दैनिक भास्कर हिंदी: विवादों के बीच तीन दिनों के लिए लड़ाकू विमान राफेल भारत पहुंचा

September 4th, 2018

हाईलाइट

  • लड़ाकू विमान राफेल पहुंचा भारत।
  • भारतीय वायुसेना के ग्वालियर बेस से उड़ान भरेगा राफेल।
  • विपक्ष ने डील को बताया था वैश्विक भ्रष्टाचार।

डिजिटल डेस्क, नई दिल्ली। देश में पिछले कुछ महीनों से राफेल विमान सौदे को लेकर सियासी घमासान मचा हुआ है। तमाम विवादों के बीच तीन राफेल विमान फ्रांस से ऑस्ट्रेलिया होते हुए भारत पहुंचे, यह विमान भारतीय वायुसेना के ग्वालियर बेस पर पहुंचे हैं। यह तीनों विमान फ्रांस के उस दल में शामिल हैं जो जिसने आस्ट्रेलिया में संपन्न हुई 'पिच ब्लैक' एक्सरसाइज में हिस्सा लिया था, इस अभ्यास में भारतीय वायुसेना भी शामिल हुई थी।

साथ में उड़ान भरेगी दोनों देश की वायुसेना
फ्रांस के तीन लड़ाकू राफेल विमानों का यह बेड़ा आस्ट्रेलिया से लौटते हुए शनिवार को भारतीय वायुसेना के ग्वालियर बेस पहुंचा, यहां फ्रांस का ये दल 3 दिन तक रुकेगा। इस दौरान दोनों देशो की सेनाएं साथ में उड़ान भरेंगी।

इसी महीने भारत आएंगे राफेल विमान
भारत ने फ्रांस से 36 राफेल लड़ाकू विमानों को खरीदा हैं, इसकी पहली खेप सितंबर 2019 तक भारत आनी है। भारतीय वायुसेना के अबांला एयरबेस पर राफेल की पहली स्कॉवड्रन बनाई जाएगी। इसका नाम गोल्डन एरो रखा जाएगा, वहीं दूसरी स्कावड्रन उत्तरी बंगाल के हाशिमारा में बनाई जाएगी।

विपक्ष ने डील को बताया वैश्विक भ्रष्टाचार 
कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर फिर निशाना साधते हुए कहा था कि, 'राफेल में वैश्विक भ्रष्टाचार हुआ है, आने वाले सप्ताहों में यह और बम बरसाने वाला है। राहुल ने फ्रांस के पूर्व राष्ट्रपति फ्रांस्वा ओलांद के पार्टनर के साथ अनिल अंबानी की कंपनी रिलायंस एंटरटेनमेंट के एग्रीमेंट और राफेल डील की टाइमिंग पर सवाल उठाए हैं। राहुल ने कहा कि मोदीजी फ्रांस में बड़ी दिक्कत है, कृपया अनिल से कह दीजिए। राहुल इस मामले की जांच के लिए संसदीय समिति (जेपीसी) बनाने की मांग कर रहे हैं।
 

खबरें और भी हैं...