comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

मुंबई ATS का छापा, सनातन संस्था से जुड़े शख्स के घर और दुकान से विस्फोटक बरामद

August 10th, 2018 15:49 IST

हाईलाइट

  • मुंबई के नालासोपारा में ATS ने छापेमारी कर बड़ी मात्रा में विस्फोटक बरामद किया।
  • सनातन संस्था से जुड़े वैभव राउत के घर से 8 देसी बम बरामद किए है।
  • पुलिस ने पूछताछ के बाद आरोपी शख्स को हिरासत में ले लिया है।

डिजिटल डेस्क, मुंबई। मुंबई के नालासोपारा में ATS ने छापेमारी कर बड़ी मात्रा में विस्फोटक बरामद किया। ATS टीम ने छापेमारी करते हुए सनातन संस्था से जुड़े वैभव राउत के घर से 8 देसी बम बरामद किए है। मुंबई एटीएस ने गुरुवार रात को छापेमारी की थी। छापेमारी के दौरान उनके साथ पुलिस टीम और डॉग स्क्वाड भी था। एटीएस सूत्रों की मानें तो वैभव राउत के घर से 8 देसी बम मिले हैं, तो वहीं घर के पास ही दुकान पर बम बनाने की सामग्री मिली है। जिसमें सल्फर और डेटोनेटर भी बरामद हुआ है। जानकारी के मुताबिक पिछले कुछ दिनों से संदिग्ध पर पुलिस और एटीएस की टीम नजर रखे हुए थी। खुफिया सूत्रों से जानकारी मिलने के बाद गुरुवार को एटीएस ने वैभव राउत के घर छापेमारी की। पुलिस ने पूछताछ के बाद आरोपी शख्स को हिरासत में ले लिया है। 


हालांकि इस पूरे मामले को लेकर सनातन संस्था के वकील संजीव पुनालेकर का कहना कि वैभव राऊत यह सनातन का साधक नहीं है, पर वो हिंदुत्व का कार्यकर्ता है। उन्होंने सनातन संस्था पर लगाए सभी आरोप गलत बताया है। संजीव ने कहा है कि वैभव के घर विस्फोटक मिलना संभव नहीं है। उन्होंने बताया कि एटीएस ने वैभव राउत को बिना कोई सूचना पुख्ता सूबत के गिरफ्तार कर लिया है। जबकि एटीएस ने इस संबंध में घर के मालिक वैभव राउत को गिरफ्तार कर लिया है। हालांकि सनातन इस गिरफ्तारी का विरोध कर रही है। उसे शुक्रवार दोपहर को मुंबई के भोइवाड़ा कोर्ट में पेश किया जाएगा। बताया गया है कि वैभव सनातन संस्थान से जुड़ा हुआ है।


रिपोर्ट्स के मुताबिक, राउत सनातन संस्‍था और हिंदू जनजागृति समिति का सदस्‍य था और 'तोड़फोड़ व विध्वंसक' गतिविधियों को लेकर पुलिस की रडार पर था। पिछले कुछ सालों से संस्था लगातार विवादों में है। इस संस्था को लेकर भारी बहस भी चली थी कि इसे आतंकी संगठन घोषित किया जाए या नहीं। इस संस्था को प्रतिबन्ध करने को लेकर भी विवाद की स्थिति बनी। अप्रैल 2017 में महाराष्ट्र विधान परिषद को जानकारी देते हुए ये कहा गया था की राज्य सरकार ने सनातन संस्था पर प्रतिबंध लगाने के लिए केंद्र को एक प्रस्ताव भी भेजा था। इस संस्थान से जुड़े लोगों की गिरफ़्तारी 2007 में घटित वाशी, ठाणे, पनवेल और 2009 में गोवा बम धमाके समय की गई थी। सनातन संस्था का नाम नरेंद्र दाभोलकर, एमएम कलबुर्गी, गोविंद पानसरे और गौरी लंकेश की हत्या से भी जुड़ा हैं। महाराष्ट्र पुलिस और सीबीआई जो इन केस का अनुसन्धान कर रही है, पूर्व में इसके संस्थापक जयंत बालाजी अठावले से पूछताछ की थी।
 

कमेंट करें
P4M80
NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।