Arrested: मैसूर पुलिस ने गोलीबारी और डकैती मामले में सरगना समेत 2 और को गिरफ्तार किया

September 1st, 2021

डिजिटल डेस्क, मैसूर। मैसूर गोलीबारी और डकैती मामले की जांच कर रही कर्नाटक पुलिस की विशेष टीम ने मामले में सरगना समेत दो और गिरफ्तारियां की हैं। पुलिस ने बुधवार को यह जानकारी दी। इस मामले में पहले अलग-अलग राज्यों से छह लोगों को गिरफ्तार किया गया था। 23 अगस्त को दिनदहाड़े हुई गोलीबारी और डकैती की घटना से शहर में हड़कंप मच गया था। मैसूर में एक ज्वैलरी स्टोर में लूटपाट करने के बाद गिरोह ने एक राहगीर के सिर में गोली मारकर उसकी हत्या कर दी थी।

पुलिस के मुताबिक, मैसूर में सोने और चांदी के आभूषण की दुकान चलाने वाला महेंद्र इस मामले में सरगना है। वह डकैतों के लगातार संपर्क में था और उन्हें नियमित जानकारी देता था।

पुलिस ने कहा कि एक अन्य आरोपी को नियंत्रण रेखा (एलओसी) से महज 10 किलोमीटर दूर जम्मू-कश्मीर में राजौरी जिले के पास एक सीमावर्ती गांव से गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने कहा कि व्यापारिक प्रतिद्वंद्विता ने अपराध को जन्म दिया। दुकान के बारे में जानकारी लेने वाला आरोपी एक महीने पहले मैसूर आया और उसने वारदात को अंजाम दिया। हालांकि, आभूषण की दुकान में लगे सीसीटीवी के कारण उसे गिरफ्तार कर लिया गया।

एक जांच में खुलासा हुआ कि वारदात के वक्त सरगना महेंद्र डकैतों के लगातार संपर्क में था। पुलिस के अनुसार, आरोपी ने अपराध करने से एक दिन पहले लक्षित आभूषण की दुकान की रेकी की थी। इस वारदात को अंजाम देने के बाद आरोपी लूटे गए सोने के जेवर लेकर ऑटो में सवार होकर रेलवे स्टेशन भाग गया और बेंगलुरु पहुंच गया था। पुलिस सूत्रों ने कहा कि वहां से, आय साझा करने के बाद वे अलग-अलग राज्यों में चले गए।

पुलिस इस मामले में एक अन्य व्यक्ति की तलाश कर रही है। इससे पहले भी पुलिस दल आरोपी व्यक्तियों को पकड़ने के लिए राजस्थान, पश्चिम बंगाल, मुंबई और जम्मू-कश्मीर गए थे। इस बीच, जिला प्रभारी मंत्री टी. सोमशेखर, जिन्होंने गोलीबारी और डकैती और सामूहिक दुष्कर्म के मामलों के मद्देनजर मैसूर से पुलिस विभाग में शीर्ष पुलिस अधिकारियों को हटाने का संकेत दिया। उन्होंने कहा कि ऐसी कोई कार्रवाई नहीं की जाएगी।

उन्होंने कहा, फिलहाल तबादलों की कोई जरूरत नहीं है। हालांकि पुलिस विभाग को निर्देश दिया जाएगा कि भविष्य में शहर में ऐसी घटनाएं न हों।

आईएएनएस