comScore

आइसोलेशन वॉर्ड बनाने के लिए 11 एसी कोचों की एक और खेप भेजी जाएगी

आइसोलेशन वॉर्ड बनाने के लिए 11 एसी कोचों की एक और खेप भेजी जाएगी

डिजिटल डेस्क जबलपुर । पमरे ने कोरोना मरीजों के लिए आइसोलेशन वॉर्ड बनाने के लिए 11 एसी कोचों की दूसरी खेप भोपाल भेजने की तैयार कर ली है। विभिन्न स्टेशनों पर खड़े किए गए पुराने एसी कोचों को मँगा लिया गया है। इससे पहले 13 एसी कोचों को कलेक्ट करके भोपाल की कोच फैक्ट्री भेजे गए थे और वहाँ पर आइसोलेशन वॉर्ड बनाने का काम लगभग पूरा  हो चुका है। कुल 22 बोगियों के आइसोलेशन वॉर्ड बनाने का काम किया जाना है। कुछ स्लीपर कोच भी मँगाये जा रहे हैं ताकि उनको भी आइसोलेशन वॉर्ड में तब्दील किया जा सके। फिलहाल तो प्राथमिकता एसी कोचों को दी जा रही है। इस संबंध में जानकारी मिली है कि हर कोच में डॉक्टरों के अलावा नर्सों और वॉर्ड बॉयज के कैबिन से लेकर कुल 8 कैबिन बनाये जा रहे हैं। इनमें इतनी जगह बना दी गई है कि जिससे मरीजों को दूर-दूर रखा जा सके और मेडिकल स्टाफ भी दूर से ही नजर रख सकें। कोरोना के  संक्रमण से बचाने के लिए सोशल डिस्टेंस का भी प्रावधान किया गया है। दूसरी खेप के मामले में जानकारी मिली है कि जो पुराने एसी कोचों की व्यवस्था की गई है। वह बेलखेड़ा, डुंडी के अलावा श्रीधाम स्टेशनों से की गई है। पुराने कोचों के लिए यार्ड में जगह नहीं होने के कारण इन कोचों को आसपास के स्टेशनों पर रखवा दिया गया था। पिछली खेप में जो पुराने एसी कोच भेजे गए थे वे भी जबलपुर के आसपास के स्टेशनों से ही कलेक्ट करके भेजे गए थे। इस समय जबलपुर के यार्ड में पुराने एसी कोचों को सुधारने तथा उनकी पेंटिंग का काम किया जा रहा है। मरम्मत करने के बाद उन्हें भोपाल के लिए रवाना किया जायेगा। 
जहाँ जरूरत पड़ेगी वहाँ भेजेंगे 
रेल प्रशासन का कहना है कि कोरोना की जंग से निपटने के लिए इन रेल बोगियों का इतंजाम आइसोलेशन वॉर्ड के अलावा अगर जरूरत पड़ी तो इलाज के लिए भी इस्तेमाल किया जाएगा। इन तैयार कोचों को जहाँ भी जरूरत पड़ेगी उन स्टेशनों पर भेज दिया जायेगा।
 

कमेंट करें
wqpf0