comScore

प्रदेश की जेलों में कैदियों की मौत पर सरकार को जवाब पेश करने चार हफ्ते की मोहलत

प्रदेश की जेलों में कैदियों की मौत पर सरकार को जवाब पेश करने चार हफ्ते की मोहलत

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। हाईकोर्ट ने प्रदेश की जेलों में कैदियों की मौत पर राज्य सरकार को जवाब पेश करने चार हफ्ते की मोहलत दे दी है। एक्टिंग चीफ जस्टिस आरएस झा और जस्टिस विजय शुक्ला की युगल पीठ ने मामले की अगली सुनवाई 18 सितंबर को नियत की है। 

हाईकोर्ट ने संज्ञान लेते हुए स्वयं जनहित याचिका दायर की

सुप्रीम कोर्ट के निर्णय के परिपालन में हाईकोर्ट ने संज्ञान लेते हुए स्वयं जनहित याचिका दायर कर मामले की सुनवाई शुरू की है। हाईकोर्ट ने इस मामले में प्रदेश मुख्य सचिव, गृह विभाग के प्रमुख सचिव, जेल विभाग के प्रमुख सचिव, महिला एवं बाल विकास के प्रमुख सचिव से मध्यप्रदेश की जेलों में 2012 से 2015 के बीच हुई कैदियों की मौत की जानकारी मांगी थी। राज्य सरकार की ओर से यह जानकारी पेश कर दी गई थी। इसके बाद हाईकोर्ट ने वर्ष 2016 से 2017 के बीच जेलों में कैदियों की मौतों के बारे में भी जानकारी मांग ली। सुनवाई के दौरान मंगलवार को राज्य सरकार की ओर से जवाब पेश करने के लिए समय दिए जाने का अनुरोध किया गया। युगल पीठ ने चार सप्ताह का समय देते हुए अगली सुनवाई 18 सितंबर को नियत की है।

513 करोड़ के हवाला कांड के आरोपी की जमानत पर आज फिर सुनवाई

ईडी की स्पेशल कोर्ट में कटनी के बहुचर्चित हवाला कांड के आरोपी सतीश सरावगी की जमानत पर बुधवार को भी सुनवाई होगी। मंगलवार को ईडी की स्पेशल जज माया विश्वलाल की अदालत से सरावगी के अधिवक्ता को अतिरिक्त दस्तावेज पेश करने के लिए एक दिन का समय दिया है। स्पेशल जज ने मामले की सुनवाई बुधवार 21 अगस्त को नियत की है। सरावगी ने 19 अगस्त को स्पेशल कोर्ट के समक्ष सरेंडर किया था। जिसे स्पेशल कोर्ट ने जेल भेज दिया था। अतिरिक्त लोक अभियोजक राजकुमार गुप्ता ने बताया कि कटनी निवासी सतीश सरावगी ने वर्ष 2016 में सरावगी ने कटनी के एक्सिस बैंक से 513 करोड़ रुपए का लेनदेन किया था। इनमें से 204 करोड़ रुपए नकद जमा किए गए थे। इस मामले में कटनी कोतवाली थाने में 420, 467 व 471 और प्रवर्तन निदेशालय इंदौर ने मनी लॉड्रिंग एक्ट 2002 की धारा 2 (1) (वाय) (3) के तहत प्रकरण पंजीबद्द्ध किया गया है। 19 अगस्त को सरावगी ने स्पेशल कोर्ट में सरेंडर कर दिया था। मंगलवार को उसकी जमानत पर सुनवाई हुई। सुनवाई के बाद आरोपी के अधिवक्ता ने अतिरिक्त दस्तावेज पेश करने के लिए एक दिन का समय मांगा। जमानत पर सुनवाई बुधवार 21 अगस्त को भी होगी।

कमेंट करें
ZLKNO
NEXT STORY

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

Tokyo Olympics 2020:  इस बार दिखेगा भारत के 120 खिलाड़ियों का दम, 18 खेलों में करेंगे शिरकत

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। टोक्यो ओलंपिक का काउंटडाउन शुरु हो चुका हैं। 23 जुलाई से शुरु होने जा रहे एथलेटिक्स त्यौहार में भारतीय दल इस बार 120 खिलाड़ियों के साथ 18 खेलों में दावेदारी पेश करेगा। बता दें 81 खिलाड़ियों के लिए यह पहला ओलंपिक होगा। 120 सदस्यों के इस दल में मात्र दो ही खिलाड़ी ओलंपिक पदक विजेता हैं। पी.वी सिंधू ने 2016 रियो ओलंपिक में सिल्वर तो वहीं मैराकॉम ने 2012 लंदन ओलंपिक में ब्रॉन्ज मेडल अपने नाम किया था।

भारत पहली बार फेंनसिग में चुनौता पेश करेगा। चेन्नई की भवानी देवी पदक की दावेदारी पेश करेंगी। भारत 20 साल के बाद घुड़सवारी में वापसी कर रहा है, बेंगलुरु के फवाद मिर्जा तीसरे ऐसे घुड़सवार हैं जो ओलंपिक में भारत का प्रतिनिधित्व करेंगे। 

olympic

युवा कंधो पर दारोमदार

टोक्यो ओलंपिक में भाग लेने जा रहे भारतीय दल में अधिकतर खिलाड़ी युवा हैं। 120 खिलाड़ियों में से 103 खिलाड़ी 30 से भी कम आयु के हैं। मात्र 17 खिलाड़ी ही 30 से ज्यादा उम्र के होंगे। 

भारतीय दल में 18-25 के बीच 55, 26-30 के बीच 48, 31-35 के बीच 10 तो वहीं 35+ उम्र के 7 खिलाड़ी हिस्सा ले रहे हैं। इस लिस्ट में सबसे युवा 18 साल के दिव्यांश सिंह पंवार हैं, जो शूटिंग में चुनौता पेश करेंगे, तो वहीं सबसे उम्रदराज 45 साल के मेराज अहमद खान होंगे जो शूटिंग में ही पदक के लिए भी दावेदार हैं।