दैनिक भास्कर हिंदी: बोरवेल में फंसे मासूम के लिए मोदी ने की दुआ- 60 फीट की गहराई तक पहुंचा बचाव दल

October 28th, 2019

हाईलाइट

  • 70 फीट तक की गहराई में 3 दिन से फंसा है 2 साल का मासूम सुजीत
  • बेहोश हुआ सुजीत, सांसें अब भी चल रही हैं, दल ने बचाव कार्य किया तेज
  • NDRF के 25 जवानों के साथ स्थानीय पुलिस और प्रशासन की टीम जुटी

डिजिटल डेस्क, चेन्नई। तमिलनाडु के तिरुचिरापल्ली जिले के एक गांव में 3 दिन से बोरवेल में 70 फीट नीचे फंसे 2 साल के मासूम बच्चे की सलामती की दुआ की है। पीएम मोदी ने मुख्यमंत्री ई. पलानिसामी से बच्चे को बचाने के लिए किए जा रहे प्रयासों की जानकारी भी ली। पीएम ने ट्वीट कर कहा कि मेरी दुआएं हिम्मती सुजीत विल्सन के साथ हैं। सुजीत को बचाने के लिए चल रहे बचाव अभियान के संबंध में मुख्यमंत्री ई. पलानिसामी से मेरी बात हुई है। वह सुरक्षित रहे इसके लिए सभी संभव प्रयास किए जा रहे हैं। 

जानकारी अनुसार अब तक 60 फीट तक गड्ढा खोदा जा चुका है। बोरवेल ड्रिलिंग मशीन द्वारा ड्रिलिंग पूरी हो गई है, आगे की ड्रिलिंग एक रिग मशीन द्वारा की जा रही है।

 

गौरतलब है कि शनिवार को बोरवेल में ​गिरे बच्चे को बचाने के लिए बड़े स्तर पर रेस्क्यू ऑपरेशन किया जा रहा है। रेस्क्यू ऑपरेशन कर रहे अधिकारियों बताया कि मौके पर एनडीआरएफ के 25 जवानों के साथ स्थानीय पुलिस और प्रशासन की टीम बच्चे को निकालने का प्रयास कर रही है। इसके अलावा बोरवेल में बच्चे की मूवमेंट पर लगातार नजर रखी जा रही है।

अधिकारी पूर्व में उसे रस्सी की मदद से निकालने का प्रयास कर रहे थे, लेकिन बाद जब सफलता नहीं मिली तो बोरवेल के समानांतर एक मीटर चौड़ी सुरंग बनाने का काम शुरू किया गया। अधिकारियों के मुताबिक सुजीत पहले 26 फीट गहरे गड्डे में गिरा था, लेकिन अचानक वह 70 फीट तक की गहराई तक फिसल गया। अधिकारियों ने बताया कि बच्चा बेहोश हो गया है, हालांकि उसकी सांसें अब भी चल रही हैं। दूसरी तरफ बच्चे को बचाने के लिए एनडीआरएफ, एसडीआरएफ, राज्य पुलिस और स्थानीय प्रशासन की कई टीमें काम कर रही हैं।

राहुल गांधी ने भी सुजीत की सलामती की दुआ
सुजीत सलामती के लिए कांग्रेस पूर्व अध्यक्ष नेता राहुल गांधी ने भी उसकी सलामती की दुआ की है। दूसरी ओर प्रदेश सरकार लगातार स्थितियों पर नजर बनाए हुए हैं। सुजीत को रेस्क्यू करने के लिए मौके पर राज्य सरकार के कई बड़े अधिकारी मौजूद हैं। इसके अलावा तमिलनाडु सरकार के मंत्रियों को भी मौके पर भेजा गया है।