तालिबान हुकूमत: पंजशीर घाटी में जारी है भीषण लड़ाई, तालिबान ने किया पूर्ण नियंत्रण का दावा, प्रतिरोधी बलों ने किया खंडन

September 4th, 2021

हाईलाइट

  • पंजशीर में भीषण लड़ाई : तालिबान, प्रतिरोधी बल दोनों ने बढ़त का दावा किया

डिजिटल डेस्क, काबुल। अफगानिस्तान की पंजशीर घाटी का भाग्य अधर में है, क्योंकि वहां भारी लड़ाई जारी है। यहां तक कि तालिबान ने भी दावा किया कि उसने पंजशीर पर कब्जा करके अफगानिस्तान पर पूर्ण नियंत्रण स्थापित कर लिया है। जबकि प्रतिरोधी बलों ने इसका खंडन किया है। प्रतिरोधी बल में पूर्व उपराष्ट्रपति अमरुल्ला सालेह, पूर्व अफगान सुरक्षा बल के सदस्य और स्थानीय मिलिशिया शामिल हैं। दोनों पक्ष बढ़त हासिल करने का दावा कर रहे है।

बीबीसी ने बताया, सालेह ने उन दावों को भी खारिज कर दिया है कि वह भाग गए थे। हालांकि उन्होंने कहा कि स्थिति कठिन है। प्रतिरोधी बल का नेतृत्व स्थानीय आदिवासी नेता अहमद मसूद कर रहे हैं। उनके पिता ने 1980 के दशक में आक्रमण करने वाले सोवियत संघ और 1990 के दशक में तालिबान से सफलतापूर्वक लड़ाई लड़ी। बीबीसी को भेजे गए एक वीडियो संदेश में, अफगानिस्तान के पूर्व उपराष्ट्रपति सालेह ने कहा कि दोनों पक्षों में हताहत हुए है।

उन्होंने कहा, इसमें कोई शक नहीं कि हम मुश्किल स्थिति में हैं। हम पर तालिबान हमला कर रहा है। हम आत्मसमर्पण नहीं करेंगे, हम अफगानिस्तान के लिए खड़े हैं। उन्होंने कहा कि वह लोगों को आश्वस्त करने के लिए वीडियो साझा कर रहे हैं कि उनके देश छोड़ने की खबरें झूठी हैं। पंजशीर में लड़ाई में सैकड़ों लोगों के मारे जाने की खबर है। राजधानी काबुल के उत्तर में स्थित यह घाटी अफगानिस्तान के सबसे छोटे प्रांतों में से एक है और एकमात्र ऐसा प्रांत है जो तालिबान के कब्जे में नहीं है।

नेशनल रेसिस्टेंस फ्रंट (एनआरएफ) के लड़ाकों के प्रवक्ता अली नजरी ने बीबीसी वल्र्ड न्यूज को बताया कि विद्रोहियों ने तालिबान को बैकफुट पर धकेल दिया है। उन्होंने कहा, कुछ सौ से अधिक तालिबान फंसे हुए हैं। और उनके पास हथियारों की कमी है और वे अभी आत्मसमर्पण की शर्तों पर बातचीत कर रहे हैं। लेकिन तालिबान के अधिकारी क्षेत्र में जीत का दावा कर रहे हैं, एक कमांडर ने एक प्रमुख मीडिया आउटलेट को बताया, अल्लाह की कृपा से, हम पूरे अफगानिस्तान के नियंत्रण में हैं। पंजशीर अब हमारी कमान में है।

(आईएएनएस)