दैनिक भास्कर हिंदी: कर्नाटक चुनाव : अमित शाह और राहुल गांधी के प्लेन की क्योंं ली गई तलाशी?

April 4th, 2018

डिजिटल डेस्क, बेंगलुरु। कर्नाटक विधानसभा चुनाव के मद्देनजर मंगलवार को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी राज्य के दौरे पर थे। इस दौरान जैसे ही उनका स्पेशल प्लेन कर्नाटक के हुबली एयरपोर्ट पर लैंड हुआ, तो इलेक्शन कमीशन की एक टीम ने इनके प्लेन्स की तलाशी ली। बताया जा रहा है कि इलेक्शन कमीशन की टीम ने कर्नाटक चुनाव में आचार संहिता के संभावित उल्लंघन को ध्यान में रखते हुए ये तलाशी ली। बता दें कि अमित शाह और राहुल गांधी दो दिन के दौरे पर कर्नाटक पहुंचे थे।

एयरपोर्ट पर ही मौजूद थी टीम

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, मंगलवार को बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह और कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी कर्नाटक पहुंचे थे। दोनों ही नेता अलग-अलग समय पर पहुंचे थे। बताया जा रहा है कि हुबली एयरपोर्ट पर पहले से ही इलेक्शन कमीशन की टी मौजूद थी। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, जैसे ही दोनों नेताओं का प्लेन एयरपोर्ट पर लैंड हुआ, इलेक्शन कमीशन की टीम ने उसकी तलाशी ली। हालांकि, बताया जा रहा है कि दोनों नेताओं के प्लेन से टीम को कुछ भी नहीं मिला है।

क्यों ली गई प्लेन की तलाशी?

जानकारी के मुताबिक, इलेक्शन कमीशन के तीन अधिकारियों की एक टीम हुबली एयरपोर्ट पहुंची थी, जिनमें चुनाव नोडल अधिकारी करपले, हीरे गौड़ा और योगानंद शामिल थे। टीम ने दोनों नेताओं के प्लेन की तलाशी लेने के बाद मीडिया को बताया कि 'कर्नाटक में निष्पक्ष चुनाव कराए जाने के मद्देनजर इलेक्शन कमीशन ने एक अभियान चलाया है, जिसके तहत ही ये तलाशी ली गई।' उन्होंने बताया कि चुनावी आचार संहिता के संभावित उल्लंघन की जांच के लिए दोनों नेताओं के प्लेन की तलाशी ली गई। टीम ने ये भी बताया कि दोनों नेताओं के प्लेन से कोई भी सामान नहीं मिला है।

कर्नाटक में कब है चुनाव?

मंगलवार को इलेक्शन कमीशन ने कर्नाटक विधानसभा चुनावों की तारीखों का ऐलान कर दिया। कर्नाटक की 224 सीटों के लिए 12 मई को वोटिंग होगी, जबकि 15 मई को नतीजे घोषित किए जाएंगे। इलेक्शन कमीशन ने बताया कि 17 से 24 अप्रैल तक नॉमिनेशन भरे जाएंगे। 27 अप्रैल तक नॉमिनेशन वापस लिया जा सकेगा।

कर्नाटक में पिछली बार क्या थे नतीजे?

कर्नाटक में 2013 में विधानसभा चुनाव हुए थे और कांग्रेस ने पूर्ण बहुमत के साथ अपनी सरकार बनाई थी। 2013 के विधानसभा चुनावों में कांग्रेस ने यहां की 224 सीटों में से 122 सीटें जीती थी, जबकि बीजेपी ने 40 और एचडी देवगौडा की जनता दल (सेक्यूलर) ने भी 40 सीटों पर कब्जा किया था। विधानसभा चुनावों में बीजेपी भले ही कुछ खास न कर पाई हो, लेकिन 2014 के लोकसभा चुनावों में बीजेपी ने यहां की 28 सीटों में से 17 सीटें जीती थीं, जबकि कांग्रेस के खाते में सिर्फ 9 सीटें ही गई थीं।