दैनिक भास्कर हिंदी: बिहार: रामविलास के जन्मदिन पर दोनों गुट दिखाएंगे अपनी ताकत!

June 29th, 2021

डिजिटल डेस्क, पटना। लोक जनशक्ति पार्टी (लोजपा) में चाचा पशुपति पारस और भतीजा चिराग पासवान की जंग अब सड़क पर पहुंच गई है। पार्टी के संस्थापक और पूर्व केंद्रीय मंत्री रामविलास पासवान के जन्मदिन के बहाने दोनों गुट अपनी ताकत दिखाने की तैयारी में जुटे हैं। सांसद चिराग जहां राज्य की जनता के बीच जाने की तैयारी में जुटे हैं। वहीं, सांसद पारस पटना के पार्टी कार्यालय में अपने भाई का जन्मदिन मनाने की तैयारी में हैं।

रामविलास के जन्मदिन पर उनके पुराने क्षेत्र हाजीपुर से चिराग अपनी आशीर्वाद यात्रा की शुरुआत करने वाले हैं। लोजपा के लिए हाजीपुर संसदीय क्षेत्र पारंपरागत सीट रही है। रामविलास पासवान इस क्षेत्र का कई बार लोकसभा में प्रतिनिधित्व कर चुके हैं, जबकि फिलहाल यहां के सांसद पशुपति पारस हैं।

लोजपा के एक नेता की मानें चिराग हाजीपुर से यात्रा की शुरुआत का एक तीर से दो निशाने साधने की तैयारी में हैं। पारस के संसदीय क्षेत्र से चिराग जहां अपनी ताकत दिखाकर इसका एहसास कराएंगे कि रामविलास पासवान के कारण पारस आज सांसद हैं। दावा किया जा रहा है कि चिराग की आशीर्वाद यात्रा की शुरुआत ऐतिहासिक होगी। इस यात्रा के दौरान चिराग राज्यभर का दौरा करेंगे।

इधर, पारस गुट भी पांच जुलाई को रामविलास पासवान के जन्मदिन मनाने की तैयारी में जुटा है। पारस गुट के नेता प्रमोद सिंह कहते हैं कि दिवंगत लोजपा नेता रामविलास पासवान की जयंती 5 जुलाई को है। पूर्व मंत्री रामविलास पासवान की जयंती पर लोजपा के प्रदेश कायार्लाय में जयंती समारोह का आयोजन किया जाएगा।

इस मौके पर रामविलास पासवान के भाई व हाजीपुर सासंद पशुपति कुमार पारस भी मौजूद रहेंगे। बताया जा रहा है कि इस मौके पर पार्टी के कई नेता और कार्यकर्ता शामिल होंगे। इस दौरान उन्हें याद किया जाएगा और उनके कार्यों की चर्चा भी की जाएगी। लोजपा पारस गुट के एक नेता कहते हैं कि प्रशासन से अनुमति मिलने के बाद इस दिन गरीबों को भोजन कराने की भी योजना बनाई जा रही है।

उल्लेखनीय है कि राजद नेता तेजस्वी यादव ने भी रामविलास की जयंती मनाने का फैसला लिया है। इस दिन राजद का स्थापना दिवस भी है। ऐसे में तेजस्वी ने ऐलान किया कि रामविलास पासवान की जयंती और राजद का स्थापना दिवस समारोह एक साथ मनाया जाएगा। लोजपा दो गुटों में बंट गई है।

पशुपति पारस पांच सांसदों के साथ अलग हो गए हैं। चिराग जहां इन सांसदों को पार्टी से निकाल चुके हैं। बहरहाल, लोजपा के संस्थापक के जन्मदिन के बहाने लोजपा में बने चाचा और भतीजा गुट की लड़ाई अब सड़कों पर पहुंच गई लगती है। ऐसे में अब देखना दिलचस्प होगा कि किसका पलड़ा भारी पड़ता है।