दैनिक भास्कर हिंदी: 3 तहसीलों के 913 गांव से मिलकर बनेगा मैहर जिला - सतना के पास रहेगा लगरगंवा 

March 19th, 2020

डिजिटल डेस्क सतना। शह-मात के सियासी खेल में सत्ता के लिए संघर्ष कर रही कांग्रेस सरकार की केबिनेट ने बुधवार को अंतत: मैहर को जिले का दर्जा देने के प्रस्ताव को सैद्धांतिक स्वीकृति दे दी। सूत्रों ने बताया कि राजस्व विभाग के पीएस ने 17 मार्च को इस सिलसिले में जिला प्रशासन से प्रस्ताव मांगा था। इस संबंध में जनवरी में तैयार किया गया प्रस्ताव आनन फानन में आंशिक संशोधन के साथ भेज दिया गया। प्रथम प्रस्ताव में उचेहरा तहसील का लगरगवां सर्किल प्रस्तावित मैहर जिले के साथ लेकिन इसे सतना में ही रखने का निर्णय लिया गया। मैहर जिले में मैहर के अलावा अमरपाटन, रामनगर और उचेहरा तहसील के 20 राजस्व सर्किल के  913 गांव आएंगे। मैहर जिले का कुल क्षेत्रफल 3 लाख 23 हजार 953 हेक्टेयर होगा। उचेहरा का परसमिनया पठार जल्दी ही मैहर जिले का हिस्सा बनेगा। 
 सबसे दूर झिन्ना-ताला  
मैहर जिला मुख्यालय से सबसे ज्यादा 70 किलोमीटर की दूरी पर रामनगर तहसील का राजस्व सर्किल झिन्ना होगा। जबकि अमरपाटन तहसील के ताला सर्किल की दूरी 60 किलोमीटर होगी।  मैहर जिले का निर्माण उचेहरा के 4 में से 3, मैहर के 7, अमरपाटन और रामनगर के 3- 3  राजस्व सर्किल को मिला कर किया जाएगा। 
इस तरह से सतना जिले की कुल 11 तहसीलों में से 3 तहसीले अलग हो जाएंगी। 
6 जिलों की सीमा 
नए मैहर जिले की सीमा 6 अन्य जिलों से जुड़ेगी। जिसमें से उत्तर में सतना, पूर्व में रीवा,सीधी, उमरिया, पश्चिम में पन्ना और  दक्षिण में कटनी जिले की सीमा होगी। 
 फैक्ट फाइल 
  कुल तहसील : 3
 राजस्व सर्किल : 20 
 ग्राम : 913 
 कुल क्षेत्रफल : 3 लाख 23 हजार 953 हे.
एक नजर में :-------- 
 * मैहर 
 सर्किल : 7
क्षेत्रफल : 254 
क्षेत्रफल :  1 लाख 15 हजार 416 हे. 
 * अमरपाटन 
 सर्किल : 3
 गांव : 191
क्षेत्रफल : 67 हजार 548 हे.
*  रामनगर 
 सर्किल : 3
 गांव : 268 
क्षेत्रफल : 59 हजार 315 हे.
 * उचेहरा  
 सर्किल: 3
 गांव : 200 
क्षेत्रफल : 81 हजार 673 हे. 
 

खबरें और भी हैं...