धर्म : इस दिन से शुरू हो रही हैं आषाढ़ माह की गुप्त नवरात्रि, बताशे और इस मंत्र के साथ करें मां दुर्गा का पूजन, मिलेगा शुभ फल

June 16th, 2022

डिजिटल डेस्क, भोपाल। हिन्दू में नवरात्रि को लेकर एक अलग ही उत्साह देखने को मिलता है। साल में करीब चार बार नवरात्रि आती है। दो गुप्त नवरात्रि और दो सामान्य होती हैं। ऐसा माना जाता है, कि गुप्त नवरात्रि में दस महाविद्याओं की पूजा-अर्चना की जाती है। गुप्त नवरात्रि  में तन्त्र विद्या का विशेष महत्त्व होता है। आषाढ़ मास में पड़ने वाली गुप्त नवरात्रियों को आषाढ़ गुप्त नवरात्रि के नाम से जानते हैं। पंचांग के अनुसार आषाढ़ माह की गुप्त नवरात्रि 30 जून से शुरू हो रही हैं जिसका समापन 9 जुलाई 2022 को होगा। 

आषाढ़ गुप्त नवरात्रि 2022 शुभ मुहूर्त
आषाढ़ गुप्त नवरात्रि 30 जून से शुरू हो रही है. जोकि 09 जुलाई तक चलेगी
गुप्त नवरात्रि प्रतिपदा तिथि का आरंभ - 29 जून 2022, सुबह 8 बजकर 21 मिनट
गुप्त नवरात्रि प्रतिपदा तिथि की समाप्ति - 30 जून 2022, सुबह 10 बजकर 49 मिनट
घट स्थापना मुहूर्त - 30 जून 2022, सुबह 5 बजकर 26 मिनट से 6 बजकर 43 मिनट तक

आषाढ़ नवरात्रि में कैसे करें मां दुर्गा की पूजा 
आषाढ़ गुप्त नवरात्रि की पूजा करने के लिए सबसे पहले स्नान करके घट स्थापना की जाती है। घट स्थापना के बाद ही पूजा प्रारंभ की जाती है। गुप्त नवरात्रि में मां दुर्गा को बताशे का भोग लगाया जाता है। मां दुर्गा की पूजा करते समय श्रृंगार के सारे सामान चढ़ाना चाहिए। गुप्त नवरात्रि के समय दोनों वक्त पूजा और आरती करनी चाहिए। माता की पूजा के दौरान ओम् दुं दुर्गायै नमः का जाप करें तो यह और भी अच्छा माना जाता है।