comScore

मोदी के राज में 45 साल की सबसे ज्यादा बेरोजगारी: राहुल

मोदी के राज में 45 साल की सबसे ज्यादा बेरोजगारी: राहुल

हाईलाइट

  • मोदी और खट्टर के भाषणों में लगातार झूठे वादे सुनाई दे रहे हैं
  • हमारी सरकार में हरियाणा में अर्थव्यवस्था बेहतर थी
  • हरियाणा के विधानसभा चुनाव प्रचार के लिए नूंह में जनसभा को संबोधित किया

डिजिटल डेस्क, नूंह। पूरे देश में हर कोई भाजपा सरकार से परेशान है। नोटबंदी और गब्बर सिंह टैक्स (gst) जैसे फैसलों से सबको बर्बाद कर दिया, उद्योग-धंधे चौपट कर दिए। एक आदमी ऐसा नहीं है, जिसको इससे फायदा हुआ हो। यह कहना है पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी का। वे सोमवार को हरियाणा के विधानसभा चुनाव प्रचार के लिए नूंह में जनसभा को संबोधित करने पहुंचे थे। 

नूंह विधानसभा से कांग्रेस के उम्मीदवार चौधरी आफताब अहमद के लिए प्रचार करते हुए पूर्व कांग्रेस अध्यक्ष ने कहा कि आप याद कीजिए हमारी सरकार में हरियाणा में अर्थव्यवस्था कितनी बेहतर थी, किसानों को न्यूनतम समर्थन मूल्य मिलता था। आज मोदी के राज में देश में 45 साल की सबसे ज्यादा बेरोजगारी है। 

उन्होंने पीएम मोदी और सीएम खट्टर पर आरोप लगाते हुए कहा कि मोदीजी और खट्टर जी के भाषणों में एक के बाद एक लगातार झूठे वादे सुनाई दे रहे हैं। रोजगार का झूठा वादा, किसानों को सही दाम का झूठा वादा किया।

कानून मंत्री रविशंकर प्रसाद पर तंज

राहुल ने कहा कि इनके मीडिया के मित्रों का ठेका लगा हुआ है। आपने कभी टीवी पर बेरोजगारी की खबर देखी है? ये लोग बिलकुल नहीं दिखाएंगे, ये बॉलीवुड की बात करेंगे, लेकिन जनता को सब मालूम है। उन्होंने वादा किया कि इस क्षेत्र की कुछ आवश्यकताएं हैं। गुड़गांव से अलवर की रेलवे लाइन, नूंह इंजीनियरिंग कॉलेज को यूनिवर्सिटी का दर्जा, कोटला झील का विस्तार और मेवात नहर। हरियाणा में कांग्रेस सरकार बनते ही ये काम हो जाएंगे। 

अर्थव्यवस्था में तेजी लानी है ​तो गरीबों की जेब में पैसा डालना ही पड़ेगा

उन्होंने कहा कि हम गरीबों की शक्ति को समझते हैं। हम जानते हैं कि गरीब, किसान, मजदूर ही इस देश को बनाता और चलाता है। अगर अर्थव्यवस्था में तेजी लानी है, तो गरीब, किसान, मजदूर की जेब में पैसा डालना ही पड़ेगा। यूपीए सरकार की मनरेगा ने यही काम किया था। गरीबों की जेब में पैसा जाते ही, उनकी खरीदने की क्षमता बढ़ी, जिसका फायदा अर्थव्यवस्था को हुआ।
 

कमेंट करें
0Qzpl