दैनिक भास्कर हिंदी: उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने वित्तमंत्री बाहरी निवेश पर निर्भर

February 1st, 2020

हाईलाइट

  • उच्च शिक्षा को बढ़ावा देने वित्तमंत्री बाहरी निवेश पर निर्भर

नई दिल्ली, 1 फरवरी (आईएएनएस)। धीमी अर्थव्यवस्था से मजबूर होकर सरकार को कृषि और ग्रामीण क्षेत्रों में निवेश बढ़ाने के लिए मजबूर होना पड़ा है। वित्तमंत्री निर्मला सीतारमण ने भारत में उच्च शिक्षा के वित्तपोषण के लिए विदेशी निवेश तथा बाहरी वाणिज्यिक उधारी पर उम्मीदें लगा रखी हैं।

शनिवार को संसद में वित्त वर्ष 2020-21 के लिए बजट पेश करते हुए सीतारमण ने भारत के शिक्षण स्तर और कौशल क्षमता में विकास लाने के लिए कई कदमों की घोषणा की। सरकार ने हालांकि इस क्षेत्र में पिछले साल से 10,000 करोड़ रुपये ज्यादा आवंटित किए हैं।

सीतारमण ने संसद में कहा, हमारी सरकार ने वित्त वर्ष 2020-21 के लिए शिक्षा क्षेत्र को 99,300 करोड़ रुपये और 3,000 करोड़ रुपये कौशल विकास के लिए आवंटित करने का फैसला किया है।

इस साल की तुलना में उन्होंने पांच जुलाई, 2019 को पेश किए अपने पहले बजट भाषण में शिक्षा क्षेत्र को 94,853 करोड़ रुपये आवंटित किए थे।

भारत 2030 तक दुनिया का सबसे बड़ा श्रमिक आयु वाला देश बनने वाला है, जिसे देखते हुए सरकार ने शिक्षा और कौशल विकास के क्षेत्रों में वृद्धि के लिए महत्वाकांक्षी कार्यक्रम शुरू किया है। पैसे की कमी के कारण हालांकि सरकार को अन्य वित्तीय विकल्पों पर नजर डालने पर विचार करना पड़ा है।