comScore

दिल्ली का डर्टी-गेम: झपटमारी की एफआईआर चोरी में लिख थानेदार को घेर लेती है पुलिस! (आईएएनएस एक्सक्लूसिव)

October 07th, 2019 16:30 IST
 दिल्ली का डर्टी-गेम: झपटमारी की एफआईआर चोरी में लिख थानेदार को घेर लेती है पुलिस! (आईएएनएस एक्सक्लूसिव)

नई दिल्ली, 7 अक्टूबर (आईएएनएस)। स्कॉटलैंड स्टाइल में काम करने का दम भरने वाली दिल्ली की रोहिणी जिला पुलिस ने इन दिनों एक बेहद हास्यास्पद कथित कूटनीतिक अभियान चला रखा है। ताकि जिले के आला अफसरान बढ़ते क्राइम-ग्राफ के वजन से खुद को दबा हुआ महसूस न करें। पुलिस मुख्यालय की नजरों में खुद को महफूज रख सकें।

जिले में अपराध के आंकड़ों को कम करने के इस बेहद खतरनाक गेम में पहले तो ऊपर वाले अफसरान (जिला पुलिस उपायुक्त, सहायक पुलिस आयुक्त एसएचओ, इंस्पेक्टर) नीचे वालों को कथित तौर पर आगे बढ़ा दे रहे हैं! बाद में खुद की गर्दन फंसती देख, इन्हीं में से चंद अफसरान, नीचे वालों यानी मातहत-अधीनस्थ पुलिसकर्मियों को सस्पेंड या लाइन-हाजिर करके या करवा के, खुद की खाल साफ बचा लेते हैं!

इस सबकी जड़ में थाना प्रशांत विहार इलाके के रोहिणी सेक्टर-13 में घटी झपटमारी की घटना है, जिसमें प्रशांत विहार थाना पुलिस ने जबरिया चोरी में ई-एफआईआर दर्ज कर डाला। यह अलग बात है कि प्रशांत विहार पुलिस ने एफआईआर से बेहद संवेदनशील कानूनी दस्तावेज को दर्ज करने में जो घटिया-खेल, जिस पीड़िता के साथ किया, वह दिल्ली पुलिस से कई गुना तेज तौड़ने वाली खिलाड़ी निकली।

इस ओछे खेल की खबर पीड़िता महिला ने दिल्ली पुलिस आयुक्त अमूल्य पटनायक को दे दी। मामला पलटा तो प्रशांत विहार थाने के एसएचओ जितेंद्र सिंह से लेकर जिला पुलिस उपायुक्त शंखधर मिश्रा (एस.डी. मिश्रा, दानिप्स से प्रमोटी आईपीएस 2006 बैच) उत्तरी परिक्षेत्र के संयुक्त पुलिस आयुक्त मनीष अग्रवाल तक को पसीना आ गया।

मामला महकमे के गले की फांस बनता देख, उत्तर परिक्षेत्र के विशेष पुलिस आयुक्त (कानून व्यवस्था) संजय सिंह ने मातहतों को आड़े हाथ ले लिया।

संजय सिंह ने आईएएनएस को बताया, झपटमारी का केस चोरी में दर्ज करने का आरोप प्राथमिक जांच में सही मिला है। आरोपी सहायक उप-निरीक्षक सखाराम को निलंबित करके जिला पुलिस लाइन भेज दिया गया है।

उधर आईएएनएस ने दिल्ली पुलिस प्रवक्ता और मध्य दिल्ली जिले के पुलिस उपायुक्त मंदीप सिंह रंधावा से बात की। उन्होंने बताया, लापरवाही का यह मामला रोहिणी जिले का है, लिहाजा जिला डीसीपी शंखधर मिश्रा से बात की जाए तो बेहतर होगा।

रविवार को रोहिणी जिला पुलिस उपायुक्त एस.डी. मिश्रा को कई बार मोबाइल कॉल और व्हाट्एप मैसेज डाले गए, लेकिन उनकी तरफ से दो-तीन घंटे तक कोई जबाब नहीं आया। उसके बाद उत्तरी दिल्ली परिक्षेत्र के विशेष आयुक्त संजय सिंह के आदेश पर एस.डी. मिश्रा ने आईएएनएस को कॉल कर के बताया कि आरोपी सहायक उप-निरीक्षक को सस्पेंड कर दिया गया है।

हालांकि जब आईएएनएस ने प्रशांत विहार थाने के लैंड-लाइन फोन पर पूछा तो, बताया गया कि आरोपी थानेदार सखाराम तो प्रशांत विहार थाने में घूम रहा है।

खुद को ड्यूटी अफसर कहने वाली महिला पुलिसकर्मी ने आईएएनएस को टेलीफोन पर बताया, साहब (एएसआई सखाराम) बहुत अच्छे हैं। उन्हें सस्पेंड करवा के लाइन क्यों भिजवा रहे हो? आईएएनएस ने पूछा, झपटमारी की घटना को चोरी की घटना बनाने की कलाकारी करने वाले एएसआई सखाराम कैसे अच्छे हो गए? इस पर दूसरी तरफ से फोन डिस्कनेक्ट कर दिया गया।

