comScore

चीन पर सख्त भारत: सरकारी खरीद में चाइनीज कंपनियों की एंट्री बैन, विदेश मंत्रालय ने कहा- LAC पर एकतरफा कार्रवाई को बर्दाश्त नहीं करेगा भारत 

चीन पर सख्त भारत: सरकारी खरीद में चाइनीज कंपनियों की एंट्री बैन, विदेश मंत्रालय ने कहा- LAC पर एकतरफा कार्रवाई को बर्दाश्त नहीं करेगा भारत 

हाईलाइट

  • राष्ट्रीय सुरक्षा के कारण लिया फैसला, सरकारी खरीद में चाइनीज कंपनियों की एंट्री बैन
  • विदेश मंत्रालय ने कहा- चीन ने आपसी समझौतों की पूर्ण अवहेलना की

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। लद्दाख में जारी सीमा विवाद के बीच केंद्र सरकार चीन के खिलाफ एक के बाद एक कड़े फैसले ले रही है। ताजा फैसले के तहत केंद्र सरकार ने सरकारी खरीद में चाइनीज कंपनियों की एंट्री बैन कर दी है। मतलब, केंद्र और राज्य सरकार की तरफ से किसी भी तरह की सरकारी खरीद में चाइनीज कंपनियां बोली में शामिल नहीं हो सकती हैं। वहीं गुरुवार को भारत विदेश मंत्रालय ने कहा है कि वह चीन के साथ एलएसी पर यथास्थिति में बदलाव के किसी भी एकतरफा कार्रवाई को स्वीकार नहीं करेगा। साप्ताहिक ब्रीफिंग में, विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता अनुराग श्रीवास्तव ने कहा, भारत एलएसी के प्रति पूरी तरह प्रतिबद्ध है और उसका सम्मान करता है और हम एलएसी में किसी भी प्रकार के एकतरफा यथास्थिति में बदलाव को स्वीकार नहीं करेंगे।

राष्ट्रीय सुरक्षा के कारण लिया फैसला
केंद्र सरकार ने राष्ट्रीय सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए जनरल फाइनैंशल रूल्स 2017 में संशोधन किया है जो उन देशों के बोलीदाताओं पर लागू होता है, जिनकी सीमा भारत से सटती है। इसका सीधा असर चीन, पाकिस्तान, बांग्लादेश, भूटान, नेपाल जैसे देशों पर होगा। व्यय विभाग ने भारत की रक्षा और राष्ट्रीय सुरक्षा को मजबूत करने के लिए सार्वजनिक खरीद पर एक विस्तृत आदेश जारी किया है। नए नियम के तहत भारत की सीमा से सटे देशों से बोली लगाने वाली कंपनिंया गुड्स और सर्विस (कंसल्टेंसी और नॉन-कंसल्टेंसी) की बोली लगाने के लिए तभी योग्य माने जाएंगे जब वे कॉम्पीटेंट अथॉरिटी से रजिस्टर्ड होंगी। कॉम्पीटेंट अथॉरिटी का गठन डिपार्टमेंट फॉर प्रमोशन ऑफ इंडस्ट्री ऐंड इंटर्नल ट्रेड (DPIIT) की तरफ से किया जाएगा। इसके लिए विदेश और गृह मंत्रालय से भी मंजूरी जरूरी है।

यहां-यहां आदेश लागू
सरकार का यह आदेश सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों और वित्तीय संस्थानों, स्वायत्त निकायों, केंद्रीय सार्वजनिक क्षेत्र उद्यमों (CPSE) और सार्वजनिक निजी भागीदारी परियोजनाओं को जिसे सरकार या इसके उपक्रमों से वित्तीय सहायता मिलता हो, उसपर लागू होता है। केंद्र ने राज्य सरकारों के मुख्य सचिवों को लिखित आदेश में कहा है कि राज्य सरकारें भी राष्ट्रीय सुरक्षा में अहम रोल निभाती हैं। ऐसे में सरकार ने संविधान के आर्टिकल 257(1) को लागू करने का फैसला किया है। मतलब सरकार का यह आदेश राज्य सरकार और संटेट अंडरटेकिंग के प्रोक्योरमेंट पर भी लागू होता है।

