दैनिक भास्कर हिंदी: चंदौली में गरजे अरविंद राजभर, कहा- सत्ता में आए तो रेपिस्टों के हाथ काट देंगे

May 23rd, 2018

डिजिटल डेस्क, चंदौली। यूपी के चंदौली जिले में एक सभा को संबोधित करते हुए सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के नेता अरविंद राजभर ने एक विवादित बयान दिया। सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हो रहा है, जिसमें चंदौली में एक सभा को संबोधित करते हुए अरविंद राजभर ने कहा कि अगर मैं सत्ता में आया तो बलात्कारियों के हाथ काट दिए जाएंगे। उन्होंने कहा कि ऐसे लोगों के खिलाफ केस दर्ज किया जाना चाहिए जो अपनी बहनों को भूल जाते हैं और दूसरे की बहनों की छेड़ते हैं। बता दें कि अरविंद राजभर कैबिनेट मंत्री ओमप्रकाश राजभर के बेटे हैं।

 

लोगों को भड़काने की कोशिश

अरविंद राजभर के इस बयान के बाद उत्तर प्रदेश पुलिस ने सार्वजनिक तौर विवादित बयान देने के मामले में जांच शुरू कर दी है। वीडियो में कैबिनेट मंत्री के बेटे यह भी कहते हुए दिखाई देते हैं कि ‘आपको चिंता करने की आवश्यकता नहीं है। भारत एक ऐसा देश हैं जो बदल रहा है, जैसे आपकी मानसिकता में परिवर्तन आ गया। तो अगर आपको बलुआ पुलिस स्टेशन जलाने को कहता हूं। क्या आप आओगे या नहीं? गरीबों के खिलाफ अन्याय बंद होना चाहिए या नहीं। अगर सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी का खून उबला तो चंदौली जलने लगेगा।”

 

पुलिस अधीक्षक चंदौली को दिया अल्टीमेटम

अरविंद राजभर ने भीड़ के सामने पुलिस अधीक्षक चंदौली को अल्टीमेटम देते हुए कहा कि अगर बलुआ पुलिस ने इस मामले में कार्रवाई पूरी नहीं की तो सबसे पहले बलुआ थाना को फूंकने का काम वह खुद करेंगे। हालांकि अरविंद राजभर 21 वर्षीय उस महिला के परिवार का ज्रिक कर रहे थे जिन्होंने दो लोगों के खिलाफ बेटी से रेप का केस दर्ज कराया है। दोनों आरोपी उसी गांव के हैं जहां राजभर ने सभा की। 

इस मामले में चंदौली के एसपी संतोष सिंह का कहना है टिप्पणी को लेकर जांच के आदेश दिए गए हैं। उन्होंने एक छोटी सभा में यह बात कही है। इसलिए जिला प्रशासन या पुलिस को इस संबंध में जानकारी नहीं दी गई थी।

 

पिता ओपी राजभर भी देते रहते हैं विवादित बयान

बता दें कि अरविंद राजभर के पिता ओपी राजभर भी पूर्व में कई विवादित बयान देते रहे हैं। हाल के दिनों में उन्होंने बयान दिया था कि ‘मेरी इजाजत के बिना किसी दूसरी रैली में जाओगी तो तुम्हें मेरा श्राप लगेगा और पीलिया हो जाएगा। यह पीलिया तभी ठीक होगा जब मेरी दवाई लोगे।’ ओम प्रकाश राजभर ने भी महिलाओं के खिलाफ हो रही हिंसा को लेकर कहा था कि जब तक कड़े कानून नहीं होते हैं, तब तक ये गंदे लोग हमेशा आस-पास रहेंगे। इन लोगों के खिलाफ, अब हमें कानून बनाना है, जैसे कई देशों में रेप के आरोपियों को फांसी दे दी जाती है।