घटनाक्रम के मुताबिक, ज्योति दूहन राठी (35) प्रिंटर अपार्टमेंट रोहिणी सेक्टर-13 में पति और बेटे के साथ रहती हैं। ज्योति दिल्ली बाल अधिकारी संरक्षण आयोग की सदस्य हैं। शुक्रवार सुबह बेटे को स्कूल छोड़कर लौट रही थीं कि कॉलोनी के गेट पर उन्हें चार गुंडों ने घेर लिया।

चारों गुंडे काले रंग की दो मोटरसाइकिलों पर सवार थे। उन्होंने हेलमेट लगा रखे थे। सुबह करीब सवा नौ बजे झपटमारों ने ज्योति से उनकी सोने की चेन झपट ली।

छीना-झपटी के दौरान सड़क पर गिरने से ज्योति के बदन में चोटें आईं। घटना पास ही स्थित सीसीटीवी में कैद हो गई। ज्योति ने आईएएनएस को बताया, झपटमार उनसे करीब 80 ग्राम वजन की सोने की चेन झपट ले गए। झपटमारों के हाथ लगी सोने की चेन की बाजार में अनुमानित कीमत तीन लाख रुपये तक हो सकती है।

पीड़िता के मुताबिक, वारदात से घबराई वह तुरंत ही रोहिणी जिले के अंतर्गत संचालित थाना प्रशांत विहार गईं। उन्होंने अपने साथ हुई झपटमारी का संपूर्ण घटनाक्रम लिख कर देना शुरू किया ही था कि सहायक उप-निरीक्षक सखा राम ने उन्हें शिकायत लिखने से बीच में ही रोक दिया।

झपटमारी की शिकार ज्योति राठी के मुताबिक, असिस्टेंट सब-इंस्पेक्टर सखा राम ने उन्हें एक ई-एफआईआर थमा दी। ई-एफआईआर में कहीं भी उनके चोट लगने का जिक्र ही नहीं था। न ही ई-एफआईआर में बदमाशों द्वारा सोने की भारी-भरकम चेन झपटने का जिक्र था।

ज्योति के मुताबिक, एफआईआर, बजाए झपटमारी की धाराओं के, चोरी की साधारण-सी धारा में दर्ज की गई थी, जिसमें सजा भी बहुत कम है।

सीपी साहब की उस नसीहत से सलामत रहने के लिए ही शायद रोहिणी जिला पुलिस द्वारा झपटमारी की घटनाओं को चोरी में दर्ज कर खुद को महफूज रखने के लिए यह नायाब फार्मूला (झपटमारी की एफआईआर चोरी में दर्ज करके) खोजा गया है!

रोहिणी जिला पुलिस सूत्रों के मुताबिक, बिना डीसीपी दफ्तर, सब-डिवीजन एसीपी और थाने के एसएचओ की हां के, धाराओं की अदला-बदली का यह घिनौना खेल संभव हो नहीं सकता है!

कमेंट करें
wY3cT
NEXT STORY

Paytm Money: अब पेटीएम मनी ऐप से हर कोई कर सकता है स्टॉक मार्किट में  निवेश, कंपनी का 10 लाख निवेशकों को जोड़ने का लक्ष्य

Paytm Money: अब पेटीएम मनी ऐप से हर कोई कर सकता है स्टॉक मार्किट में  निवेश, कंपनी का 10 लाख निवेशकों को जोड़ने का लक्ष्य

डिजिटल डेस्क, दिल्ली। भारत के घरेलु वित्तीय सेवा प्रदाता पेटीएम ने आज घोषणा की है कि इसकी पूर्ण स्वामित्व वाली सहायक कंपनी पेटीएम मनी ने देश में सभी के लिए स्टॉकब्रोकिंग की सुविधा शुरू कर दी है। कंपनी का लक्ष्य इस वित्त वर्ष में 10 लाख से अधिक निवेशकों को जोड़ना है, जिसमें अधिकतर छोटे शहरों और कस्बों से आने वाले फर्स्ट टाइम यूजर्स होंगे। इस प्रयास का उद्देश्य उत्पाद के आसान उपयोग, कम मूल्य निर्धारण (डिलीवरी ऑर्डर पर जीरो ब्रोकरेज, इंट्राडे के लिए 10 रुपये) और डिजिटल केवाईसी के साथ पेपरलेस खाता खोलने के साथ निवेश को प्रोत्साहित करना तथा अधिक-से-अधिक लोगों तक पहुंचना है। कंपनी भारत में सबसे व्यापक ऑनलाइन वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनने के लिए प्रयासरत है, जो वित्तीय समावेशन के लक्ष्य के तहत आम लोगों तक आसानी से पहुंच सके।