विदेश मंत्रालय ने कहा- चीन ने आपसी समझौतों की पूर्ण अवहेलना की
भारत ने कहा कि चीन के साथ 1993 से सीमा पर शांति स्थापित करने के लिए आपसी सहमति और समझौते हुए हैं। लेकिन चीन ने एलएसी पर बड़े पैमाने पर सैनिकों की तैनाती, एलएसी के प्रारुप को बदलने वाला दावा और सैनिकों के व्यवहार में आए बदलाव (हिंसक झड़प) के साथ इस समझौतों की अवहेलना करके अन्याय कर रहा है। यह आपसी समझतों को न मानना है। अनुराग श्रीवास्तव ने साफ कहा कि सीमा क्षेत्र में शांति और सद्भाव की स्थापना दी दोनों देशों के द्विपक्षीय रिश्ते का आधार है। भारत हमेशा से इसका पक्षधर रहा है और चीन को इसका आदर करना चाहिए।
 
रक्षात्मक रुख से थोड़ा बाहर आना चाहिए
चीन के साथ लद्दाख क्षेत्र में बने तनाव को लेकर पूर्व विदेश सचिव शशांक ने अपनी प्रतिक्रिया दी है। उन्होंने कहा कि भारत को रक्षात्मक रुख से थोड़ा बाहर निकालना चाहिए।एयरवाइस मार्शल(पूर्व) एनबी सिंह और लेफ्टिनेंट जनरल(पूर्व) बलविंदर सिंह संधू का भी कहना है कि रक्षात्मक तरीके से समाधान निकलने की संभावना कम नजर आ रही है। एनबी सिंह के अनुसार रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने खुद माना है कि बातचीत के जरिए वह समाधान निकलने की गारंटी नहीं दे सकते। उन्होंने वायुसेना की कमांडर कांफ्रेस के दौरान भी चुनौती से निबटने के लिए तैयार रहने को कहा है। भारतीय कूटनीति और रक्षा विशेज्ञज्ञों का मानना है कि भारत को अब अन्य विकल्पों पर गंभीरता के साथ सोचना चाहिए।

चीन ने पूर्वी लद्दाख सेक्टर में 40 हजार जवानों की तैनाती की
एक दिन पहले रिपोर्ट में सामने आया था कि चीन लाइन ऑफ एक्चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर तनाव कम करने की कोशिश नहीं कर रहा है। इसके अलावा चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) के 40 हजार जवानों की तैनाती पूर्वी लद्दाख सेक्टर में जारी है। विवाद वाली जगहों पर चीन का इन्फ्रास्ट्रक्चर मौजूद है। इसके अलावा यहां एयर डिफेंस सिस्टम, बख्तरबंद गाड़ियां और तोपें भी मौजूद हैं।

गलवान में चीनी सैनिकों ने भारतीय जवानों पर कंटीले तारों से हमला किया था, जिसमें 20 जवान शहीद हो गए थे। वहीं, चीन के 40 से ज्यादा जवान भी मारे गए थे। हालांकि, चीन ने ये कबूला नहीं था।

कमेंट करें
Rq0iv
NEXT STORY

ओलंपिक में जिमनास्टिक खिलाड़ियों ने पहली बार पहने ऐसे कपड़े, जिसने देखा रह गए हैरान

ओलंपिक में जिमनास्टिक खिलाड़ियों ने पहली बार पहने ऐसे कपड़े, जिसने देखा रह गए हैरान

डिजिटल डेस्क, टोक्यो। टोक्यो ओलंपिक में पूरी दुनिया से आए हुए खिलाड़ी अपनी प्रतिभा दिखा रहे हैं। खेल में अपनी प्रतिभा दिखाने के अलावा जर्मन की महिला जिमनास्टिक्स ने फ्रीडम ऑफ चॉइस यानी अपने मन के कपड़े पहनने की आजादी को अपने खेल के जरिए प्रमोट करने का फैसला किया है, जिससे उनकी हर तरफ चर्चा हो रही है। 

Germany Women's Gymnastics Team Wear Unitards at Olympics | POPSUGAR Fitness

जर्मनी की महिला जिमनास्ट रविवार को हुए टोक्यो ओलंपिक मुकाबले में फुल बॉडी सूट पहने नजर आई। खिलाड़ियों ने बताया कि इस सूट को फ्रीडम ऑफ चॉइस यानी अपनी पसंद के कपड़े पहनने की आजादी को बढ़ावा देने साथ ही महिलाओं को प्रोत्साहित करने के लिए डिजाइन किया गया है जिसे पहनकर महिला खिलाड़ी आरामदायक महसूस कर सकें।

Germany's gymnasts wear body-covering unitards, rejecting 'sexualization' of sport - CNN 
 

जर्मनी की 4 जिमनास्ट जिनके नाम है पॉलीन शेफर-बेट्ज, सारा वॉस, एलिजाबेथ सेट्ज और किम बुई लाल और सफेद रंग के इस यूनिटार्ड सूट में नजर आई जो लियोटार्ड और लेगिंग्स को मिलाकर बनाया गया था। खिलाड़ी इसी को पहन कर मैदान में उतरीं थी। 

