-हेलिंग ऐप होने के बावजूद, उबर ने कभी भी मुनाफा कमाया नहीं है।

रिसर्च के अनुसार, जनरल इलेक्ट्रिक ने साल-दर-साल के मुनाफे में 10.68 बिलियन डॉलर की सबसे बड़ी वृद्धि देखी, जबकि मेटा प्लेटफॉर्म (पूर्व में फेसबुक) 10.66 बिलियन डॉलर के लाभ वृद्धि के साथ पीछे है।

ऑनलाइन रिटेल विशाल अमेजॉन ने मुनाफे में तीसरी सबसे बड़ी वृद्धि देखी, जो कि 2021 में 2020 की तुलना में 9.74 बिलियन डॉलर अधिक थी।

(आईएएनएस)

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ bhaskarhindi.com की टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.