दैनिक भास्कर हिंदी: 2000 रुपए के नोट की हो रही जमाखोरी, बंद हो नोट: एससी गर्ग

November 8th, 2019

हाईलाइट

  • नोटबंदी की तीसरी वर्षगांठ पर गर्ग ने दावा किया
  • कहा 2,000 रुपए के नोट की जमाखोरी हो रही
  • नोट को प्रचलन से बाहर करने वाले सुझाव भी दिए

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दो हजार रुपए के नोट को बंद कर देना चाहिए क्योंकि लोगों ने दो हजार के नोट जमा कर लिए हैं, जिसकी वजह से अब ये ज्यादा चलन में नहीं हैं। यह कहना है भारत सरकार के आर्थिक मामलों के पूर्व सचिव सचिव सुभाष चंद्र गर्ग का। 

नोटबंदी की तीसरी वर्षगांठ पर गर्ग ने यह दावा कि 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट की जगह लाए गए 2,000 रुपए के नोट की जमाखोरी की जा रही है। उन्होंने सरकारी कंपनियों का राष्ट्रीयकरण खत्म करने और निजीकरण को बढ़ावा देने के अलावा 2000 रुपए के नोट को प्रचलन से बाहर करने वाले कुछ सुझाव भी दिए हैं। 

सरकार को दिए सुझाव
सुझावों से जुड़े नोट की एक कॉपी सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों को दी है। जिसमें गर्ग ने कहा है कि, "वित्तीय प्रणाली में अब भी काफी मात्रा में नकदी है। 2,000 रुपए के नोटों की जमाखोरी इसका सबूत है। पूरी दुनिया में डिजिटल भुगतान का विस्तार हो रहा है। भारत में भी ऐसा ही हो रहा है। हालांकि, विस्तार की रफ्तार धीमी है।"

खातों में जमा कराएं नोट
गर्ग ने कहा, "बिना किसी दिक्कत के इन नोटों को बंद किया जा सकता है। इसका एक आसान तरीका है कि इन नोटों को बैंक खातों में जमा कर दिया जाए। इसका उपयोग प्रक्रिया के प्रबंधन में किया जा सकता है।"

इसी दिन हुई थी नोटबंदी
बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने तीन साल पहले आज ही के दिन 500 और 1000 रुपए के पुराने नोट को बंद करने की घोषणा की थी। इसका उद्देश्य काले धन पर अंकुश लगाना ,डिजिटल भुगतान को बढ़ावा देना और देश को लेस - कैश अर्थव्यवस्था बनाना था।