comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

14 दिनों की न्यायिक हिरासत मेंरेलिगेयर के पूर्व प्रमोटर, करोड़ों की हेराफेरी का आरोप

14 दिनों की न्यायिक हिरासत मेंरेलिगेयर के पूर्व प्रमोटर, करोड़ों की हेराफेरी का आरोप

हाईलाइट

  • रेलिगेयर के पूर्व प्रमोटरों को अदालत ने 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेजा
  • इन सभी पर RFL के फंड की हेराफेरी में शामिल होने का आरोप है
  • इस हेराफेरी में कंपनी को 2,397 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ था

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दिल्ली की साकेत कोर्ट ने गुरुवार को रेलिगेयर एंटरप्राइजेज लिमिटेड के पूर्व प्रमोटर मालविंदर सिंह, शिविंदर सिंह और 3 अन्य को 14 दिनों की न्यायिक हिरासत में भेज दिया। इन सभी पर रेलिगेयर फिनवेस्ट लिमिटेड (RFL) के फंड की हेराफेरी में शामिल होने का आरोप है। इस हेराफेरी में कंपनी को 2,397 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ था।

इस मामले में शिविंदर, मालविंदर, पूर्व चेयरमैन और रेलिगेयर एंटरप्राइजेज लिमिटेड (आरईएल) के प्रबंध निदेशक सुनील गोधवानी, कवि अरोड़ा और अनिल सक्सेना को गिरफ्तार किया गया था। शिविंदर और मालविंदर सहित अन्य पर आरोप है कि उन्होंने अपने फायदे के लिए गुपचुप तरीके से पब्लिक मनी का डायवर्जन किया। गिरफ्तारी के बाद दिल्ली पुलिस की आर्थिक अपराध शाखा (EOW) ने आरोपियों की छह दिनों की रिमांड मांगी थी, लेकिन अदालत ने 4 दिनों की ही रिमांड पुलिस को दी थी।

RFL के मनप्रीत सिंह सूरी ने आरोप लगाए थे कि रेलीगेयर एंटरप्राइजेज लिमिटेड और उसकी सहायक कंपनियों पर पूर्ण नियंत्रण रखने वाले कथित व्यक्तियों ने खराब वित्तीय स्थिति वाली कंपनियों को लोन वितरित किए और RFL को परेशानी में डाल दिया। इन कंपनियों ने जानबूझकर डिफॉल्ट किया जिससे RFL को 2397 करोड़ रुपये का नुकसान पहुंचा। कथित व्यक्तियों ने अपने फायदे के लिए व्यवस्थित तरीके से आम जनता के पैसों को डायवर्ट किया।

कमेंट करें
6SAiL