German gymnastics team, tired of 'sexualisation,' wears unitards | Deccan Herald
 

जर्मनी की टीम ने अपनी ट्रेनिंग में भी इसी तरह के कपड़े पहने हुए थे और अपने कई इंटरव्यूज में खिलाड़ियों ने कहा था कि इस साल फाइनल कॉम्पटीशन में भी वो फ्रीडम ऑफ चॉइस को प्रमोट करने के लिए इसी तरह के कपड़े पहनेंगी। खिलाड़ी सारा वॉस ने द जापान टाइम्स को बताया था यूनिटार्ड को फाइनल करने से पहले उन्होंने इस पर चर्चा भी की थी। सारा ने ये भी कहा कि जैसे जैसे एक महिला बड़ी होती जाती है, वैसे ही उसे अपने शरीर के साथ सहज होने में काफी मुश्किल होती हैं। हम ऐसा कुछ करना चाहते थे जिसमें हम अच्छे भी दिखे और सहज भी महसूस करें। चाहे वो कोई लॉन्ग यूनिटार्ड हो या फिर शॉर्ट। 

Germany Women's Gymnastics Team Wear Unitards at Olympics | POPSUGAR Fitness
 

सारा ने यह भी बताया कि उनकी टीम ने इससे पहले यूरोपीय चैंपियनशिप में भी इसी तरह का फुल बॉडी सूट पहना था और इसका उद्देश्य सेक्सुलाइजेशन को कम करना है। हम लोगों के लिए एक रोल मॉडल बनना चाहते थे जिससे वो हमे फॉलो कर सकें। जर्मन के खिलाड़ियों की लोग काफी प्रशंसा भी कर रहे हैं। 


ओलंपिक प्रतियोगिताओं में जिमनास्ट महिलाओं को फुल या हाफ बाजू के पारंपरिक लियोटार्ड ही पहनना होता है साथ ही अंतरराष्ट्रीय प्रतियोगिताओं में फुल कपड़े पहनने की अनुमति तो है लेकिन किसी भी महिला जिमनास्ट ने इस तरह के कपड़े नहीं पहने थे। यह पहली बार था जब जर्मन खिलाड़ी महिलाओं ने इस तरह के कपड़े पहने थे। 
बीते कुछ सालों में खेल प्रतियोगिताओं में महिलाओं के शारीरिक शोषण के बढ़ते मामलों को देख महिला खिलाड़ियो की चिंता बढ़ती जा रही है अब एथलीटों की सुरक्षा को देखते हुए नए सेफ्टी प्रोटोकॉल बनाए जा रहे हैं।

NEXT STORY

Raj Kundra Pornography Case: खुद बड़ी कॉन्ट्रोवर्सी क्वीन हैं राज कुंद्रा पर आरोप लगाने वाली ये हसीनाएं

Raj Kundra Pornography Case: खुद बड़ी कॉन्ट्रोवर्सी क्वीन हैं राज कुंद्रा पर आरोप लगाने वाली ये हसीनाएं

डिजिटल डेस्क, मुंबई। पोर्न मूवीज मामले में एक और राज कुंद्रा की मुश्किलें बढ़ती जा रही हैं। दूसरी तरफ उन पर इल्जामों की बौछार करने वाली हसीनाओं की कोई कमी नहीं हैं। पर मजेदार बात ये है कि जो हसीनाएं राज कुंद्रा के खिलाफ मोर्चा खोले बैठीं हैं वो कभी खुद भी कॉन्ट्रोवर्सी का हिस्सा रही हैं। चलिए जानते हैं किस किस कॉन्ट्रोवर्सी में उलझी हैं ये कॉन्ट्रोवर्सी क्वीन्स:

