comScore

J&K के राज्यपाल सत्यपाल मलिक का ट्रांसफर, गिरीश चंद्र मुर्मू उपराज्यपाल नियुक्त

December 03rd, 2019 08:51 IST
J&K के राज्यपाल सत्यपाल मलिक का ट्रांसफर, गिरीश चंद्र मुर्मू उपराज्यपाल नियुक्त

हाईलाइट

  • जम्मू और कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक का ट्रांसफर
  • सत्यापाल मलिक को गोवा का राज्यपाल नियुक्त किया गया
  • गिरीश चंद्र मुर्मू को जम्मू-कश्मीर का उपराज्यपाल बनाया गया है

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। जम्मू-कश्मीर के केंद्र शासित प्रदेश के रूप में अस्तित्व में आने से करीब एक हफ्ते पहले राज्यपाल सत्यपाल मलिक का ट्रांसफर कर दिया गया है। उन्हें गोवा का राज्यपाल बनाया गया है। गिरीश चंद्र मुर्मू नए केंद्र शासित प्रदेश जम्मू-कश्मीर के पहले उपराज्यपाल होंगे।

जबकि एक अन्य IAS अधिकारी राधा कृष्ण माथुर को लद्दाख के उपराज्यपाल के रूप में नियुक्त किया गया है। 1977 बैच के अधिकारी माथुर ने रक्षा सचिव के रूप में कार्य किया है और पूर्व मुख्य सूचना आयुक्त (सीआईसी) भी रह चुके हैं।

नए जम्मू-कश्मीर के लेफ्टिनेंट गवर्नर गिरीश चंद्र मुर्मू वर्तमान में वित्त मंत्रालय में व्यय सचिव के पद पर हैं और 1985 बैच के गुजरात कैडर के आईएएस अधिकारी हैं। वह नरेंद्र मोदी के प्रमुख सचिव थे जब वह गुजरात के मुख्यमंत्री थे। 

जम्मू कश्मीर से आर्टिकल 370 को हटाने और राज्य को दो केंद्र शासित प्रदेशों में विभाजित करने के सरकार के फैसले के बाद 31 अक्टूबर ये दोनों केंद्र शासित प्रदेश अस्तित्व में आएंगे। 31 अक्टूबर को सरकार पटेल की जयंती भी है।

बता दें कि सत्यपाल मलिक को 21 अगस्त को जम्मू-कश्मीर का राज्यपाल नियुक्त किया गया था। मलिक इससे पहले बिहार के राज्यपाल भी रह चुके हैं। मलिक को 2018 में कुछ महीनों के लिए ओडिशा का अतिरिक्त प्रभार राज्यपाल भी दिया गया था। 

राममनोहर लोहिया से प्रेरित मलिक ने मेरठ यूनिवर्सिटी में एक छात्र नेता के तौर पर अपना राजनीतिक करियर शुरू किया था। वह उत्तर प्रदेश के बागपत में 1974 में चरण सिंह के भारतीय क्रांति दल से विधायक चुने गए थे। इसके अलावा वह 1980 से 1992 तक राज्यसभा के सांसद भी रह चुके हैं। 

सत्यपाल मलिक 1984 में कांग्रेस में शामिल हुए थे और इसके राज्यसभा सदस्य भी बने लेकिन करीब तीन साल बाद उन्होंने इस्तीफा दे दिया। वह वीपी सिंह नीत जनता दल में 1988 में शामिल हुए और 1989 में अलीगढ़ से सांसद चुने गए।

साल 2004 में मलिक भाजपा में शामिल हुए थे और लोकसभा चुनाव लड़े, लेकिन इसमें उन्हें पूर्व प्रधानमंत्री चौधरी चरण सिंह के बेटे अजीत सिंह से शिकस्त का सामना करना पड़ा।

कमेंट करें
lbuw0