• Dainik Bhaskar Hindi
  • Fake News
  • Has PM Modi said that you can give leftover food of any function or party to poor children by calling 1098 helpline?

फैक्ट चैक: क्या प्रधानमंत्री मोदी ने कहा है कि आप 1098 हेल्पलाइन पर फोन करके किसी समारोह या पार्टी का बचा खाना गरीब बच्चों को दे सकते हैं? जाने सच

June 15th, 2022

हाईलाइट

  • ऐसे ही दावे के साथ अन्य कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मों यह पोस्ट देखी जा सकती है

डिजिटल डेस्क, भोपाल। सोशल मीडिया पर इन दिनों एक पोस्ट वायरल हो रही है। जिसमें दावा किया जा रहा है कि आप समारोह में बचे खाने को 1098 पर फोन करके गरीब बच्चों के लिए चाइल्ड हेल्पलाईन वालों को दे सकते हो। 
वायरल पोस्ट में लिखा है ‘खुशखबरी: प्रधानमंत्री मोदी की घोषणा के अनुसार – अगर आपके घर में कोई समारोह/ पार्टी है और बहुत सारा खाना बर्बाद हो जाता है, तो कृपया 1098 (भारत में किसी भी जगह) पर कॉल करें- चाइल्ड हेल्पलाइन के लोग और भोजन एकत्र किया जाएगा...कृपया इस संदेश को हर जगह फैलाएं कि कई बच्चे खाने से मदद मिल सकती है’

ऐसे ही दावे के साथ अन्य कई सोशल मीडिया प्लेटफॉर्मों यह पोस्ट देखी जा सकती है।

पड़ताल – हमने दावे की सच्चाई जानने के लिए वायरल हो रही पोस्ट में दिये नंबर 1098 के बारे रिसर्च की। रिसर्च में हमने पाया कि 1098 फोन नंबर का बचे हुए खाने से कोई संबंध नहीं है। ये चाइल्डलाइन इंडिया फांउनडेशन का नंबर है। ये एजेंसी बच्चों के लिए बचा हुआ खाना इकठ्ठा नहीं करती। 
हमने इंटरनेट पर खोजा तो हमें यह नंबर चाइल्डलाइन इंडिया फाउंडेशन की वेबसाइट पर प्राप्त हुआ। वेबसाइट के मुताबिक, 1098 फोन नंबर बच्चों की केयर और सुरक्षा के लिए 24 घंटे और 365 दिन चलने वाला एक टोल फ्री नंबर है। बच्चों से जुड़ी किसी भी समस्या के लिए इस नंबर पर फोन करके सहायता मांगी जा सकती है। 


हमें इस फाउंडेशन के ऑफिशियल फेसबुक पेज पर एक पोस्ट मिली, जो कि 22 अक्टूबर 2014 की थी। इसमें साफ तौर पर इस बात का जिक्र है कि 1098 नंबर पर बचा हुआ खाना एकत्रित करने के लिए फोन करने की बात पूरी तरह से गलत है। यह एजेंसी खाना एकत्रित करने या बांटने का काम नहीं करती।

 

हमारी पड़ताल में हमें इस वायरल पोस्ट से जुड़ा पीआईबी फैक्ट चैक का 17 मई 2022 का ट्वीट मिला। जिसमें यह कहा गया है कि 1098 का बच्चों के लिए खाना एकत्रित करने से कोई लेना-देना नहीं है।

हमारी पड़ताल में हमें इस वायरल पोस्ट से जुड़ा पीआईबी फैक्ट चैक का 17 मई 2022 का ट्वीट मिला। जिसमें यह कहा गया है कि 1098 का बच्चों के लिए खाना एकत्रित करने से कोई लेना-देना नहीं है।

26 मार्च 2017 को अपने रेडियो प्रोग्राम मन की बात में पीएम मोदी ने खाने की बर्बादी के बारे में बात जरुर की थी लेकिन उन्होंने किसी नंबर का उल्लेख नहीं किया था।
यहां आपको बता दें कि चाइल्डलाइन इंडिया फाउंडेशन जरुर खाना एकत्रित करने का काम नहीं करती लेकिन कुछ दूसरी प्राइवेट संस्थाएं हैं जो ये काम करती हैं। ये संस्थाएं हैं, नो फूड वेस्ट, मेरा परिवार और फीडिंग इंडिया। 

हमारी पड़ताल में हमने पाया कि फोन नंबर 1098 चाइल्डलाइन इंडिया फाउंडेशन का नंबर जरुर है लेकिन यह एजेंसी गरीब बच्चों के लिए बचा हुआ खाना एकत्रित करने का काम नहीं करती और न ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ऐसी कोई घोषणा की है।
 

खबरें और भी हैं...