दैनिक भास्कर हिंदी: Astrology advice: शनिवार के दिन भूलकर भी ना करें ये काम, जानें इनके बारे में

June 12th, 2020

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। शनि देव को न्याय का देवता कहा जाता है। ऐसा माना जाता है कि यदि उनकी कुदृष्टि किसी पर पड़ गई तो राजा को रंक बनते हुए भी देर नहीं लगती। यही कारण है कि शनि देव को प्रसन्न करने का प्रयास सभी अधिक करते रहते हैं। मान्यतानुसार शनिदेव को प्रसन्न करने के लिए प्रत्येक शनिवार को सरसों का तेल और काले तिल चढ़ाना चाहिए। 

यदि आप शनि को प्रसन्न रखना चाहते हैं, तो आपको शनिवार के दिन कुछ सावधानियां बरतने की आवश्यकता होती है। चूंकि शास्त्रों के अनुसार शनिवार के दिन कई काम वर्जित होते हैं, जिन्हें भूलकर भी नहीं करना चाहिए। यदि आप ऐसा करते हैं तो शनिदेव रुष्ट हो जाते हैं और उनके क्रोधित होते ही दुर्भाग्य का साया व्यक्ति के सिर पर मंडराने लगता है। आइए जानते हैं इन कामों के बारे में...

मिथुन संक्रांति: जानें कब मनाया जाएगा ये पर्व और क्या है इसका महत्व

इन कामों से बचना चाहिए:
-शनिवार के दिन कभी लोहा नहीं खरीदना चाहिए। ऐसा करने से बचना चाहिए।
- शनिवार के दिन सरसों का दान किया जाता है, लेकिन कभी सरसों का तेल या सरसों के दाने नहीं खरीदे जाते। 
- शनिवार को मांस मदिरा के सेवन से भी बचना चाहिए। क्योंकि ऐसा करने से शनि देव नाराज हो सकते हैं।
- शनि देवता पर काली उड़द भी चढ़ाई जाती है इसीलिए वह भी नहीं खरीदनी चाहिए।

क्या आपके घर में होती है कलह? या हमेशा कोई रहता है बीमार तो हो सकता है ये कारण

- इसके अलावा शनिवार के दिन मसूर दाल का सेवन भी नहीं करना चाहिए। मसूर सूर्य और मंगल ग्रह से संबंधित खाद्य पदार्थ हैं और इन ग्रहों का शनि का के साथ शत्रुवत संबंध है। ऐसे में शनिवार के दिन मसूर दाल के सेवन करने से शनि नाराज हो सकते हैं।  
- इस दिन कैंची नही खरीदना चाहिए मान्यता है कि इस दिन खरीदी गई कैंची रिश्तों में तनाव लाती है। इसलिए इस दिन कैंची खरीदने से बचें।
- जूते या काले कपड़े खरीदने के लिए भी शनिवार का दिन सही नहीं है।
- नमक शनिवार के दिन खरीदने से घर में दरिद्रता आती है। इस दिन नमक खरीदने से यह घर पर कर्ज बढ़ता है। साथ ही ऐसा करना रोगकारी भी सिद्ध हो सकता है।