दैनिक भास्कर हिंदी: महाराष्ट्र में रोजाना ब्रिटेन से अधिक कोरोना मामले (आईएएनएस विशेष)

June 9th, 2020

हाईलाइट

  • महाराष्ट्र में रोजाना ब्रिटेन से अधिक कोरोना मामले (आईएएनएस विशेष)

मुंबई, 9 जून (आईएएनएस)। महाराष्ट्र में कोविड-19 का पहला मामला नौ मार्च को सामने आया था और राज्य में अब तीन महीने बाद कोरोना संक्रमित मामलों की संख्या 88,528 तक पहुंच चुकी है। यहां दैनिक संक्रमण की वर्तमान दर ब्रिटेन से भी अधिक हो चुकी है।

भारत में फिलहाल कोरोना संक्रमितों की संख्या 266,598 तक जा पहुंची है, जो कि आठ जून तक वायरस के जन्मदाता चीन (लगभग 83,040 मरीज), फ्रांस (150,315), तुर्की (170,132), ईरान (171,789), जर्मनी (184,193), पेरू (191,758), इटली (234,998) और स्पेन (241,550) से भी कहीं अधिक हो चुकी है।

भारत अब ब्रिटेन की वर्तमान संख्या (286,198 मामले) से कुछ ही दूरी पर है। इसके अलावा सबसे अधिक संक्रमित देशों में रूस (476,658), ब्राजील (672,846) और अमेरिका (1,915,712) शामिल हैं।

पिछले सप्ताह जारी कोविड-19 के आंकड़ों के अनुसार दो जून को ब्रिटेन में कुल 1653 मामले सामने आए थे, जबकि उसी दिन अकेले महाराष्ट्र में ही 2,287 नए मामले सामने आए।

इसी तरह तीन जून को ब्रिटेन में 1,871 मामले सामने आए, जबकि उसी दिन महाराष्ट्र में 2,560 कोरोना मामले देखे गए। चार जून को ब्रिटेन में 1,805 और महाराष्ट्र में 2,933, पांच जून को ब्रिटेन में 1,650 और महाराष्ट्र में 2,436 कोरोना के मामले सामने आए।

छह जून को ब्रिटेन में जहां 1,557 मामले देखने को मिले, वहीं महाराष्ट्र में 2,739, सात जून को ब्रिटेन में 1,326 और महाराष्ट्र में 3,007, आठ जून को ब्रिटेन में 1,205 जबकि महाराष्ट्र में 2,553 कोरोना संक्रमित मरीज सामने आए।

महाराष्ट्र में कोरोना का पहला मामला नौ मार्च को सामने आया था और इसके नौ दिनों बाद ही 17 मार्च को यहां संक्रमण के वजह से पहली मौत हुई थी।

पिछले तीन महीनों के दौरान वायरस की वजह से राज्य में 3,169 लोगों ने अपनी जान गंवा दी है। इसमें देश की वाणिज्यिक राजधानी मुंबई में 1,702 मौतें शामिल हैं।

राज्य में रोजाना दो हजार से अधिक संक्रमण के मामले सामने आ रहे हैं। यहां 24 मई को सर्वाधिक 3041 मामले दर्ज किए गए थे।

देश में कोरोना का पहला मामला 30 जनवरी को केरल में दर्ज किया गया था, जबकि इसके 38 दिनों बाद महाराष्ट्र में नौ मार्च को पहला मामला सामने आया। मगर इसके बाद महाराष्ट्र में कोरोना मामलों की संख्या में सबसे तेज वृद्धि दर्ज की गई और यह जल्दी ही देश में सर्वाधिक कोरोना संक्रमित प्रदेश बन गया।