comScore

दिल्ली : 20 से ज्यादा सवारी होने पर ड्राइवर नहीं चलाएगा बस

May 20th, 2020 19:30 IST
 दिल्ली : 20 से ज्यादा सवारी होने पर ड्राइवर नहीं चलाएगा बस

हाईलाइट

  • दिल्ली : 20 से ज्यादा सवारी होने पर ड्राइवर नहीं चलाएगा बस

नई दिल्ली, 20 मई (आईएएनएस)। दिल्ली में शुरू की गई परिवहन सेवा में वाहन चालकों को सरकार के आदेशों का कड़ाई से पालन करने को कहा गया है। आदेश का पालन नहीं करने पर उनके खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

दिल्ली के परिवहन मंत्री कैलाश गहलोत ने कहा, बसों में 20 से अधिक यात्री नहीं बैठ सकते हैं। यदि 20 से अधिक यात्री बैठ जाते हैं, तो चालक बस नहीं चलाएगा।

गौरतलब है कि विपक्ष के कई नेताओं ने डीटीसी की बसों में भीड़ के वीडियो सोशल मीडिया पर शेयर किए हैं। दिल्ली सरकार ने इन्हें पुराने वीडियो बताया है।

दिल्ली के परिवहन मंत्री गहलोत ने कहा, चालक, परिचालक और मार्शल अतिरिक्त सवारी से नीचे उतरने के लिए अनुरोध करेंगे और फिर भी वे नहीं नीचे उतरते हैं, तो पुलिस की मदद ली जाएगी। यदि बस में 20 से अधिक यात्रियों के बैठने की शिकायत मिलती है, तो चालक, परिचालक और मार्शल के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जाएगी।

परिवहन मंत्री ने उम्मीद जताई कि धीरे-धीरे सड़क पर डीटीसी और क्लस्टर की सभी बसें उतर जाएंगी। कल करीब 3400 बसें सड़कों पर उतारी गई थीं। अगले एक-दो दिन में परिवहन सेवा समान्य हो जाएगी।

गहलोत ने कहा, देश के अलग-अलग प्रदेशों के रहने वाले प्रवासी मजदूर, जो अपने मूल प्रदेश जा रहे हैं, उनको रेलवे स्टेशनों तक पहुंचाने में मंगलवार को एक हजार बसें लगी हुई थीं। बुधवार को भी करीब 1200 बसें रेवेन्यू विभाग ने अधिग्रहित की हैं।

उन्होंने कहा कि क्लस्टर की बसें काफी हद तक बढ़ कर सड़क पर उतरी हैं। हरियाणा और यूपी के अलग-अलग जगहों पर ड्राइवर और कंडक्टर फंसे हुए थे, अब अधिक संख्या में उपस्थिति है।

दिल्ली सरकार ने उम्मीद जताई है कि एक-दो दिन में काफी हद तक स्थिति समान्य हो जाएगी। प्रतिदिन बसों से सफर करने वाली सवारियों के लिए कल करीब 2 हजार बसें थीं और 1400 बसें स्पेशल हायर की थीं।

गहलोत ने कहा, दिल्ली सरकार बार-बार निर्देश दे रही है कि कार में दो सवारी और बाइक पर सिर्फ एक व्यक्ति चल सकता है। मुझे लगता है कि इसमें लोगों का भी सहयोग बहुत जरूरी है। फिर भी यदि लोग सरकार के आदेशों का पालन नहीं करते हैं, तो सभी के स्वास्थ्य की सुरक्षा को देखते हुए कानूनी कार्रवाई की जाएगी।

परिवहन मंत्री ने कहा, थर्मल स्कैनिंग के लिए थर्मल गन्स का ऑर्डर दे दिया है, उसे प्राप्त करने में तीन-चार दिन लगेंगे। हालांकि हमारे पास पहले से ही कुछ गन्स हैं। जिन टर्निमल या बस स्टाप पर अधिक व्यस्तता रहती है, उनमें से कुछ स्थानों पर थर्मल स्कैनिंग शुरू कर दी गई है।

कमेंट करें
Rmcuf