दैनिक भास्कर हिंदी: जबलपुर- निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन का टोटा ,एक प्लांट बंद दूसरे में लिक्विड खत्म

April 15th, 2021

पिछले दो दिन से ऑक्सीजन को लेकर मारामारी
डिजिटलय डेस्क जबलपुर ।
कोरोना के बढ़ते संक्रमण को लेकर प्रशासनिक तंत्र कितना लापरवाह है, इस बात का अंदाजा इसी बात से लगाया जा सकता है कि अधिकतम निजी अस्पतालों में ऑक्सीजन का टोटा हो गया है। मरीजों की हालत इसलिए मरणासन्न हो रही है कि उन्हें अस्पतालों में ऑक्सीजन नहीं मिल पा रही है। वहीं दूसरी ओर अपनी नाक बचाने अधिकारी इस बात का दावा कर रहे हैं कि अस्पतालों से जो डिमांड आ रही है उसकी पूर्ति की जा रही है, लेकिन हकीकत यह है कि रिछाई के एक प्लांट आदित्य से जहाँ दिन भर में 25 सौ सिलेण्डरों की सप्लाई हुई, तो वहीं दूसरे प्लांट जेनिम प्लांट  बंद रहा। सामान्य दिनों में जहाँ इससे 4 से 5 सौ सिलेण्डर दिए जाते थे, वे बुधवार को अस्पतालों में नहीं पहुँचे। जिससे अस्पतालों में हड़कंप की स्थिति बन गई।
एक यूनिट बंद होने से सप्लाई लडख़ड़ाई
एसडीएम अनुराग तिवारी ने बताया कि ऑक्सीजन की सप्लाई बनाने लगातार प्रयास किए जा रहे हैं। रिछाई स्थित जेनिम प्लांट बंद होने व आदित्य की एक यूनिट में तकनीकी खराबी आने के कारण सप्लाई लडख़ड़ा गई है। उन्होंने बताया कि आदित्य प्लांट की एयर सेपरेशन यूनिट तो चालू रही मगर लिक्विड ऑक्सीजन यूनिट बंद हो गई थी, जिससे एक टैंकर जमशेदपुर से मंगाया गया है, जो देर रात पहुँचेगा। इसके बाद सप्लाई नॉर्मल हो जाएगी। वहीं जिला उद्योग के महाप्रबंधक देवव्रत मिश्रा का कहना है कि ऑक्सीजन की कमी नहीं है, डिमांड के अनुसार पूर्ति की जा रही है।
मरीजों को भेजा मेडिकल
वहीं कई निजी अस्पताल संचालकों ने प्रशासनिक अधिकारियों से ऑक्सीजन न होने की बात कही है, साथ ही कई निजी अस्पतालों ने गंभीर मरीजों को ऑक्सीजन की कमी के कारण अपने अस्पतालों से हटाकर मेडिकल में रेफर करना शुरू कर दिया है।