दैनिक भास्कर हिंदी: दिल्ली में फिर नया रिकॉर्ड, 1 दिन में 1295 कोरोना रोगी

May 31st, 2020

हाईलाइट

  • दिल्ली में फिर नया रिकॉर्ड, 1 दिन में 1295 कोरोना रोगी

नई दिल्ली, 31 मई (आईएएनएस)। दिल्ली में कोरोना वायरस के नए मामले हर दिन तेजी से बढ़ रहे हैं। इसी के साथ ही दिल्ली में कोरोना रोगियों का हर रोज एक नया रिकॉर्ड भी बन रहा है। अभी तक के सारे रिकॉर्ड तोड़ते हुए बीते 24 घंटे के दौरान दिल्ली में कोरोना के 1295 नए रोगी मिले हैं। इसके साथ ही दिल्ली सरकार ने कोरोना से मरने वाले 57 लोगों का नया आंकड़ा भी जारी किया है।

दिल्ली सरकार ने अपने आधिकारिक बुलेटिन में कहा, दिल्ली में अभी तक कोरोना से 473 लोगों की मृत्यु हो चुकी है। वहीं कोरोना की चपेट में आए रोगियों की कुल संख्या 19844 हो गई है।

शनिवार तक दिल्ली में कोरोना से मरने वालों की संख्या 416 थी। रविवार को जारी किए गए बुलेटिन में बताया गया कि बीते 24 घंटे के दौरान 13 व्यक्ति की मृत्यु हुई है। जबकि शेष 44 व्यक्तियों की मृत्यु 5 अप्रैल से अभी तक अलग-अलग दिनों में हुई थी।

विपक्ष केजरीवाल सरकार पर कोरोना के मामले छुपाने और कोरोना के कारण हुई मौतों की सच्चाई न बताने का आरोप लगा रहा है। वहीं दिल्ली सरकार के मुताबिक अस्पतालों द्वारा लेट रिपोटिर्ंग की गई है। जिसके कारण पहले हुई मृत्यु का आंकड़ा अब जारी किया गया है।

शनिवार को दिल्ली में एक दिन में 1163 नए कोरोना रोगी मिले थे। रविवार को 1295 नए मामलों की जानकारी मिलने के बाद अब दिल्ली में कोरोना वायरस के कुल 19,844 मामले हो चुके हैं। इनमें से 8478 व्यक्ति अभी तक स्वस्थ हुए हैं। दिल्ली में इस समय 10,893 कोरोना के एक्टिव रोगी हैं।

दिल्ली सरकार ने 5781 कोरोना पॉजिटिव रोगियों को उनके घर में ही आइसोलेशन में रखा है। दिल्ली सरकार के मुताबिक इन व्यक्तियों को स्वास्थ्य संबंधी कोई बड़ी समस्या नहीं है। सभी को घरों के अंदर आइसोलेशन में रहने को कहा गया है। साथ ही इस दौरान यह लोग लगातार फोन के माध्यम से डॉक्टरों के संपर्क में रहेंगे।

मुख्यमंत्री केजरीवाल ने कहा, मोटे तौर पर कहना चाहता हूं कि जितने लोगों को कोरोना हो रहा है, उसमें ज्यादातर लोगों को कोई लक्षण नहीं दिख रहा है या उनको इतना मामूली लक्षण हल्की खांसी या बुखार हो रहा है और वे अपने घर पर ही इलाज करा रहे हैं। 15 दिन में करीब 8500 केस बढ़े, लेकिन अस्पतालों में केवल 500 केस ही बढ़े हैं। इसलिए घबराने की जरूरत नहीं है। कोरोना केस इतने बढ़ने नहीं चाहिए और यह चिंता का विषय है। हम भी नहीं चाहते हैं कि केस बढ़े। कोरोना के अधिकतर मरीज अपने घर पर ही ठीक हो रहे हैं।