पूनम पांडे 

poonam pandey again strips , but this time for good cause

  •  पूनम का पहला विवाद 2011 में आया जब उन्होंने भारत के विश्व कप में जीतने पर नग्न होने का वादा किया था। हालांकि उनका ये वादा पूरा नहीं हो सका क्योंकि BCCI ने ऐसा करने कि उसे अनुमति नहीं दी। 
  • पूनम का दूसरा विवाद तब हुआ जब उन्होंने बाथरुम सीक्रेट्स नाम की एक नई यूटयूब सीरिज शुरु की थी पर कॉन्ट्रोवर्शियल कंटेंट होने के कारण यू टयूब ने ही उस पर रोक लगा दी। 
  • इसी साल फरवरी में पूनम पांडे ने  राज कुंद्रा के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई थी और आरोप लगाया था कि दोनों पक्षों के बीच हुआ समझौता समाप्त होने के बाद भी राज उनके वीडियोज का उपयोग कर पैसे कमा रहा है। पूनम के मुताबिक छह महीने से उन्हें अश्लील फोन भी आ रहे हैं। 
  • पूनम पांडे को लेकर सबसे बड़ा विवाद वो था जब क्रिकेटर सचिन तेंदुलकर की फोटो के बगल में पूनम की न्यूड तस्वीर लगा कर उन्हें भगवान की तरह पेश किया गया। इसी तस्वीर में एक पाकिस्तानी क्रिकेटर उन्हें प्रणाम करता नजर आ रहा था।
  • पूनम पांडे ने एक  और चर्चित स्टेटमेंट ये था कि रवैया आपके अंडरवियर की तरह है, आपको इसे पहनना चाहिए, लेकिन इसे कभी नहीं दिखाना चाहिए।

2) शर्लिन चोपड़ा

Sherlyn Chopra Latest Photos: Current Photogallery, Images, Pics on Sherlyn Chopra at News18

  • शर्लिन सबसे पहले उस समय चर्चा में आई थीं जब उन्होंने प्लेब्वॉय मैगजीन के लिए न्यूड पोज दिया था। शर्लिन पहली भारतीय महिला थीं जिन्होंने प्लेब्वॉय के लिए न्यूड फोटोशूट करवाया था। 
  • कुछ समय पहले शर्लिन अपने लिए भारत रत्न सम्मान की मांग कर विवादों में आ चुकीं हैं। उन्होंने ट्वीट किया था कि 'मुझे भारत रत्न मिलना चाहिए। भारत का सबसे बड़ा सम्मान सबसे बड़ी सेवा के लिए मुझे मिलना चाहिए। सीरियसली।'
  • शर्लिन ने बताया था कि वह महिलाओं की ओर भी आकर्षित होती हैं। उन्होंने कहा था,'मैं विद्या बालन के साथ पैशनेट सीन करना चाहती हूं। मैं उनकी दीवानी हूं। अगर वो सुन रही हों तो मैं उनको कहना चाहती हूं कि विद्या, मैं सिद्धार्थ से बेहतर आपकी केयर कर सकती हूं।'
  • शर्लिन ने दिल्ली गैंगरेप पीड़िता के पक्ष में इस तरह का बयान दिया था कि वह खुद विवादों में घिर गई थी। उन्होंने कहा था कि अगर उनके रेप के बाद देश में सभी लड़कियों की सुरक्षा की गारंटी मिले तो वे अपना रेप करवाने के लिए तैयार हैं।
  • शर्लिन की फ़िल्म 'कामसूत्र 3 डी' काफी चर्चाओं में रही थी। लेकिन बाद में फिल्म के डायरेक्टर और उनका एक विवाद हो गया। शर्लिन ने पॉल पर आर्थिक धोखाधड़ी करने का आरोप लगा एफआईआर दर्ज करवाई थी।

3) पुनीत कौर 

Puneet kaurpagesepsitename%%

यू टयूबर पुनीत कौर ने शिल्पा शेट्टी के पति राज कुंद्रा पर आरोप लगाया है कि राज ने एक बार उन्हें अपने ऐप हॉटशॉट्स के लिए सीधा संदेश भेजा था।

4) सागरिका शोना सुमन 

इस एक्ट्रेस ने राज कुंद्रा के खिलाफ पुलिस में की शिकायत दर्ज, मिल रही है जान से मारने की धमकी

अभिनेत्री और मॉडल सागरिका शोना सुमन ने टीवी निर्मता और बिग बॉस 14 के कंटेस्टेंट रहे विकास गुप्ता पर अनुचित और सेक्सिस्ट व्यवहार करने का आरोप लगाया था। शोना सुमन ने आरोप लगाते हुए कहा था कि 2018 में विकास गुप्ता ने एक नामी नाइट क्लब में शोना सुमन के ड्रेसिंग सेंस को लेकर अपमानजनक और सेक्सिस्ट कमेंट किया था। 

5) गहना वशिष्ठ

गंदी बात' वाली गहना वशिष्ठ पर गैंगरेप का भी आरोप

टेलीविजन अभिनेत्री गहना वशिष्ठ ने उस समय विवाद खड़ा कर दिया था जब उन्हें कथित तौर पर अश्लील वीडियो शूट करने और अपलोड करने के आरोप में गिरफ्तार किया गया था। बाद में अपराध शाखा ने अभिनेत्री को हिरासत में ले लिया।