comScore

कांडा की कहानी : जमींदारी से जेल तक गजब का गुणा-गणित है गोपाल का

October 25th, 2019 16:08 IST
कांडा की कहानी : जमींदारी से जेल तक गजब का गुणा-गणित है गोपाल का

हाईलाइट

  • जमींदारी से जेल तक गजब का गुणा-गणित है गोपाल का
  • गोपाल कांडा ने सिरसा से चुनाव जीता है, वो हरियाणा लोकहित पार्टी से मैदान में थे
  • चुनाव में जीत के बाद कांडा ने बीजेपी को अपना समर्थन दिया है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। हरियाणा की राजनीति का डूबता-चमकता, चमकता-डूबता सितारा, वह सितारा जिसने सत्ता का सुख अगर भोगा, तो तिहाड़ जेल की सलाखों की तन्हाई भी झेली। सितारे गर्दिश में पहुंचे तो 54 साल के गोपाल गोयल कांडा अपनी इमारतों की चार-दिवारी में बंद हो गए। अब जब सुनहरा मौका हाथ लगते देखा तो चार-दिवारी से बाहर आकर चुनावी मैदान में उतर ताल ठोंक दी। ताल ठोंकी तब किसी ने सोचा भी नहीं था कि गोपाल के वक्त का गुणा-गणित आखिर परिणाम क्या निकाल कर देगा?

अतीत पर नजर डालें तो एअर हॉस्टेस गीतिका शर्मा आत्महत्या कांड में कल तक दिल्ली पुलिस जिन गोपाल गोयल कांडा की तलाश में खाक छाना करती थी, अब वही गोपाल गोयल कांडा हरियाणा की राजनीति में लीक से हटकर कुछ कर दिखाने की भागदौड़ में लगे हैं।

हरियाणा के सिरसा जिले के बिलासपुर गांव के मूल निवासी गोपाल गोयल कांडा ने नौजवानी के दिनों में पुश्तैनी धंधा संभाला था। सिरसा की सब्जी मंडी में नाप तौल करने का। सब्जियों की नाप-तौल करते-करते गोपाल गोयल कांडा ने नेताओं की नब्ज पकड़ने का भी हुनर हथिया लिया। बस फिर क्या था, इसके बाद उन्होंने कभी पीछे मुड़कर नहीं देखा। सब्जी मंडी में माप-तौल का कांटा संभालने वाले गोपाल गोयल कालांतर में अपने नाम और जाति के बाद कांडा भी जोड़ने लगे। जबकि गोपाल गोयल के पिता मुरलीधर गोयल की गिनती सिरसा और उसके आसपास के इलाके में नामी वकीलों में हुआ करती थी।

देखते-देखते गोपाल गोयल कांडा हरियाणा के गृह राज्य मंत्री भी बन गए। सब्जी मंडी से निकल कर हरियाणा की राजनीति में कदम रखा। सत्ता का सुख मिला तो गोपाल गोयल कांडा को दो आंखों से जमाने में चार-चार दुनिया नजर आने लगीं।

कहा तो यह भी जाता था कि मेहनतकश गोपाल गोयल कांडा ने संघर्ष के दिनों में जूते बनाने का भी कारोबार किया। यह अलग बात है कि वो कारोबार नहीं चला। जूतों की बड़ी दुकान यानि शो-रुम खोला तो वहां भी किस्मत दगा दे गई। एक जमाने में चर्चाएं तो यह भी हुआ करती थीं कि हमेशा खुद के बलबूते कुछ कर गुजरने की ललक रखने वाले गोपाल गोयल कांडा ने जूते बनाने-बेचने के बाद टीवी रिपेयरिंग का भी काम कुछ वक्त तलक किया।

