comScore

वकीलों के खिलाफ प्रदर्शन पर दिल्ली पुलिस ने किरण बेदी के लगाए नारे

वकीलों के खिलाफ प्रदर्शन पर दिल्ली पुलिस ने किरण बेदी के लगाए नारे

हाईलाइट

  • दिल्ली पुलिस हेडक्वार्टर के वकीलों के खिलाफ जवानों का विरोध प्रदर्शन
  • तीस हजारी कोर्ट के बाहर वकीलों और पुलिस के बीच हुई थी झड़प

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। दिल्ली की तीस हजारी कोर्ट के बाहर पुलिस और वकीलों के बीच हुई भिड़ंत का मामला बढ़ता ही जा रहा है। मंगलवार सुबह दिल्ली पुलिस हेडक्वार्टर के बाहर हजारों की संख्या में दिल्ली पुलिस के जवान हाथों पर काली पट्टी बांधकर इकट्ठा हुए हैं। ये सभी वकीलों के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं।

हमें किरण बेदी की जरूरत : जवान

वकीलों के खिलाफ दिल्ली पुलिस के विरोध प्रदर्शन पर जवानों ने दिल्ली की पूर्व विशेष पुलिस कमिश्नर किरण बेदी के समर्थन में जमकर नारेबाजी की। उन्होंने नारा लगाया कि 'हमारा कमिश्नर कैसा हो, किरण बेदी जैसा हो।' साथ ही उन्होंने किरण बेदी की तस्वीरें भी दर्शायीं। इन तस्वीरों में लिखा है 'हमें आपकी जरूरत है।'

स्थिति में सुधार : पुलिस कमिश्नर

इस दौरान पुलिस हेडक्वार्टर पहुंचकर कमिश्नर अमूल्य पटनायक ने जवानों को संबोधित किया। पटनायक ने कहा पिछले कुछ दिनों राजधानी में कुछ ऐसी घटनाएं हुई हैं जिन्हें हमने बहुत अच्छी तरह से संभाला है। उसके बाद स्थिति में सुधार हो रहा है।

कमिश्नर पटनायक ने जवानों से शांति बनाए रखने की अपील करते हुए कहा कि हमारे लिए यह समय कोशिश करने का है। उन्होंने कहा कि  हमें कानून व्यवस्था बनाए रखने और उसे आश्वस्त करने की जिम्मेदारी पूरी करने की जरूरत है। उन्होंने जवानों से यह भी कहा कि हम से उम्मीद की जाती है कि हम राजधानी में कानून व्यवस्था को आश्वस्त करेंगे।

मोदी है तो ही मुमकिन है

इसी बीच कांग्रेस ने मोदी सरकार पर हमला बोला है। कांग्रेस नेता रणदीप सुरजेवाला ने अपने ट्वीट में सरकार पर सवाल उठाते हुए लिखा कि 72 साल में पहली बार पुलिस प्रदर्शन पर! क्या ये है भाजपा का न्यू इंडिया? देश को भाजपा कहां ले जाएगी? कहां गुम हैं गृह मंत्री अमित शाह? मोदी है तो ही ये मुमकिन है! 

हमारे साथ ज्यादती हुई : पुलिस

वकीलों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन के लिए उतरे पुलिस जवानों ने कहा कि हमारे साथ ज्यादती की गई है, जो बहुत गलत है। पुलिस का कहना है कि जैसा सही तरीके से दूसरों के साथ बर्ताव किया जाता है, वैसा ही बर्ताव हमारे साथ भी किया जाना चाहिए। इसके साथ ही उनका कहना है कि सभी को कानून के अनुसार समान रूप से सजा मिलनी चाहिए। पुलिस जवानों ने मीडिया से बताया कि वह शांतिपूर्ण तरीके से प्रदर्शन करेंगे और वे कमिश्नर के समक्ष अपनी बात रखेंगे।

इस दौरान एक जवान ने कहा कि पिछले तीन दिनों से पुलिस और आम लोगों से वकीलों द्वारा गलत तरह से व्यवहार किया जा रहा है। साथ ही सीनियर्स भी कोई कार्रवाई नहीं कर रहे हैं। वहीं DCP ने जवानों से कहा कि आप सभी धैर्य रखें, इस मामले पर सिनियर लेवल पर चर्चा की जा रही है। उन्होंने जवानों से यह भी अपील की है कि आप यहां प्रदर्शन न करें और अपनी ड्यूटी पर लौट जाएं।

क्या है मामला ?

दरअसल 2 नवंबर को तीस हजारी कोर्ट में पुलिस और वकील आपस में भिड़ गए। मसला सिर्फ इतना था कि एक वकील को पुलिस जवानों ने कोर्ट के एक लॉकअप में जाने से रोक दिया। इसके बाद दोनों पक्षों के बीच कहासुनी बढ़ती ही चली गई और मामला यहां तक पहुंच गया कि पुलिस को फायरिंग तक करनी पड़ी। इसके जवाब में वकीलों ने भी पुलिस जीप सहित कई वाहनों को आग के हवाले कर दिया और जमकर तोड़फोड़ भी की।

कमेंट करें
cSCNo