• Dainik Bhaskar Hindi
  • City
  • Big caterers were profiteering by making food from small contractors - gave food to the passengers.

दैनिक भास्कर हिंदी: छोटे ठेकेदारों से खाना बनवाकर बड़े कैटरर कर रहे थे मुनाफाखोरी - यात्रियों को दिया था फफूंद लगा खाना

June 1st, 2020

डिजिटल डेस्क जबलपुर । श्रमिक ट्रेनों में भोजन वितरण करने का ठेका लेने वाले बड़े कैटरर मुनाफाखोरी करने के लिए छोटे ठेकेदारों से खाना बनवाने और पैकिंग का काम करवा रहे थे, जिसकी वजह से खाने की गुणवत्ता और सामग्री में गड़बडिय़ाँ होती रहीं। यह बात आईआरसीटीसी और वाणिज्य विभाग द्वारा श्रमिक ट्रेनों में भोजन का वितरण कर रहे कैटरर्स की जाँच कराने के बाद सामने आई है। वो तो यह सच कभी सामने नहीं आता अगर 29 मई को मुंबई-पटना श्रमिक एक्सप्रेस में रेलवे के लाइसेंसी ठेकेदार मेसर्स इब्राहिम एंड संस द्वारा फफूँद लगे भोजन का वितरण नहीं किया गया होता और खराब भोजन के पैकेट मिलने के बाद श्रमिकों द्वारा हंगामा नहीं मचाया गया होता। विवाद हुआ  तो पता चला कि श्रमिक ट्रेनों में खाना वितरित करने वाले पाँचों कैटरर छोटे स्तर के ठेकेदारों से खाना बनवाकर बँटवा रहे थे। जाँच में कई तरह की बातें सामने आ रही हैं, जो हैरान कर देने वाली हैं। हालाँकि इस मामले में सीनियर डीसीएम बसंत शर्मा का कहना है िक यह आम बात है, बड़ी मात्रा में भोजन तैयार करवाने के लिए बड़े ठेकेदार आउटसोर्सिंग का सहारा लेते हैं, लेेकिन इसमें भोजन की क्वॉलिटी और क्वांटिटी का पूरा ख्याल रखा जाना चाहिए, जो नहीं रखा गया,  जिसमें गड़बड़ी सामने आई है। 
 

खबरें और भी हैं...