किस्मत ने पलटा अचानक तब मारा जब 1990 के दशक के अंत में गोपाल का प्रापर्टी के कारोबार में गणित सही बैठ गया। रियल स्टेट कारोबार के लिए गोपाल ने चुना हरियाणा का मंहगा शहर दिल्ली से सटा गुरुग्राम (तब गुड़गांव)। प्रॉपर्टी के कारोबार ने राजनीति में घुसने का रास्ता दिखा दिया। जब कदम राजनीति और रियल स्टेट के कारोबार में घुसे तो गोपाल पर अपराधियों के साथ सांठगांठ के भी आरोप लगे। हांलांकि गोपाल गोयल कांडा ने किसी भी अवांछनीय तत्व से अपने संबंधों को खुलकर कभी नहीं स्वीकारा। इतना ही नहीं 2000 के दशक में केंद्र सरकार की नजर में जब कांडा के कारनामे खटके तो उनके खिलाफ तमाम खुफिया जांच भी कराई गईं।

उन तमाम जांच की रिपोर्ट क्या रही? 10-15 साल बाद भी किसी को नहीं पता। हां यह जरुर है कि 2000 के ही दशक में (सन 2008) में गोपाल गोयल कांडा के अड्डों पर आयकर विभाग ने ताबड़तोड़ छापे जरुर मारे थे।

आयकर विभाग के उन छापों में क्या कुछ हाथ लगा या नहीं लगा? आयकर विभाग के अलावा आज तक किसी को जमाने में भनक तक नहीं है।

दौलत-शोहरत ने जब संग दिया तो गोपाल गोयल ने एक निजी एअरलाइंस कंपनी खोल ली। यह अलग बात है कि 2009 आते-आते एअरलाइंस कंपनी बंद हो गई। इसके बाद भी एअरलाइंस कंपनी से निकले मुसीबतों के जिन्नों ने गोपाल की जिंदगी का गणित गड़बड़ाने में कोई कसर बाकी नहीं छोड़ी। एअरलाइंस कंपनी में काम करने वाली एयर हॉस्टेस गीतिका शर्मा ने संदिग्ध हालातों में दिल्ली में आत्महत्या कर ली। मामला लिखा गया गोपाल गोयल कांडा के खिलाफ।

गीतिका शर्मा आत्महत्या कांड में कांडा को सत्ता सुख से विमुख होकर तिहाड़ जेल की तन्हा कोठरियों में कैद होना पड़ा। इसी के चलते सन 2012 में कांडा को राजनीतिक कुर्सी भी गंवानी पड़ी। 2012 में जेल पहुंचे कांडा सन 2014 में तिहाड़ से निकल कर बाहर आ पाए। उसके बाद सन 2014 में कांडा ने लोकसभा चुनाव लड़ा। उस चुनाव में हारना तय था सो हार गए।

कुल जमा आज के बदले हालातों में अगर यह कहा जाए कि गोपाल गोयल कांडा की जमींदारी से लेकर जेल तक की कहानी भी अपने आप में कम हैरतंगेज नहीं है तो अतिश्योक्ति नहीं होगी।

कमेंट करें
KOvjS
NEXT STORY

छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद का खात्मा ठोस रणनीति से संभव - अभय तिवारी

छत्तीसगढ़ में नक्सलवाद का खात्मा ठोस रणनीति से संभव - अभय तिवारी

डिजिटल डेस्क, भोपाल। 21वीं सदी में भारत की राजनीति में तेजी से बदल रही हैं। देश की राजनीति में युवाओं की बढ़ती रूचि और अपनी मौलिक प्रतिभा से कई आमूलचूल परिवर्तन देखने को मिल रहे हैं। बदलते और सशक्त होते भारत के लिए यह राजनीतिक बदलाव बेहद महत्वपूर्ण साबित होगा ऐसी उम्मीद हैं।

अलबत्ता हमारी खबरों की दुनिया लगातार कई चहरों से निरंतर संवाद करती हैं। जो सियासत में तरह तरह से काम करते हैं। उनको सार्वजनिक जीवन में हमेशा कसौटी पर कसने की कोशिश में मीडिया रहती हैं।

आज हम बात करने वाले हैं मध्यप्रदेश युवा कांग्रेस (सोशल मीडिया) प्रभारी व राष्ट्रीय समन्वयक, भारतीय युवा कांग्रेस अभय तिवारी से जो अपने गृह राज्य छत्तीसगढ़ से जुड़े मुद्दों पर बेबाकी से अपनी राय रखते हैं और छत्तीसगढ़ को बेहतर बनाने के प्रयास के लिए लामबंद हैं।

