करोड़ों की संपत्ति का पता चला : मंडला के रिटायर्ड जनपद सी ई ओ के जबलपुर आवास पर ई ओ डब्ल्यू ने दी दबिश

October 21st, 2021

डिजिटल डेस्क मंडला जबलपुर । मंडला के रिटायर्ड जनपद सी ई ओ के तिलहरी स्थित आवास पर  ई ओ डब्ल्यू द्वारा दविश दी गई है । यह आय से अधिक संपत्ति का मामला बताया जा रहा है । प्राप्त जानकारी के अनुसार सेवानिवृत्त जनपद सी ई ओ के ठिकानों में हुई छापा की कार्रवाई में करोड़ो की संपत्ति का पता चला है । जबलपुर तिलहरी में  एक मकान के अलावा महराजपुर मंडला में 3 आवास, व्यवसायिक कॉम्प्लेक्स, भोपाल के विनायक होम्स में मकान, पूर्व जनपद सी ई ओ और उसकी पत्नी के नाम से महराजपुर मंडला में 6 एकड़ कृषि भूमि, परिजनों के नाम से विभिन्न बैंकों में खाते, इलाहाबाद बैंक और एस बी आई में दो लॉकर सहित चौपहिया और दोपहिया वाहनों की जानकारी ई ओ डब्ल्यू के सामने आई है । ई ओ डब्ल्यू की टीम द्वारा पूरे कागजात खंगाले जा रहे हैं ।

मंडला। दूसरी ओर मंडला से प्राप्त जानकारी के अनुसार आदिम जाति कल्याण विभाग से प्रतिनियुक्ति पर घुघरी जनपद सीईओ रहे नागेंद्र यादव के महाराजपुर स्थित आवास पर ईओडब्ल्यू की टीम ने छापा मारा है। भोपाल, जबलपुर स्थित आवास के बाद मंडला में सर्चिंग की गई है। यहां टीम को कृषि भूमि से संबंधित अन्य दस्तावेज की तलाश है। नागेंद्र यादव के खिलाफ भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धारा 13(1) बी, और 13 (2)तहत मामला दर्ज किया गया है। जानकारी के मुताबिक नागेंद्र यादव वर्ष 2010 में मंडला जिले के जनपद पंचायत घुघरी में आदिम जाति कल्याण विभाग से प्रतिनियुक्ति पर सीइओ पदस्थ हुये थे। यहां अनियमितताओं को लेकर ईओडब्ल्यू में शिकायत की गई थी। यहां से नागेंद्र यादव का तबादला घंसौर, शहडोल और जबलपुर हो गया था। पिछले साल ही नागेंद्र यादव रिटायर्ड हुये है। ईओडब्ल्यू ने शिकायत के 11 साल बाद मामला दर्ज किया है।  
700 प्रतिशत ज्यादा संपत्ति-
ईओडब्ल्यू की जांच में 700 प्रतिशत ज्यादा संपत्ति सामने आई है। नागेंद्र यादव की संपत्ति 11 लाख की होनी थी, लेकिन 97 लाख की संपत्ति ईओडब्ल्यू को मिल चुकी है। भोपाल, जबलपुर, मंडला में दो आवास मिले है।  ज्वाला जी वार्ड  और आंगन तिराहा में कॉम्पलेक्स के ऊपर आवास है। इसके अलावा कृषि भूमि संबंधी जानकारी भी ईओडब्ल्यू टीम को मिली है।
इनका कहना है
आदिम जाति कल्याण विभाग से प्रतिनियुक्ति पर जनपद पंचायत घ्ुाघरी में पदस्थापना के दौरान नागेंद्र यादव की शिकायत आय से अधिक संपत्ति की हुई थी, जांच के दौरान आय से 97 लाख की अधिक संपत्ति मिली है। भ्रष्टाचार निवारण अधिनियम की धाराओं के तहत मामला दर्ज कर जांच की जा रही है।
मंजीत सिंह, डीएसपी ईओ डब्ल्यू

खबरें और भी हैं...