comScore

© Copyright 2019-20 : Bhaskarhindi.com. All Rights Reserved.

ग्वालियर में 'गन वाले' गीता के सहारे युवाओं तक पहुंचाएंगे गांधी का संदेश

ग्वालियर में 'गन वाले' गीता के सहारे युवाओं तक पहुंचाएंगे गांधी का संदेश

हाईलाइट

  • गीता पुस्तक बांटकर गांधी का संदेश युवाओं तक पहुंचाने का अभियान

डिजिटल डेस्क, ग्वालियर। गन, गांधी और गीता में सामंजस्य स्थापित करना यूं तो बहुत कठिन काम है, मगर मध्यप्रदेश के ग्वालियर अंचल में यह प्रयास चल रहा है। यहां के पुलिस महानिरीक्षक (आईजी) राजा बाबू सिंह जो स्वयं गन (बंदूक) वाले हैं, गांधी जयंती से एक दिन पहले गीता पुस्तक बांटकर गांधी का संदेश युवाओं तक पहुंचाने का अभियान चलाने वाले हैं।

ग्वालियर-चंबल क्षेत्र की पहचान डकैतों के इलाके के रूप में रही है, यहां अपराध अब भी बदस्तूर जारी है, भले ही उसका स्वरूप बदल गया हो। युवा पीढ़ी भी इससे बची नहीं है। गलत रास्ते पर चल रही यहां की नई पीढ़ी को सही दिशा देने के लिए खाकी वर्दी में रहने वाले राजा बाबू सिंह अपनी तरह से इन्हें सुधारने का अभियान चलाए हुए हैं। वह कभी रामायण तो कभी श्रीमद्भगवत गीता पर प्रवचन करते नजर आ जाते हैं। पुलिस की बैठकों में भी उनकी हिदायतें रामायण और गीता के दृष्टांतों के जरिए सीख देने वाली होती है।

महात्मा गांधी की 150वीं जयंती की पूर्व संध्या पर राजा बाबू सिंह एक नया अभियान शुरू करने जा रहे हैं। वह एक अक्टूबर से ग्वालियर परिक्षेत्र में श्रीमद् भगवत गीता की प्रतियां बांटने वाले हैं। यह एक अजब संयोग है कि गनवाला पुलिस अफसर गीता के सहारे गांधी का संदेश जन-जन तक पहुंचाने जा रहा है।

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी राजा बाबू ने आईएएनएस से बात करते हुए कहा, बीते 25 साल से पुलिस सेवा में हूं और इस दौरान विभिन्न पदों पर रहा हूं। इस दौरान मैंने पाया कि युवाओं के आईक्यू (इंटेलीजेंस क्यूटेंट) और ईक्यू (इमोशनल क्यूटेंट) संतुलन नहीं होता, जिसके चलते वह अपनी भावना (इमोशन) मैनेज नहीं कर पाता। उदाहरण के तौर पर, किसी युवा के मन में ईष्या, घृणा, प्रेम, प्रतिस्पर्धा, द्वेष चल रही होती है, इसी कारण उसके व्यक्तित्व में एकरूपता नहीं होती, वे ऊपर से जैसा दिखते हैं, अंदर से वैसा नहीं होते। उनके भीतर कुछ और ही चल रहा होता है।

सिंह ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा, जिन बच्चों के व्यक्तित्व (पर्सनैलिटी) में एकरूपता (इंटीग्रिटी) नहीं होती, वे गलत आदतों का शिकार हो जाते हैं, वे नशीले पदार्थो के आदी बन जाते हैं, अपराध करने लगते हैं और समाज के लिए अशांति का कारण बनने लगते हैं। उसके बाद आत्महत्या जैसा कदम उठा लेते हैं। इतना ही नहीं, समाज में असहिष्णुता भी बढ़ रही है, वर्तमान में कोई भी दूसरे को बर्दाश्त करने को तैयार नहीं है। आतंकवाद, मॉब लिंचिंग, असहिष्णुता इसी का दुष्परिणाम है।

वरिष्ठ पुलिस अधिकारी राजा बाबू सिंह श्रीमद्भगवत गीता को युवा पीढ़ी को गलत रास्ते पर जाने से रोकने के लिए रामबाण मानते हैं। उनका कहना है, गीता में 18 अध्याय और 700 श्लोक हैं। यह इतना बड़ा रामबाण है कि बच्चे को इसका अध्ययन कराया जाए तो मुझे नहीं लगता कि बच्चा कभी भी गलत रास्ते पर जाएगा। इसके चलते अपराधों में कमी आएगी। यह एक प्रयोग है, जिसे गांधी जयंती की पूर्व संध्या पर ग्वालियर से शुरू किया जा रहा है।

गांधी जयंती और अक्टूबर माह में ही आप गीता क्यों बांट रहे हैं, इस सवाल के जवाब में उन्होंने कहा, राष्ट्रपिता महात्मा गांधी की जयंती है और अक्टूबर का महीना हिंदी मास के अनुसार कार्तिक का है, जो बहुत पवित्र माना जाता है। गांधीजी कहते थे कि वे जब भी कभी निराश होते थे तो गीता पढ़ते रहते थे, गीता ने उन्हें बहुत दिशा दी है। इसीलिए गांधी जयंती की पूर्व संध्या से इस अभियान की शुरुआत कर रहा हूं। वहीं कार्तिक माह को कृष्ण जो प्रेम-स्नेह के प्रतीक हैं, उनके लिहाज से पवित्र माना जाता है।

