दैनिक भास्कर हिंदी: एक ही समय में कोरोना के दो अलग-अलग वैरिएंट से संक्रमित हुई महिला, विशेषज्ञों के लिए चिंता का सबब

July 12th, 2021

हाईलाइट

  • 90 वर्षीय महिला में एक ही समय में कोरोना के दो अलग-अलग वैरिएंट पाए गए
  • पांच दिनों में ही महिला ने दम तोड़ दिया
  • विशेषज्ञों के अनुसार यह कोरोना के सह-संक्रमण का पहला मामला है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दुनियाभर में कोरोनावायरस की दूसरी लहर का प्रभाव देखने को मिला है। वहीं कोरोना की तीसरी लहर की आशंका के बीच कोरोनावायरस का डेल्टा वैरिएंट इस समय कई देशों में परेशानी का कारण बना हुआ है। इसी बीच 90 वर्षीय महिला में एक ही समय में कोरोना के दो अलग-अलग वैरिएंट ने चिंताएं और बढ़ा दी हैं। बेल्जियम से इस दुर्लभ मामले की खबर सामने आने के बाद से स्वास्थ्य विशेषज्ञों का मानना है कि इससे कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई पहले से ज्यादा मुश्किल हो सकती है।  

कोरोना के दो अलग-अलग वैरिएंट से संक्रमित होने के बाद बेल्जियम निवासी महिला की मार्च 2021 में मौत हो गई थी। शोधकर्ताओं के मुताबिक, 90 साल की महिला एक ही समय में अल्फा और बीटा वैरिएंट से संक्रमित पाई गई थी। महिला ने कोरोना वैक्सीन नहीं लगवाई थी, जिसके कारण उसकी स्थिति बिगड़ती चली गई थी। उसे मार्च में ओएलवी अस्पताल में भर्ती कराया गया था, जहां पांच दिनों में ही उसकी मृत्यु हो गई थी।

तबीयत तेजी से बिगड़ी
अस्पताल में किए गए कोरोना टेस्ट में महिला की रिपोर्ट पॉजिटिव आई थी। शुरुआत में महिला का ऑक्सीजन लेवल अच्छा था, लेकिन फिर उसकी तबीयत तेजी से बिगड़ती चली गई जिसके चलते पांचवें दिन उसकी मृत्यु हो गई। अस्पताल ने जब यह जानने की कोशिश की कि महिला कोरोना के किस वैरिएंट से संक्रमित थी तो उसमें कोरोना के अल्फा और बीटा दोनों वैरिएंट पाए गए थे। सबसे पहले अल्फा वैरिएंट ब्रिटेन में पाया गया था, तो वहीं बीटा वैरिएंट सबसे पहले दक्षिण अफ्रीका में मिला था।

विशेषज्ञों ने जताई चिंता
विशेषज्ञों का कहना है कि यह कोरोना के सह-संक्रमण का पहला मामला है, जिसमें दो वैरिएंट एक ही शरीर में पाए गए हैं। ऐसे मामले चिंता का विषय हैं और इन्हें गंभीरता से लिया जाना चाहिए। वहीं, बेल्जियम के आल्स्ट में ओएलवी अस्पताल के प्रमुख शोधकर्ता डॉ ऐनी वेंकेरबर्गेन ने कहा कहा कि बेल्जियम में पहले से ही कोरोना के अल्फा और बीटा वैरिएंट मौजूद थे। ऐसे में महिला दो अलग-अलग लोगों के संपर्क में आने के कारण वायरस के दो वैरिएंट से संक्रमित हो गई। हालांकि, यह पता नहीं चल सका कि वह कोरोना की चपेट में आई कैसे थी।