comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

खूब लग रहा क्रिकेट पर सट्‌टा, सट्‌टा अड्‌डे पर पुलिस की दबिश, 2 आरोपी गिरफ्तार

खूब लग रहा क्रिकेट पर सट्‌टा, सट्‌टा अड्‌डे पर पुलिस की दबिश, 2 आरोपी गिरफ्तार

डिजिटल डेस्क, नागपुर। वर्ल्ड कप का बुखार इन दिनों क्रिकेट प्रेमियों में छाया हुआ है। इसके साथ ही क्रिकेट पर सट्‌टा लगाने वाले पुलिस कार्रवाई के बावजूद बाज नहीं आ रहे हैं। अपराध शाखा पुलिस विभाग की यूनिट 3 ने नागपुर-वर्धा रोड पर  एक अपार्टमेंट में चल रहे क्रिकेट सट्टा अड्डे पर छापा मारा। इस अड्डे से दो आरोपियों को गिरफ्तार किया गया। दोनों आरोपी भारत व साउथ अफ्रीका के बीच चल रहे क्रिकेट मैच पर सट्टे लगवा रहे थे। गिरफ्तार आरोपी पंकज गणेश मेहाडिया (39) टेकडी रोड, सीताबर्डी और उदय अशोक आस्वले (22)  साखरे गुरुजी शाला के पास गणेशपेठ निवासी से लैपटाॅप, टीवी, सेटअप बॉक्स, 4 मोबाइल फोन, कैल्क्यूलेटर, चार्जर व अन्य सामग्री सहित करीब 75 हजार रुपए का माल जब्त किया गया है। 

पुलिस सूत्रों के अनुसार अपराध शाखा पुलिस विभाग की यूनिट 3 के सहायक पुलिस निरीक्षक योगेश चौधरी को गुप्त सूचना मिली कि धंतोली थानांतर्गत गजानन नगर, नवजीवन काॅलोनी, अरिहंत साई अपार्टमेंट में पहली मंजिल पर प्रकाश राठी के फ्लैट क्र. 101 में क्रिकेट सट्टा का अड्डा चल रहा है। उन्होंने इस बारे में वरिष्ठ अधिकारियों को सूचना दी। उसके बाद यूनिट 3 ने उक्त फ्लैट में छापा मारा। इस दौरान यहां पर आरोपी व क्रिकेट बुकी पंकज मेहाडिया व उदय आस्वले को इंग्लैंड में भारत और साउथ अफ्रीका के बीच खेले जा रहे क्रिकेट मैच पर सट्टे की लागवाड़ी और खायवाली कर रहे थे। इन दोनों आरोपियों को पुलिस दस्ते ने धरदबोचा।

इस अड्डे पर दोनों आरोपी क्रिकेट मैच टीवी पर देखकर लैपटाॅप की मदद से श्री. गजानन नामक साॅफ्टवेयर के माध्यम से क्रिकेट बेटिंग का भाव ऑनलाइन देखकर ग्राहकों से मोबाइल पर आंकड़ों की खायवाली व लागवाड़ी कर रहे थे। दोनों आरोपियों के खिलाफ  धंतोली थाने में धारा 4, 5 महाराष्ट्र जुआ प्रतिबंधक कानून की धारा के तहत मामला दर्ज किया गया है। पुलिस आयुक्त डाॅ. भूषणकुमार उपाध्याय, सहपुलिस आयुक्त रवींद्र कदम, अपर पुलिस आयुक्त निलेश भरणे, सहायक पुलिस आयुक्त  सुधीर नंदनवार के मार्गदर्शन में कार्रवाई की गई। दस्ते के पुलिस निरीक्षक नरेंद्र हिवरे, सहायक पुलिस निरीक्षक योगेश चौधरी, उपनिरीक्षक एच.एस. थोरात, हवलदार शैलेष पाटील, नायब सिपाही राकेश यादव, हरीश बावणे, सिपाही विकास पाठक, चालक सत्येंद्र यादव ने कार्रवाई में सहयोग किया।

कमेंट करें
Xie4B
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।