पुलिस अधिकारी का गीता वितरण अभियान गांधी जयंती की पूर्व संध्या के मौके पर ग्वालियर स्थित आईआईआईएमटी (अटल बिहारी वाजपेयी भारतीय प्रौद्योगिकी एवं प्रबंधन संस्थान) से शुरू होने जा रहा है। इस मौके पर गीता की 1008 प्रतियां बांटी जाएंगी। उसके बाद ग्वालियर परिक्षेत्र के शिवपुरी, गुना और अशोकनगर में विभिन्न स्थानों पर कार्यक्रम आयोजित कर छात्रों को गीता की प्रति दी जाएगी।

कमेंट करें
aZ2iH
कमेंट पढ़े
मानसिंह, पत्रकार October 10th, 2019 10:28 IST

सर खबरें बहुत ही सटीक एवं सुंदर लेखनी के साथ पढ़ने को मिल रहीं हैं। बहुत अच्छा लग रहा है। दास मानसिंह, पत्रकार है और जनपद ललितपुर उत्तर प्रदेश के मड़ावरा तहसील का निवासी है दैनिक भास्कर समाचार पत्र की खबरों का कई वर्षो से पढ़ता आ रहा है। आपसे प्रार्थना है कि मड़ावरा तहसील से प्रार्थी को दैनिक भास्कर समाचार पोर्टल हेतु रिपोर्टर बनाने की कृपा करें। प्रार्थी मानसिंह, मड़ावरा, ललितपुर

NEXT STORY

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

Real Estate: खरीदना चाहते हैं अपने सपनों का घर तो रखे इन बातों का ध्यान, भास्कर प्रॉपर्टी करेगा मदद

डिजिटल डेस्क, जबलपुर। किसी के लिए भी प्रॉपर्टी खरीदना जीवन के महत्वपूर्ण कामों में से एक होता है। आप सारी जमा पूंजी और कर्ज लेकर अपने सपनों के घर को खरीदते हैं। इसलिए यह जरूरी है कि इसमें इतनी ही सावधानी बरती जाय जिससे कि आपकी मेहनत की कमाई को कोई चट ना कर सके। प्रॉपर्टी की कोई भी डील करने से पहले पूरा रिसर्च वर्क होना चाहिए। हर कागजात को सावधानी से चेक करने के बाद ही डील पर आगे बढ़ना चाहिए। हालांकि कई बार हमें मालूम नहीं होता कि सही और सटीक जानकारी कहा से मिलेगी। इसमें bhaskarproperty.com आपकी मदद कर सकता  है। 

जानिए भास्कर प्रॉपर्टी के बारे में:
भास्कर प्रॉपर्टी ऑनलाइन रियल एस्टेट स्पेस में तेजी से आगे बढ़ने वाली कंपनी हैं, जो आपके सपनों के घर की तलाश को आसान बनाती है। एक बेहतर अनुभव देने और आपको फर्जी लिस्टिंग और अंतहीन साइट विजिट से मुक्त कराने के मकसद से ही इस प्लेटफॉर्म को डेवलप किया गया है। हमारी बेहतरीन टीम की रिसर्च और मेहनत से हमने कई सारे प्रॉपर्टी से जुड़े रिकॉर्ड को इकट्ठा किया है। आपकी सुविधाओं को ध्यान में रखकर बनाए गए इस प्लेटफॉर्म से आपके समय की भी बचत होगी। यहां आपको सभी रेंज की प्रॉपर्टी लिस्टिंग मिलेगी, खास तौर पर जबलपुर की प्रॉपर्टीज से जुड़ी लिस्टिंग्स। ऐसे में अगर आप जबलपुर में प्रॉपर्टी खरीदने का प्लान बना रहे हैं और सही और सटीक जानकारी चाहते हैं तो भास्कर प्रॉपर्टी की वेबसाइट पर विजिट कर सकते हैं।

ध्यान रखें की प्रॉपर्टी RERA अप्रूव्ड हो 
कोई भी प्रॉपर्टी खरीदने से पहले इस बात का ध्यान रखे कि वो भारतीय रियल एस्टेट इंडस्ट्री के रेगुलेटर RERA से अप्रूव्ड हो। रियल एस्टेट रेगुलेशन एंड डेवेलपमेंट एक्ट, 2016 (RERA) को भारतीय संसद ने पास किया था। RERA का मकसद प्रॉपर्टी खरीदारों के हितों की रक्षा करना और रियल एस्टेट सेक्टर में निवेश को बढ़ावा देना है। राज्य सभा ने RERA को 10 मार्च और लोकसभा ने 15 मार्च, 2016 को किया था। 1 मई, 2016 को यह लागू हो गया। 92 में से 59 सेक्शंस 1 मई, 2016 और बाकी 1 मई, 2017 को अस्तित्व में आए। 6 महीने के भीतर केंद्र व राज्य सरकारों को अपने नियमों को केंद्रीय कानून के तहत नोटिफाई करना था।