comScore

मप्र: इंदौर में फरवरी में ही कोरोना ने दे दी थी दस्तक, समय पर डिटेक्ट नहीं कर पाए लोग

मप्र: इंदौर में फरवरी में ही कोरोना ने दे दी थी दस्तक, समय पर डिटेक्ट नहीं कर पाए लोग

हाईलाइट

  • इंदौर में कोरोना फरवरी में ही आ चुका था : एसीएस

डिजिटल डेस्क, इंदौर। मध्यप्रदेश के स्वास्थ्य विभाग के अतिरिक्त मुख्य सचिव (एसीएस) मोहम्मद सुलेमान ने कहा है कि इंदौर में कोरोना वायरस की दस्तक फरवरी माह में ही हो गई थी, जिसे समय रहते पकड़ (डिटेक्ट) नहीं पाए।

राज्य सरकार ने अभी हाल ही में एसीएस सुलेमान को इंदौर की बतौर प्रभारी अधिकारी की जिम्मेदारी सौंपी है। उसके बाद सुलेमान सोमवार को यहां पहुंचे और संवाददाताओं से चर्चा के दौरान कहा, इंदौर में शुरुआत में जिस तरह से मरीजों का ग्राफ बढ़ा, उसके आधार पर यह कहा जा सकता है कि फरवरी माह में किसी समय कोरोना वायरस के संक्रमण की शुरुआत हो गई होगी। उस समय पर हम लोग उसे डिटेक्ट नहीं कर पाए। इसलिए शुरुआत में बहुत ज्यादा मामले आए।

वहीं भोपाल में संक्रमण की वजह बताते हुए सुलेमान ने कहा कि इंदौर से स्वास्थ्य विभाग के एक चिकित्सक भोपाल गए और जरिए भी स्वास्थ्य विभाग में संक्रमण फैला।

कमेंट करें
6B5kH