comScore

MP-UP पुलिस की नाक में दम करने वाला डकैत बबुली ढेर, 6 लाख का था इनाम


हाईलाइट

  • चित्रकूट में कुख्यात डकैत बबुली कोल और उसका साथी लवलेश एनकाउंटर में मारा गया

डिजिटल डेस्क, सतना। मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश पुलिस के लिए सिरदर्द बन चुका 6 लाख रुपए का इनामी डकैत बबुली कोल और उसका एक साथी लवलेश एनकाउंटर में मारा गया। दोनों ही डकैतों के शवों को पोस्टमॉर्टम के लिए अस्पताल लाया गया है। बबुली कोल ने हाल ही में मध्यप्रदेश के हरसेड गांव से अवधेश नाम के एक किसान का अपहरण किया था। डकैत ने फिरौती की रकम भी वसूली थी। रीवा रेंज के आईजी चंचल शेखर ने इसकी पुष्टि की है।

इन दोनों के खात्मे के साथ ही सतना और विंध्य में डकैतों का सफाया हो गया है। रीवा रेंज के आईजी चंचल शेखऱ, डीआईजी अविनाश शर्मा और एसपी रियाज इकबाल खुद पिछले कई दिनों से सतना में कैंप किए हुए थे। सोमवार को पुलिस ने इन दोनों के मारे जाने की पुष्टि की। बबुली कोल पर 6 लाख का नाम था जबकि लवलेश पर एक लाख 80 हजार का इनाम था। बबुली कोल और लवलेश के एनकाउंटर पर रीवा रेंज के आईजी चंचल शेखर ने बताया कि, दोनों डकैत पुलिस की फायरिंग में ही मारे गए हैं। मुठभेड़ रविवार रात 8 बजे से शुरू हुई और तड़के 4 बजे तक जारी रही। पुलिस की तरफ से 35 राउंड फायर किए गए, जबकि डकैतों ने 15 राउंड फायरिंग की। सुबह के उजाले में बबुली और उसके साथी लवलेश के शव बरामद किए गए।

डकैत इसमें कुख्यात बबली कोल उत्तरप्रदेश के डोडामाझी का रहने वाला था, दूसरा बदमाश लवलेश कोल ग्राम घाटाकोलन उत्तरप्रदेश का रहने वाला था। पिछले एक महीने में बबुली कोल गिरोह द्वारा उत्तर प्रदेश के कर्वी क्षेत्र से तथा धारकुंडी थाना क्षेत्र के हरसेड़ गांव से लोगों को पकड़ कर लाखों रुपए की वसूली की गई थी। गिरोह द्वारा निर्माण कार्य करने वाले ठेकेदारों को धमकी देकर रूपयों की उगाही करते थे तथा निर्माण कार्य में बाधा डालते थे।

बबुली गिरोह के द्वारा आस-पास के गांव में सभी औरतों एवं बच्चियों पर बुरी नजर रखी जाती थी, जिससे महिलाएं एवं बच्चियां अपने आपको काफी असुरक्षित महसूस कर रही थी तथा पलायन भी कर रही थी। डर के कारण कोई भी ग्रामीण जन रिपोर्ट करने सामने नहीं आते थे। गिरोह के द्वारा लगातार अबोध ग्रामीणों पर अत्याचार किए जा रहे थे जिसके डर से ग्रामीण पलायन कर रहे थे, तथा दूरस्थ जंगलों में रहने वाले ग्रामीण आदिवासी जनजाति अपने पट्टे की जमीन पर खेती नहीं कर पा रहे थे।

बबुली कोल गिरोह द्वारा ग्रामीणों को पकड़कर उनके घर वालों द्वारा पैसे की मांग की जाती थी, जिससे पूरे क्षेत्र में आतंक का माहौल निर्मित हो चुका था तथा दोनों राज्यों की पुलिस की कई टीमें बहुत बबली कोल के खात्मे हेतु जंगल में उतरी हुई थी। मध्य प्रदेश पुलिस के सतना जिले के पुलिस टीम को यह कामयाबी हासिल हुई।

पुलिस महानिरीक्षक चंचल शेखर ने बताया, यह कार्रवाई चित्रकूट के तराई क्षेत्र में लगातार होती रहेगी। किसी भी डकैत गिरोह को पनपने नहीं दिया जाएगा तथा जान माल की सुरक्षा हेतु रीवा जोन की पुलिस संकल्पित है।

सीएम कमलनाथ ने पुलिस टीम की दी बधाई

कमेंट करें
gTpcl