comScore

तिलवारा पुल पर टकराया ट्राला रेलिंग नीचे गिरने से एक की मौत - मचा कोहराम, अस्थि विसर्जन करने पहुँचे लोगों में भगदड़ 

तिलवारा पुल पर टकराया ट्राला रेलिंग नीचे गिरने से एक की मौत - मचा कोहराम, अस्थि विसर्जन करने पहुँचे लोगों में भगदड़ 

डिजिटल डेस्क जबलपुर । तिलवारा थाना क्षेत्र में सुबह सवा 11 बजे के करीब तिलवारा पुल के ऊपर से गुजर रहे एक ट्राले की एक्सल रॉड टूटने के बाद ट्राला लहराकर पुल की रेलिंग से टकरा गया। ट्राला के टकराने से रेलिंग टूटकर नीचे गिर गई और नीचे अस्थि विसर्जन करने पहुँचे लोगों में भगदड़ मच गई। ऊपर से गिरी रेलिंग की चपेट में आने से नीचे एक व्यक्ति की मौत हो गई, वहीं 3 लोग गंभीर रूप से घायल हो गए। हादसे के बाद ट्राला चालक मौके से फरार हो गया। सूचना पर पुलिस ने मामला दर्ज कर आरोपी चालक की तलाश शुरू की है। 
सूत्रों के अनुसार तिलवारा पुल पर ट्राला टकराने की सूचना पर पहुँची पुलिस को बीटी तिराहा निवासी महेंद्र सिंगरहा, उम्र 35 वर्ष ने बताया कि उसके पिता की मृत्यु हो गई थी और वह अपने परिजनों के साथ खारी लेकर तिलवाराघाट आए थे। सुबह सवा 11 बजे के करीब पुल के नीचे नर्मदा नदी में स्नान कर रहे थे।  तभी  एक ट्राला क्रमांक एचपी 72 एटी 3950 के   तिलवारा पुल की जाली से टकराने  पर पुल की रेलिंग टूटकर गिरने से  नदी में स्नान कर रहे उसके ससुर मेहतर लाल, भारत ढीमर, लखन लाल सिंगरहा, टेकराम तथा नरेन्द्र सिंगरहा आदि चपेट में आ गए थे।  इस हादसे में उसके ससुर मेहतर लाल ढीमर, उम्र 55 वर्ष, निवासी झुतेरा, जिला सिवनी के सिर में गंभीर चोट लगी और उनकी मौत हो गई, वहीं लखन सिंगरहा उम्र 55 वर्ष निवासी बालाघाट, नरेन्द्र सिंगरहा उम्र 32 वर्ष निवासी बीटी तिराहा आदि घायल हुए थे। घायलों को इलाज के लिए मेडिकल कॉलेज में भर्ती कराया गया है।
बहाव में बहने लगे थे घायल - तिलवारा में हुए हादसे ने सिंगरहा परिवार को फिर से मातम में डुबो दिया। पिता की खारी विसर्जन करने पहुँचे महेंद्र सिंगरहा के ससुर के ऊपर रेलिंग गिरने से वह घायल हो गए और नदी के तेज बहाव में बह गए थे। इस दौरान वहाँ मौजूद नाविकों ने तत्परता दिखाते हुए काफी दूर जाकर उन्हें पानी से बाहर निकाला, तब तक उनकी मौत हो चुकी थी। 
मधुमक्खियों ने हमला बोला 
 उधर प्रत्यक्षदर्शियों का कहना था कि पुल के ऊपर से गुजर रहे ट्राला के केबिन में मधुमक्खियों के झुंड ने हमला बोल दिया था। मधुमक्खियों का हमला होने से चालक का वाहन पर से नियंत्रण खो गया और ट्राला बहककर पुल की पट्टी तोड़कर रेलिंग से टकरा गया था। वाहन के रुकते ही चालक वाहन से कूदकर भाग गया।
खम्भा टूटकर ट्राला पर गिरा 
 हादसे के बाद पुल के ऊपर व नीचे लोगों की भीड़ जमा हो गई। प्रत्यक्षदर्शियों ने बताया कि ट्राला की स्पीड कम होने के कारण ट्राला रेलिंग में फँसकर रह गया। अगर ट्राला नीचे गिरता, तो बड़ा हादसा हो सकता था। उधर हादसे के बाद पुल पर ट्राला फँसने से एक तरफ का आवागमन काफी देर तक बाधित रहा। पुलिस ने मौके पर पहुँचकर ट्राला को क्रेन की मदद से पुल से अलग करवाया।  

कमेंट करें
g6reD