जैसे क्रिकेट की दुनिया में जो खिलाड़ी बॉलिंग फील्डिंग और बल्लेबाजी में बेहतर होता हैं। उसे ऑलराउंडर कहते हैं अभय तिवारी भी युवा तुर्क होने के साथ साथ अपने संगठन व राजनीती  के ऑल राउंडर हैं। अब आप यूं समझिए कि अभय तिवारी देश और प्रदेश के हर उस मुद्दे प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से लगातार अपना योगदान देते हैं। जिससे प्रदेश और देश में सकारात्मक बदलाव और विकास हो सके।

छत्तीसगढ़ में नक्सल समस्या बहुत पुरानी है. लाल आतंक को खत्म करने के लिए लगातार कोशिशें की जा रही है. बावजूद इसके नक्सल समस्या बरकरार है।  यह भी देखने आया की पूर्व की सरकार की कोशिशों से नक्सलवाद नहीं ख़त्म हुआ परन्तु कांग्रेस पार्टी की भूपेश सरकार के कदम का समर्थन करते हुए भारतीय युवा कांग्रेस के राष्ट्रीय कोऑर्डिनेटर अभय तिवारी ने विश्वास जताया है कि कांग्रेस पार्टी की सरकार एक संवेदनशील सरकार है जो लड़ाई में नहीं विश्वास जीतने में भरोसा करती है।  श्री तिवारी ने आगे कहा कि जितने हमारे फोर्स हैं, उसके 10 प्रतिशत से भी कम नक्सली हैं. उनसे लड़ लेना कोई बड़ी बात नहीं है, लेकिन विश्वास जीतना बहुत कठिन है. हम लोगों ने 2 साल में बहुत विश्वास जीता है और मुख्यमंत्री के दावों पर विश्वास जताया है कि नक्सलवाद को यही सरकार खत्म कर सकती है।  

बरहाल अभय तिवारी छत्तीसगढ़ मुख्यमंत्री बघेल के नक्सलवाद के खात्मे और छत्तीसगढ़ के विकास के संबंध में चलाई जा रही योजनाओं को जन-जन तक पहुंचाने के लिए निरंतर काम कर रहे हैं. ज्ञात हो कि छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री ने यह कई बार कहा है कि अगर हथियार छोड़ते हैं नक्सली तो किसी भी मंच पर बातचीत के लिए तैयार है सरकार। वहीं अभय तिवारी  सर्कार के समर्थन में कहा कि नक्सली भारत के संविधान पर विश्वास करें और हथियार छोड़कर संवैधानिक तरीके से बात करें।  कांग्रेस सरकार संवेदनशीलता का परिचय देते हुए हर संभव नक्सलियों को सामाजिक  देने का प्रयास करेगी।  

बीते 6 महीने से ज्यादा लंबे चल रहे किसान आंदोलन में भी प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से अभय तिवारी की खासी महत्वपूर्ण भूमिका हैं। युवा कांग्रेस के बैनर तले वे लगातार किसानों की मदद के लिए लगे हुए हैं। वहीं मौजूदा वक्त में कोरोना की दूसरी लहर के बाद बिगड़ी स्थितियों में मरीजों को ऑक्सीजन और जरूरी दवाऐं निशुल्क उपलब्ध करवाने से लेकर जरूरतमंद लोगों को राशन की व्यवस्था करना। राजनीति से इतर बेहद जरूरी और मानव जीवन की रक्षा के लिए प्रयासरत हैं।

बहरहाल उम्मीद है कि देश जल्दी करोना से मुक्त होगा और छत्तीसगढ़ जैसा राज्य नक्सलवाद को जड़ से उखाड़ देगा। देश के बाकी संपन्न और विकासशील राज्यों की सूची में जल्द शामिल होगा। लेकिन ऐसा तभी संभव होगा जब अभय तिवारी जैसे युवा और विजनरी नेता निरंतर रणनीति के साथ काम करेंगे तो जल्द ही छत्तीसगढ़ भी देश के संपन्न राज्यों की सूची में शामिल होगा।