दैनिक भास्कर हिंदी: दुकानदारों को बातों में उलझाकर कर देती थी लाखों के जेवरात चोरी, अंतर्राज्यीय महिला चोर गिरोह गिरफ्तार

May 11th, 2019

डिजिटल डेस्क, बालाघाट। कोतवाली पुलिस ने अंतर्राज्यीय महिला चोर गिरोह का पर्दाफाश किया है। ये आरोपी शातिर चोर महिलाएं दुकानदारों को बातों में उलझाकर महंगे जेवरातों को पलक झपकते ही गायब कर देती थी। पुलिस ने चोरी की वारदात में सहयोग करने वाले एक व्यक्ति को भी गिरफ्तार किया है। पुलिस ने पकड़े गए आरोपियों के पास से विगत 16 अप्रैल को गायखुरी की एक ज्वेलर्स शॉप से 61 हजार रुपए कीमत के चोरी किए गए जेवर के साथ घटना में प्रयुक्त की गई कार को भी बरामद किया है।

गौरतलब हो कि कोतवाली क्षेत्र के वार्ड क्रमांक 33 गायखुरी स्थित एक ज्वेलरी शॉप में सोने के टॉप्स खरीदने के बहाने पहुंची चार महिलाओ ने सोने के अन्य जेवरात चोरी कर लिए थे।चोरी की शिकायत भूमेश्वर बोरीकर द्वारा कोतवाली में दर्ज कराई गई थी, जिसमें पुलिस ने अपराध पंजीबद्ध कर जांच में लिया था।

इस संबंध में पुलिस ने बताया कि चार महिलाओं द्वारा दुकान में पहुंचकर टॉप्स दिखाने के बहाने दुकानदार को बातों में उलझाकर सोने के जेवरात चोरी करने की वारदात सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई थी, जो पुलिस के लिए आरोपियों को पकड़ने के लिए बड़ी मददगार रही। घटना की शिकायत के बाद पुलिस ने वरिष्ठ अधिकारियों के मार्गदर्शन में चोर महिला गैंग की तलाश प्रारंभ की। आरोपियों को गिरफ्तार किया।

अलग-अलग क्षेत्र की हैं महिलाएं-
नगर पुलिस अधीक्षक देवेन्द यादव के मार्गदर्शन और कोतवाली थाना प्रभारी महेन्द्रसिंह ठाकुर के नेतृत्व में गठित पुलिस टीम ने महाराष्ट्र नागपुर के नंदनवन थाना अंतर्गत उमरेड रोड रामकृष्ण नगर दिघोरी निवासी वाहन चालक 51 वर्षीय पंजाब को पकड़ा। आरोपियों के पास से घटना में प्रयुक्त की गई कार क्रमांक एमएच 31 सीएस 7057 कार बरामद की गई। जिसके साथ ही चोर महिला गैंग में शामिल कार चालक पंजाब की 38 वर्षीय पत्नी संतोषी एस्मबरे, नागपुर महल कोतवाली थाना अंतर्गत संतगुलाब बाबा झोपड़पट्टी सेरसपेट निवासी 51 वर्षीय सुजाता उर्फ मीरा पति प्रमोद बोरकर, थाना अजनी अंतर्गत कुकड़े लेआउट निवासी 67 वर्षीय सत्यफुला पति स्व. भीमराव खोंडे और थाना नंदनवन अंतर्गत बाबा ताज मस्जिद के पास बहादुरा रोड खरबी निवासी 55 वर्षीय पुष्पा पति नामदेव खोब्रागढ़े को गिरफ्तार किया, जिनके पास से चोरी किए गए 61 हजार रुपए के जेवरात पुलिस ने बरामद किए हैं।

ऐसे देती थी चोरी की वारदात को अंजाम-
मामले का कोतवाली थाने में आयोजित प्रेसवार्ता में खुलासा करते हुए नगर पुलिस अधीक्षक देवेन्द्र यादव ने बताया कि चोर महिलाओं का गैंग बड़े ही शातिराना तरीके से घटना को अंजाम देता था। इनके साथ पकड़ाया कार चालक वाहन से लेकर उन्हें नागपुर से बाहर लाता था। जिसके बाद महिलाएं दुकान में एक साथ प्रवेश कर सोने के गहने दिखाने के बहाने दुकानदार को उलझाकर रखती थी और इस दौरान ही वह गहने चोरी की वारदात को अंजाम देकर वापस लौट जाते थे। इस बार महिलाओं को पुलिस ने धर दबोचा है। पुलिस को आशंका है कि इन महिलाओं ने अन्य स्थानो में भी इसी तरह की अन्य घटनाओं को अंजाम दिया है, जिसकी पुलिस जानकारी एकत्रित कर रही है।

इनका रहा सराहनीय योगदान-
ज्वेलर्स शॉप से सोने के गहने चोरी कर फरार हुई महिलाओं और उनके पुरुष सहयोगी को गिरफ्तार करने में कोतवाली थाना प्रभारी महेन्द्रसिंह ठाकुर, उपनिरीक्षक विजयसिंह सिसोदिया, प्रधान आरक्षक सत्यशीला वासनिक, भागचंद बोपचे, महिला आरक्षक रीना नगपुरे, सुनिता मेश्राम, आरक्षक शैलेष गौतम, कृष्णा मर्सकोले का सराहनीय योगदान रहा।