दैनिक भास्कर हिंदी: भोपाल में छिपकर बैठा था गांजा तस्कर, 23 किलो गांजा के साथ किया गिरफ्तार

April 9th, 2019

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। पनागर से फरार हुआ गांजा तस्कर दीपक जैन को पुलिस भोपाल से गिरफ्तार करके लायी है। आरोपी के कब्जे से पुलिस ने 23 किलो गांजा भी बरामद किया है। आरोपी भोपाल में छिपकर बैठा हुआ था, मुखबिर की सूचना पर दबिश देकर आरोपी को हिरासत में लिया गया है।

इस संबंध में थाना प्रभारी डॉ. रविन्द्र वर्मा ने बताया कि 28-03-19 को विश्वसनीय मुखबिर से सूचना पर विक्की उर्फ प्रकाश पाण्डे उम्र 24 वर्ष निवासी छोटी खेरमाई के पास पनागर के कब्जे से 45 किलो अवैध मादक पदार्थ गांजा जब्त किया गया था। इस दौरान एक व्यक्ति एक बड़ा थैला लेकर भाग गया था, पूछताछ पर भागने वाले व्यक्ति का नाम विक्की पाण्डे ने दीपक जैन निवासी गुरूनानक वार्ड पनागर बताते हुए थैले में गांजा रखा होना बताया था। पकड़े गए आरोपी विक्की उर्फ प्रकाश पाण्डे के विरुद्ध 8, 20 एनडीपीएस एक्ट प्रावधानों के तहत कार्यवाही की गयी थी। फरार आरोपी दीपक जैन की गिरफ्तारी हेतु हर सम्भावित स्थानों पर दबिश दी जा रही थी।

उड़ीसा एंव छत्तीसगढ़ से मादक पदार्थ गांजा ला रहा था
इस दौरान विश्वसनीय सूत्रों से जानकारी लगी कि दीपक जैन भोपाल में छिपा हुआ है। थाना प्रभारी पनागर प्रशिक्षु (भा.पुं.से.) डॉ. रविन्द्र वर्मा द्वारा एक टीम गठित कर फरार आरोपी की गिरफ्तारी हेतु भोपाल रवाना की गयी। टीम द्वारा भोपाल मे पतासाजी करते हुए दीपक जैन को पकड़कर थाना पनागर लाया गया। यहां पर आरोपी से सघन पूछताछ की गई तो दीपक जैन ने स्वीकार किया कि वह पिछले 6-7 वर्षो से चोरी छिपे उड़ीसा एवं छत्तीसगढ़ से मादक पदार्थ गांजा ला रहा था। 27-3-19 को भी दीपक जैन द्वारा ट्रेन के माध्यम से गांजा लाया गया और उसे बेचने के लिए विभिन्न स्थानों में छिपाकर रखा गया।

दीपक जैन ने शेष बचे गांजे को अपने घर के बाजू में बने दादा के मकान के बाथरूम में छिपाकर रखना स्वीकार किया। दीपक जैन की निशादेही पर आज दिनांक 9-4-19 को बताए हुए स्थान से 23 किलो गांजा जो कि 1 थैले एवं 1 बोरी मे रखा हुआ था कीमती ढाई लाख रुपए का एन.डी.पी.एस प्रावधानो के तहत विधिवत जब्त करते हुए आरोपी को 8, 20 एनडीपीएस एक्ट मे गिरफ्तार कर न्यायिक अभिरक्षा में जेल भेजा गया है। फरार आरोपी दीपक जैन पिता नरेश चंद्र जैन उम्र 30 वर्ष निवासी गुरूनानक वार्ड पनागर का गिरफ्तारी से बचने के लिए दिल्ली, मथुरा एवं भेपाल में छिपकर रहना स्वीकार किया है।  

पहले भी पकड़ा जा चुका है
उल्लेखनीय है कि पकड़ा गया आरोपी दीपक जैन वर्ष 2012 में भी अवैध गांजे की तस्करी में पकड़ा गया था, जो लगभग 11 माह जेल मे निरूद्ध रहा। वर्ष 2017 मे आरोपी के विरुद्ध आबकारी अधिनियम के तहत भी कार्यवाही की गयी थी, दीपक जैन की लगातार अभी तक आपराधिक ग्रतिविधियों में संलिप्तता होना पायी गयी है।

इनकी रही उल्लेखनीय भूमिका
थाना प्रभारी पनागर प्रशिक्षु (भा.पुं.से.) डॉ. रविन्द्र वर्मा, उप निरीक्षक दिलीप मिश्रा, आर.आर. दुबे, डी.पी. भगत, सउनि एस.एन.सिंह, आरक्षक अमित श्रीवास्तव, सुशील त्रिपाठी, पुष्पेन्द्र, विनोद शर्मा एवं आरक्षक चालक विक्रात की सराहनीय भूमिका रही।