Kerala: कोझीकोड में निपाह वायरस से 12 वर्षीय लड़के की मौत, स्वास्थ्य मंत्री ने कहा- करीबी संपर्कों में अब तक कोई लक्षण नहीं दिखा

September 5th, 2021

हाईलाइट

  • कोझीकोड में 12 वर्षीय लड़के का रविवार सुबह निपाह वायरस संक्रमण से निधन
  • निपाह वायरस का संक्रमण चमगादड़ों की लार से फैलता है
  • राज्य में तीन साल पहले भी इस संक्रमण से 17 लोगों की जान चली गई थी

डिजिटल डेस्क, कोझीकोड। केरल के कोझीकोड में एक 12 वर्षीय लड़के का रविवार सुबह निपाह वायरस संक्रमण से निधन हो गया। निपाह वायरस का संक्रमण चमगादड़ों की लार से फैलता है। राज्य में तीन साल पहले भी इस संक्रमण से 17 लोगों की जान चली गई थी। 

क्या कहा स्वास्थ्य मंत्री ने?
स्वास्थ्य मंत्री वीना जॉर्ज ने कहा, 'बच्चे से एकत्र किए गए तीनों नमूने- प्लाज्मा, सीएसएफ (सेरेब्रोस्पाइनल फ्लूइड) और सीरम- को नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) पुणे में किए गए परीक्षणों में पॉजिटिव पाया गया है।' उन्होंने कहा कि 'शनिवार को हुई बैठक में एक्शन प्लान तैयार किया गया है।' मंत्री ने बताया कि 'बच्चे की रविवार सुबह करीब 5 बजे अस्पताल में मौत हुई है। इस बच्चे के अन्य करीबी संपर्कों में अब तक कोई लक्षण नहीं दिखा है।'

निपाह वायरस को लेकर आपात बैठक
मंत्री एके ससींद्रन, अहमद देवरकोविल और मोहम्मद रियास शनिवार को जिला कलेक्टर के साथ आपात बैठक में शामिल हुए। दक्षिण भारत में पहला निपाह वायरस आउटब्रेक 19 मई, 2018 को कोझीकोड जिले में दर्ज किया गया था। राज्य में अब तक वायरस के कारण 18 लोगों की मौत हो चुकी है। केंद्र सरकार ने राज्य में एनसीडीसी की एक टीम भेजी है। टीम राज्य सरकार को टेक्निकल सपोर्ट देगी। 

क्या है निपाह वायरस के लक्षण?
इस वायरस से संक्रमित लोगों में शुरू में बुखार, सिरदर्द, उल्टी, गले में खराश जैसी शिकायत होती है। उसके बाद कमजोरी आना, चक्कर आना, नींद आना जैसे लक्षण दिखते है। रोगियों में encephalitis जैसे लक्षण दिखाई देते हैं। कुछ लोगों में निमोनिया जैसे लक्षण दिखते हैं और सांस लेने में दिक्कत होती है। ये लक्षण सामने आने के बाद रोगी 24- 48 घंटे में कोमा में भी जा सकते है। निपाह वायरस का incubation period 4 से 14 दिन के बीच होता है। अभी तक निपाह वायरस के लिए कोई भी खास दवा या वैक्सीन नहीं बनाई गई है।