दैनिक भास्कर हिंदी: जमशेदपुर: दो लोगों ने किया तीन साल की मासूम से रेप, पांचवे दिन मिली सिर कटी लाश

August 1st, 2019

हाईलाइट

  • तीन साल की मासूम के साथ दो लोगों ने किया रेप
  • रेप करने के बाद बच्ची का काटा सिर
  • पुलिस गिरफ्त में आरोपी, बच्ची का धड़ बरामद

डिजिटल डेस्क, रांची। झारखंड के जमशेदपुर में तीन साल की बच्ची के साथ रेप कर हत्या करने के मामले में पुलिस ने दो लोगों को गिरफ्तार कर जेल भेज दिया है। जानकारी के मुताबिक घटना 25 जुलाई की है। रेल डीएसपी नूर मुस्तफा अंसारी ने बताया कि 25 जुलाई को टाटा रेलवे स्टेशन से आरोपी रिंकू साहू और कैलाश कुमार ने रात 11.40 बजे बच्ची का अपहरण किया था। सीसीटीवी फुटेज में इस बात की पुष्टि हुई है। इस मामले में बच्ची की मां का प्रेमी मोनू मंडल उर्फ मोहम्मद शेख समेत कुल तीन गिरफ्तारी हुई है। डीएसपी मुस्तफा ने बताया कि बच्ची का अपहरण उस वक्त किया जब वह अपनी मां के साथ रात 10 से 11 बजे के बीच रेलवे स्टेशन पहुंची थी। दरअसल बच्ची की मां अपने प्रेमी और आरोपी मोनू मंडल के साथ भाग रही थी। 

 

 

डीएसपी नूर मुस्तफा ने बताया कि 26 जुलाई को इस मामले में पुलिस ने धारा 366, 372, 120 के तहत मामला दर्ज किया था। पुलिस ने सीसीटीवी फुटेज से आरोपियों के पहचान करने के बाद मुखबिरों को उनके पीछे लगा दिया था। इसके बाद पुलिस ने दोनों आरोपियों को उनके घर से गिरफ्तार किया। घटना के पांचवे दिन 30 जुलाई को रात 9 बजे टेल्को थाना क्षेत्र में एक तार कंपनी की बाउंड्री वॉल के पास बच्ची की बिन सिर की लाश बरामद हुई। बच्ची के जिस्म पर कोई कपड़ा नहीं था। बच्ची के निजी अंग पर जख्म के गहरे निशान थे। डीएसपी नूर मुस्तफा ने बताया कि बच्ची के जख्म से पता चल रहा था कि उसके साथ क्रूरता की सारी हादें पार की गई थीं। इस मामले में दोनों आरोपियों ने पूछताछ के बाद अपना गुनाह कबूल कर लिया है। डीएसपी ने बताया कि मोनू मंडल, शेख रिंकू और कैलाश पर दर्ज मामले में पोक्सो एक्ट और हत्या की धारा जोड़ी जाएगी। 

डीएसपी रेल मुस्तफा अंसारी ने शुक्रवार को कहा कि बच्ची के साथ रेप तथा हत्या मामले में दो लोगों को गिरफ्तार किया गया है। उन्होंने बताया कि गिरफ्तार आरोपी साइको किलर है और पहले भी वह कई मामलों में जेल जा चुका है। वहीं बस्तीवासियों का कहना है कि रिंकू की ओछी हरकतों के कारण ही पत्नी, दो बेटे और एक बड़ी बेटी ने पिता का घर छोड़ दिया है। रिंकू घर में अकेला रहता है। उसके घर आने-जाने का कोई समय नहीं है। दिन-रात बस नशा करता है। इसके अलावा उसका दिमाग गलत धंधे में लगा रहता है। बस्तीवासियों का कहना है कि रिंकू बस्ती वालों से अक्सर लड़ाई करता रहता था, लेकिन उसकी हवलदार मां घटना को मैनेज कर देती थी। डीएसपी रेल मुस्तफा अंसारी ने बताया कि पूछताछ में रिंकू साहू ने स्वीकार किया है कि वह आदतन बच्चा चोर है। उसने वर्ष 2008 में काशीडीह के गोविंद साहू के छह वर्षीय बच्चे को चुराकर कैलाश के हाथ पांच हजार रुपये में बेच दिया था। जेम्को आजाद बस्ती से साहिल के अपहरण का केस उसपर दर्ज है। इससे स्टेशन से 2018 में प्रवीण नामक गुलगुलिया की दो बेटियों को चुराने का संदेह भी पुलिस रिंकू पर कर रही है। 

 

 

खबरें और भी हैं...