पेटीएम मनी को अपने शुरुआती प्रयास में ही लोगों से भारी प्रतिक्रिया मिली और उसने 2.2 लाख से अधिक निवेशकों को अपने साथ जोड़ लिया। इनमें से, 65% उपयोगकर्ता 18 से 30 वर्ष के आयु वर्ग में हैं, जो दर्शाता है कि नई पीढ़ी अपनी वेल्थ पोर्टफोलियो का निर्माण कर रही है। टियर-1 शहरों जैसे मुंबई, बैंगलोर, हैदराबाद, जयपुर और अहमदाबाद में इस प्लेटफार्म को बड़े स्तर पर अपनाया गया है। ठाणे, गुंटूर, बर्धमान, कृष्णा, और आगरा जैसे छोटे शहरों में भी लोगों का भारी झुकाव देखने को मिला है। यह सेवा सुपर-फास्ट लोडिंग स्टॉक चार्ट्स, ट्रैक मार्केट मूवर्स एंड कंपनी फंडामेंटल्स सुविधाओं के साथ अब आईओएस, एंड्रॉइड और वेब पर उपलब्ध है। पेटीएम मनी ऐप शेयरों पर निवेश, व्यापार और सर्च के लिए प्राइस अलर्ट और एसआईपी सेट करने के लिए आसान इंटरफ़ेस प्रदान करता है।

इस अवसर पर पेटीएम मनी के सीईओ, वरुण श्रीधर ने कहा, "हमारा उद्देश्य वेल्थ मैनेजमेंट सेवाओं को आबादी के बड़े हिस्से तक पहुंचाना है, जो आत्मानिर्भर भारत के लक्ष्य में योगदान करेगी। हमारा मानना है कि यह मिलेनियल और नए निवेशकों को उनके वेल्थ पोर्टफोलियो के निर्माण में सक्षम बनाने का समय है। प्रौद्योगिकी पर आधारित हमारे समाधान शेयर में निवेश को सरल और आसान बनाता है। हम वर्तमान उत्पादों को चुनौती देते रहेंगे और भारत के सर्वश्रेष्ठ उत्पाद का निर्माण करते रहेंगे। हम पेटीएम मनी को सभी भारतीय के लिए एक व्यापक वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनाने के लिए प्रतिबद्ध हैं। "

इतने कम समय में पेटीएम मनी पर स्टॉक ट्रेडिंग को व्यापक रूप से अपनाया जाना काफी महत्व रखता है। यह हर भारतीय के लिए डिजिटल निवेश को आसान बनाने के कंपनी के प्रयासों की सराहना को भी दर्शाता है। शेयरों में आसान निवेश के साथ, प्लेटफॉर्म उपयोगकर्ता को बाजार के बारे में शोध करने, मार्केट मूवर्स का पता लगाने, अनुकूल वॉचलिस्ट तैयार करने और 50 से अधिक शेयरों के लिए प्राइस अलर्ट सेट करने के अवसर प्रदान करता है। इसके अलावा, उपयोगकर्ता स्टॉक के लिए साप्ताहिक / मासिक एसआईपी सेट कर सकते हैं, और स्टॉक में निवेश को आॅटोमेट कर सकते हैं। बिल्ट-इन ब्रोकरेज कैलकुलेटर के साथ, निवेशक लेनदेन शुल्क का पता लगा सकते हैं और शेयरों को लाभ पर बेचने के लिए ब्रेक-इवेन प्राइस जान सकते हैं। इसके अलावा, स्टॉक ट्रेडिंग के अनुभव को और बेहतर बनाने के लिए एडवांस्ड चार्ट और अन्य विकल्प जैसे कवर चार्ट तथा ब्रैकेट ऑर्डर भी जोड़े गए हैं। इन सुविधाओं के अलावा बैंक-स्तरीय सुरक्षा के साथ निवेशकों के व्यक्तिगत डेटा को सुरक्षित रखते हुए अन्य सुविधाएं भी उपलब्ध होंगी।


पेटीएम मनी के बारे में
पेटीएम मनी वन97 कम्युनिकेशंस की पूर्ण स्वामित्व वाली एक सहायक कंपनी है। वन97 कम्युनिकेशंस भारत की घरेलू वित्तीय सेवा प्रदाता पेटीएम का स्वामित्व भी रखता है। यह देश का सबसे बड़ा ऑनलाइन इंवेस्टमेंट प्लेटफार्म है, और अब इसने उपयोगकर्ताओं के लिए डायरेक्ट म्यूचुअल फंड्स और एनपीएस के अपने वर्तमान आॅफर में स्टॉक्स को भी जोड़ दिया है। पेटीएम मनी का लक्ष्य एक पूर्ण-स्टैक इंवेस्टमेंट और वेल्थ मैनेजमेंट प्लेटफार्म बनना और लाखों भारतीयों तक धन सृजन के अवसरों को पहुंचाना है। बेंगलुरु स्थित मुख्यालय से संचालित इस कंपनी की टीम में 300 से अधिक सदस्य हैं।