दैनिक भास्कर हिंदी: केरल में कठुआ गैंगरेप को लेकर पोस्टर्स - 'घर में रहती हैं बच्चियां, दूर रहें बीजेपी वर्कर'

April 15th, 2018

डिजिटल डेस्क, तिरुवनंतपुरम। पूरे देश को झकझोर देने वाले कठुआ गैंगरेप मामले को लेकर अब केरल के लोगों में भी उबाल आ गया है। इस घटना को लेकर यहां के लोग भाजपा पर आक्रोश व्यक्त कर रहे हैं। यहां के लोग रैली या धरना नहीं बल्कि पोस्टर्स लगाकर अपना गुस्सा दिखा रहे हैं। कुछ घरों के बाहर 'एंटी बीजेपी पोस्टर लगाए गए हैं जिनमें बीजेपी को 'बलात्कारी जनता पार्टी' नाम दिया गया है। इसके साथ लिखा गया है कि 'इस घर में 10 साल से कम उम्र की लड़कियां रहती हैं इसलिए वोट मांगने वाले बीजेपी के उम्मीदवार घर से दूर रहें।




जल्द होने वाले हैं विस उपचुनाव
हालांकि इस घटना के बाद से सत्ता पर काबिज भाजपा के खिलाफ देशभर में आवाजें उठ रही हैं लेकिन केरल में इस तरह के विरोधी अभियान से बीजेपी को भारी नुकसान सहना पड़ सकता है। क्योंकि विरोध ऐसे वक्त पर तेज हो रहा है जब चेंगन्नूर विधानसभा सीट के लिए जल्द ही उपचुनाव होना है। जानकारी के मुताबिक केसरिया धोती पहनने वाले, हाथों में कलावा और माथे पर तिलक लगाने वाले बीजेपी समर्थकों और कार्यकर्ताओं को जनता खारिज कर रही है। कुछ पोस्टर्स में लिखा गया है कि वोट मांगने वाले बीजेपी समर्थक अपने पर्चे घर के बाहर ही छोड़ दें। हालांकि बीजेपी के खिलाफ इस विरोध अभियान को लेकर बीजेपी के नेताओं की ओर से अभी कोई खास प्रतिक्रिया नहीं आई है। पोस्टर्स में मैसेज मलयालम भाषा में लिखे गए हैं और अब इन्हें सोशल मीडिया पर भी खूब शेयर किया जा रहा है। 

 


क्या है पूरा मामला
गौरतलब है कि इसी साल जनवरी में जम्मू-कश्मीर के कठुआ में एक 8 वर्षीय मासूम आसिफा को अगवा कर कई दिनों तक उसके साथ गैंगरेप करने के बाद उसका निर्ममता से मर्डर कर दिया गया था। लंबे समय तक चली जांच में खुलासा होने के बाद से देश भर में गुस्सा देखा जा रहा है। आम जनता से लेकर दिग्गज हस्तियां अपना गुस्सा जाहिर कर रही हैं। इस घटना में अब तक आठ लोग गिरफ़्तार किए जा चुके हैं जिनमें चार पुलिसकर्मी भी शामिल हैं। इन पुलिसकर्मियों पर सबूत मिटाने के भी आरोप हैं। इस मामले ने तूल तब पकड़ा जब हिंदू एकता मंच नाम के एक संगठन ने आरोपियों के समर्थन में तिरंगा यात्रा निकाली। इसमें जम्मू-कश्मीर की बीजेपी-पीडीपी सरकार में शामिल बीजेपी के दो मंत्री भी पहुंचे थे। विवाद बढ़ने के बाद दोनों मंत्रियों ने अपने इस्तीफे पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष को सौंप दिए थे।


सोशल मीडिया पर न्याय की मांग
वहीं बच्ची को न्याय दिलाने के लिए सोशल मीडिया पर भी कई तरह के अभियान चलाए जा रहे हैं। कठुआ के इसी मामले को लेकर फेसबुक पर की गई एक आपत्तिजनक पोस्ट को लेकर केरल में कोटक महिंद्रा बैंक ने अपनी कोच्चि ब्रांच के असिस्टेंट मैनेजर विष्णु नंदकुमार को नौकरी से निकाल दिया है। विष्णु नंदकुमार ने फेसबुक पर आपत्तिजनक पोस्ट डाली थी।