दैनिक भास्कर हिंदी: 114 राशन बांटने वाली मशीनें खराब, कलेक्टर ने प्रमुख सचिव को लिखा पत्र

January 11th, 2018

डिजिटल डेस्क  जबलपुर। सार्वजनिक वितरण प्रणाली (पीडीएस) को शासन भले ही कितना भी डिजिटल मोड में ढालने की कोशिश कर रहा हो, लेकिन वास्तविकता इससे काफी अलग है। पीओएस, यानी प्वॉइंट ऑफ सेल मशीन के माध्यम से राशन वितरण की व्यवस्था जबलपुर जिले के शहरी से लेकर ग्रामीण क्षेत्र में तकरीबन चरमरा ही गई है। इसकी मुख्य वजह है पीओएस मशीनों में खामियां।
पता चला है कि राशन वितरण में हो रही गड़बडिय़ों की लगातार मिल रही शिकायतों के बाद कलेक्टर महेशचन्द्र चौधरी ने जिले के अनुविभागीय अधिकारियों (एसडीएम) को अपने-अपने क्षेत्र की राशन दुकानों का दौरा कर पीओएस मशीन जांचने के निर्देश दिए थे। सभी अधिकारियों ने उनके अनुभाग की राशन दुकानों पर मशीनों की जांच कर रिपोर्ट सौंपी। बताया जाता है कि सभी अधिकारियों की  रिपोर्टों से यह बात सामने आई है कि मशीनें खराब हैं और ये ऑपरेट करने लायक नहीं है। जांच में लगभग 114 पीओएस मशीनें खराब पाई गई हैं। इसके बाद अब कलेक्टर ने प्रमुख सचिव खाद्य विभाग को पत्र लिखकर मशीन सप्लाई करने वाली कंपनी को बदलने की मांग की है। पत्र में यह भी कहा गया है कि यदि कंपनी को बदला नहीं जा सकता तो पुरानी कंपनी की ही अपग्रेडेड मशीनें सप्लाई की जाएं।
उधर पीडीएस में आ रही दिक्कतों को लेकर जानकारों का मत थोड़ा अलग है। जानकारों का कहना है कि कितनी भी आधुनिक मशीन का प्रयोग कर पीडीएस का राशन वितरण करवा लें, जब तक हाई स्पीड नेटवर्क और सर्वर की व्यवस्था नहीं की जाती, तब तक दिक्कतें आती रहेंगी। हालांकि, इस बात से भी इनकार नहीं किया जा सकता है कि समस्या सिर्फ कमजोर नेटवर्क के  कारण हो रही है। एसडीएम की जांचों में यह स्पष्ट हो गया है कि जिले में कई मशीनें खराब हैं, लिहाजा पीडीएस की व्यवस्था को सुचारु रूप से संचालित करने के लिए जरूरी है कि पीओएस मशीनों से लेकर नेटवर्क आदि की व्यवस्थाओं को भी दुरुस्त किया जाए।

इनका कहना है

जिले की कई राशन दुकानों की पीओएस मशीनें खराब पाई गई हैं। इस संबंध में प्रमुख सचिव को पत्र लिखा गया है। जल्द ही नई मशीनों की व्यवस्था की जाएगी।
- सीएस जादौन, जिला खाद्य नियंत्रक