दैनिक भास्कर हिंदी: Fake News: पूर्व चीफ जस्टिस ने कहा- अगर बच्चे पैदा करने पर कोई रोक नहीं, तो उनके भूखे रहने पर सरकार जिम्मेदार नहीं, जानें क्या है वायरल ट्वीट का सच

September 22nd, 2020

डिजिटल डेस्क। पिछले कुछ दिनो से सोशल मीडिया पर पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई से जोड़कर एक ट्वीट का स्क्रीनशॉट वायरल हो रहा है।  रंजन गोगोई नाम के ट्विटर अकाउंट से किए गए इस ट्वीट में लिखा है, अगर, बच्चा पैदा करना व्यक्तिगत अधिकार है, अगर इस पर रोक नहीं लगाई जा सकती, तो फिर उनके भूखे रहने पर सरकार जिम्मेदार कैसे है ?

किसने किया शेयर?
कई ट्विटर और फेसबुक यूजर ने भी यही दावा किया है। 

क्या है सच?
भास्कर हिंदी टीम ने पड़ताल में पाया कि, जिस ट्विटर हैंडल का ट्वीट वायरल हो रहा है। उस पर ब्लू टिक नहीं है। इसी से स्पष्ट हो रहा है कि ये पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई का ऑफिशियल ट्विटर अकाउंट नहीं है। फिर हमने ट्विटर पर रंजन गोगोई के अकाउंट के बारे में सर्च किया तो हमे पता चला कि, रंजन गोगोई का ट्विटर पर कोई अकाउंट ही नहीं है। न्यूज एजेंसी या सरकार से जुड़े ट्विटर अकाउंट से भी कई बार रंजन गोगोई से संबंधित ट्वीट किए गए। इसमें किसी भी ट्विटर हैंडल को टैग नहीं किया गया है। अलग-अलग कीवर्ड सर्च करने से भी इंटरनेट पर हमें ऐसी कोई खबर नहीं मिली। जिससे पुष्टि होती हो कि पूर्व चीफ जस्टिस ने जनसंख्या नियंत्रण को लेकर कोई बयान दिया है।

निष्कर्ष : सोशल मीडिया पर वायरल ट्वीट फर्जी अकाउंट से किया गया है। दरअसल पूर्व चीफ जस्टिस रंजन गोगोई का ट्विटर पर कोई अकाउंट ही नहीं है। 

खबरें और भी हैं...